Nationalwheels

पूर्णिमा के चांद को अजीबोगरीब घटना से क्यों जोड़ा जाता है

पूर्णिमा के चांद को अजीबोगरीब घटना से क्यों जोड़ा जाता है
न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स
आज 13 अक्टूबर 2019 हम भारत के लोग इसे शरद पूर्णिमा के रूप में मना रहा है। हर माह पूर्णिमा आती है, चांद आसमान में खूबसूरत सा दिखाई देता है।  लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि ऐसी बहुत सी कहानियां क्यों सुनाई देती है कि पूर्णिमा का चांद अपने साथ कुछ अजीबोगरीब घटना लेकर आता है।
खुले सुनसान जंगल में तैनात फॉरेस्ट ऑफिसर्स, साथ ही कुछ साइंस के टीचर और कुछ यात्री अक्सर यह कहते हुए सुने गए हैं कि पूर्ण चंद्रमा की रात में वे अपने दिमाग पर काबू खो देते है। प्रकृति, जानवर और खुद इंसान भी अजीबोगरीब व्यवहार करने लगता है, इसे ही लुनेसी Lunacy कहते है। लुनेसी शब्द का अर्थ सीधे-सीधे हिंदी में “पागलपन” है और यह लूना शब्द लैटिन वर्ड से आया हैं जहां पर इसका अर्थ चांद होता है।
विज्ञान भी कहता है कि चंद्रमा पूर्णिमा के दिन ज्वार भाटा को नियंत्रित करता है। गुरुत्वाकर्षण ऊर्जा के फलस्वरूप वह ज्वार भाटे को प्रभावित करता है। बिल्कुल उसी तरह कुछ साइंस के विद्यार्थियों का और अनहोनी घटना का सामना करने वाले लोगों का मानना है कि चंद्रमा की गुरुत्वाकर्षण शक्ति इंसानों के दिमाग, जानवरों के दिमाग और प्रकृति के व्यवहार को भी परिवर्तित करती है। पर आज शरद पूर्णिमा के दिन आप वैज्ञानिकों की माने और अपने दिमाग से इस तरह के भ्रम को पूरी तरह से खत्म कर दे।
Emory university के प्रोफेसर Scott Lilienfeld का कहना है कि अक्सर यह देखा गया है कि जंगली इलाकों में अक्सर करके कार एक्सीडेंट पूर्णिमा की रात को ज्यादा देखने को मिलती है। प्रोफेशर ने इसका कारण भी बताया एक सर्वे के अनुसार इसका कारण यह भी है कि पूर्णिमा अक्सर करके छुट्टियों के दिन पर पड़ती है इसलिए यह घटनाएं उस दिन ज्यादा देखने को मिल सकती है। लेकिन इस तरह की घटनाओं का चांद से या पूरे चांद से कोई संबंध नहीं है।
प्रोफेसर का यह भी कहना है कि चांद और Lunacy का संबंध क्या है? इस पर अभी खोज जारी है जब तक खोज का परिणाम सही रूप से प्राप्त नहीं होता तब तक किसी भी अनहोनी घटना के लिए पूर्णिमा के चांद को दोष देना सही नहीं है।

Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *