Nationalwheels

आपके किचेन में ही है यूरिक एसिड के दुष्प्रभाव का इलाज

आपके किचेन में ही है यूरिक एसिड के दुष्प्रभाव का इलाज
न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स

डॉ. एसके राय

पैर के अंगूठे और अंगुलियों में काफी दर्द है। शरीर के जोड़ों में काफी पीड़ा है। तो संभावना है कि आपके शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ गई हो। इसके इलाज के लिए एलोपैथ , होमियोपैथ , यूनानी आदि पैथी में इलाज की व्यवस्था है। लेकिन आपके किचेन यानी रसोई घर में कई वस्तुएं मौजूद हैं, जिनके लगातार सेवन और परहेज से आप इस बीमारी से निजात पा सकते हैं। तो आइए बताते हैं कि आपको क्या प्रयोग करना चाहिए और क्या परहेज करना चाहिए।
क्या है यूरिक एसिड?
शरीर को प्रोटीन से ऐसा एमिनो अम्ल मिलता है, जो कार्बन, हाइड्रोजन, ऑक्सीजन और नाइट्रोजन जैसे तत्वों से बना होता है। यह तत्व यूरिन के रास्ते शरीर से बाहर निकल जाता है लेकिन शरीर में इसकी मात्रा बढ़ने से वो हड्डियों में जमा होने लगता है, जिसे यूरिक एसिड कहा जाता है। कमजोर इम्यून सिस्टम वाले लोग इसकी चपेट में जल्दी आ जाते हैं। साथ ही जरूरत से ज्यादा प्रोटीन डाइट भी यूरिक एसिड का कारण बनती है। इसके अलावा 35 साल की उम्र से ज्यादा के लोग इस परेशानी से जल्दी घिर जाते हैं।
यूरिक एसिड बढ़ने के लक्षण
पैरों-जोड़ों में दर्द
एड़ियों में दर्द
गांठों में सूजन
सोते समय पैर में जकड़न
लगातार बैठने और उठने में एड़ियो में असहनीय दर्द
शुगर लेवल का बढ़ना
यूरिक एसिड से निजात के लिए खाएं ये चीजें
हल्दी
एंटी-बैक्टीरियल, एंटीफंगल और एंटीसेप्टिक गुणों से भरपूर हल्दी बॉडी को डिटॉक्स करने के साथ यूरिक एसिड को भी खत्म करती है। इसके लिए एक गिलास गर्म पानी में एक चम्मच हल्दी मिलाकर रोजाना सुबह खाली पेट पीएं। इसके अलावा आप इसे लो फैट दूध व सब्जी में डालकर भी पी सकते हैं।
मेथी दाना
एक चम्मच मेथी दाने को रातभर पानी में भिगोकर रख दें। सुबह इसका पानी पी लें और मेथी दानें को खा लें। इससे आपको कुछ दिन में ही फर्क दिखने लगेगा। मेथी दाना एंटीऑक्सीडेंट व एटीसेप्टिक गुणों से भरपूर होता है।
अजवाइन
रोजाना सुबह-सुबह अजवाइन खाएं। इसका पानी के साथ भी सेवन कर सकते हैं। इससे बॉडी डिटॉक्स हो जाती है और एसिड यूरिन के रास्ते शरीर से बाहर निकल जाता है। आप चाहें तो इसे सब्जी व दालों में भी इस्तेमाल कर सकते हैं।
अदरक
एक गिलास पानी में अदरक उबालकर रोजाना पीएं।  इसमें शहद मिलाकर भी पी सकते हैं। इसके अलावा अदरक के टुकड़े पर काला नमक लगाकर खाने से भी यूरिक एसिड की समस्या दूर होती है।
पानी
दिनभर में कम से कम 8-9 गिलास पानी पीने से धीरे-धीरे यूरिक एसिड कम हो जाता है। दरअसल, पानी पीने से शरीर से विषैले टॉक्सिंस यूरिन के रास्ते बाहर निकल जाते हैं, जिससे इस परेशानी से रहत मिलती है।
सेब का सिरका
रोजाना 2 चम्मच सेब का सिरका एक गिलास पानी में मिलाकर दिन में 3 बार पिएं। कुछ ही दिनों में फर्क दिखाई देने लगेगा।
हरा धनिया
हरा धनिया एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होता है और एक तरह से डाइयूरेटिक की तरह काम करता है। इसका व इसके जूस का भरपूर सेवन करना गठिया और अन्य तकलीफों से निजात दिलाएगा।
नीबू
विटामिन सी से भरपूर फलों का प्रयोग करें। नीबू आमतौर पर सबके किचेन में रहता है। यदि इसे पानी में डालकर प्रयोग किया जाए तो काफी राहत मिल सकती है। इसके अलावा खाने में फाइबरयुक्त पदार्थों का प्रयोग करें, यह इसे अवशोषित कर शरीर से बाहर करने में मदद करता है।
इन चीजों से करें परहेज
शराब, धूम्रपान और सिगरेट से दूरी बनाएं।
रात को सोते समय दूध या छिलके वाली दाल का सेवन ना करें।
खट्टी चीजें जैसे दही व आचार से भी परहेज करें।
फास्ट फूड, कोल्ड ड्रिंक्स व पैक्ड फूड का प्रयोग न करें
अंडा, मांस और मछली से भी दूर रहे।
खाने में बटर का इस्तेमाल कम करें।
रेड मीट (लाल रंग के मांस), सी फूड, रेड वाइन, दाल, राजमा, मशरूम, गोभी, टमाटर, पालक, मटर, पनीर, भिन्डी, अरबी, चावल आदि के अधिक मात्रा में सेवन से भी यूरिक एसिड बढ़ जाता है।
कहने का तात्पर्य ये है कि ज्यादा प्रोटीन वाले पदार्थों को लेने से परहेज करें।
(लेखक जगोत्तम क्लीनिक, एमजी मार्ग ( मैक्स के पीछे ) सिविल लाइंस , प्रयागराज  के निदेशक हैं।)

 

Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *