Nationalwheels

@YESBANK के ग्राहकों में बेचैनी, पुनरुद्धार योजना लाया @TheOfficialSBI, वित्त मंत्री और @RBI भी मैदान में

@YESBANK के ग्राहकों में बेचैनी, पुनरुद्धार योजना लाया @TheOfficialSBI, वित्त मंत्री और @RBI भी मैदान में

भारतीय रिजर्व बैंक के प्रतिबंधों के बाद एस बैंक के ग्राहकों में बेचैनी है

न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स
भारतीय रिजर्व बैंक के प्रतिबंधों के बाद एस बैंक के ग्राहकों में बेचैनी है. एस बैंक की शाखाओं और एटीएम के बाहर शुक्रवार की सुबह से ही ग्राहकों की कतारें लग गईं जो देर शाम तक लगी रहीं. लोगों में इस बात को लेकर चिंता है कि उनके बचत खाता का पैसा भी उनकी जरूरत पर नहीं मिलेगा. कई जगहों पर लोगों ने हंगामा भी काटा. आरबीआई की ओर से निकासी को सीमित किए जाने के बाद यह भी जानकारी में आया है कि निजी क्षेत्र के कुछ बैंकों ने एस बैंक के ग्राहकों और कर्मचारियों से संपर्क करना शुरू कर दिया है. एस बैंक पर प्रतिबंधों के बाद राजनैतिक हलचल तेज है. कांग्रेस और समाजवादी पार्टी ने केंद्र सरकार पर तरह-तरह से हमला बोला.

देशभर में ग्राहकों में फैली बेचैनी को देखते हुए @RBI ने कहा कि @YESBANK के लिए एक पुनरुद्धार योजना का मसौदा तैयार किया गया है. @YESBANK  को केंद्रीय बैंक के नियंत्रण में रखा गया है. भारतीय रिजर्व बैंक के सबसे बड़े बैंक एसबीआई ने यस बैंक में निवेश करने और अपनी पुनर्निर्माण योजना में भाग लेने की इच्छा व्यक्त की है.
उधर, भारतीय स्टेट बैंक (@TheOfficialSBI) के अध्यक्ष #RajnishKumar ने शुक्रवार को यस बैंक की समस्या के बारे में कहा @YESBANK “ऋणदाता-विशिष्ट” है. यह एक संरचनात्मक मुद्दा नहीं है. उन्होंने यह भी कहा कि किसी को घबराने की कोई जरूरत नहीं है.
शाम होते-होते वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण भी मीडिया के सामने आ गईं. यस बैंक के मामले में शुक्रवार शाम प्रेस कांफ्रेंस उन्होंने कहा है कि यस बैंक का मामला कल ही प्रकाश में नहीं आया है. बल्कि हम लंबे समय से इसे देख रहे हैं. उन्होंने कहा कि आरबीआई साल 2017 से इस मामले पर बारीकी से नजर रखे हुए है. मई 2019 से वे खुद सीधे तौर पर मामले से जुड़े कार्य देख रही हैं. उन्होंने कहा कि सरकार लगातार मामले पर नजर बनाए हुए है. जमा और देनदारियों पर असर नहीं पड़ेगा. करीब एक साल तक के लिए नौकरियां और वेतन सुरक्षित होने का आश्वासन दिया जाता है.
गौरतलब है कि गुरुवार को आरबीआई ने नकदी संकट से जूझ रहे यस बैंक के निदेशक मंडल को भंग कर दिया था. साथ ही बैंक के जमाकर्ताओं के लिए एक महीने में 50,000 रुपये की निकासी की सीमा भी तय कर दी थी.

Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *