Dayalpur railway station Sahara, दयालपुर रेलवे स्टेशन बचाने के लिए लोकसभा चुनाव बहिष्कार का सहारा, महापंचायत पांच को

दयालपुर रेलवे स्टेशन बचाने के लिए लोकसभा चुनाव बहिष्कार का सहारा, महापंचायत पांच को

Dayalpur railway station Sahara, दयालपुर रेलवे स्टेशन बचाने के लिए लोकसभा चुनाव बहिष्कार का सहारा, महापंचायत पांच को
न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स
प्रयागराज के फूलपुर लोकसभा क्षेत्र में स्थित दयालपुर रेलवे स्टेशन को बचाने के लिए आसपास के ग्रामीणों को लोकसभा चुनाव का बहिष्कार सहारे के रूप में दिख रहा है. उत्तर रेलवे के प्रयागराज-प्रतापगढ़ सेक्शन में पड़ने वाला यह हॉल्ट स्टेशन अब पूरी तरह बंदी की कगार पर है. वर्तमान में यहां सरयू एक्सप्रेस, फैजाबाद-प्रयागघाट की दो जोड़ी पैसेंजर, प्रयागघाट-लखनऊ पैसेंजर जैसी ट्रेनें रुकती हैं लेकिन ग्रामीणों को अंदेशा है कि हॉल्ट की सुविधा भी बंद होने से ट्रेनों का ठहराव भी बंद हो सकता है. इसे लेकर आसपास के ग्रामीण सशंकित हैं.
ग्रामीण लोकसभा चुनाव के दौरान दयालपुर रेलवे स्टेशन को क्षेत्र का मुद्दा बनाना चाहते हैं. शनिवार को तीन गांवों के करीब 150 लोगों ने स्टेशन पहुंचकर अपनी मांगों को उठाने की कोशिश की लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं था. दयालपुर के शरीफ खान और रफीक का कहना है कि पूर्व में यह ई श्रेणी का स्टेशन था. बाद में रेलवे ने टिकटों की बिक्री कम होने का दावा करते हुए ई श्रेणी का स्टेशन खत्म कर इसे हॉल्ट के रूप में बदल दिया. साथ ही इसे ठेके पर दे दिया गया. अब ट्रेन तो रुकती है लेकिन टिकट नहीं बिकता.

Dayalpur railway station Sahara, दयालपुर रेलवे स्टेशन बचाने के लिए लोकसभा चुनाव बहिष्कार का सहारा, महापंचायत पांच को

ग्रामीणों का दावा है कि इस मुद्दे को स्थानीय विधायक और पिछले कई सांसदों के सामने उठाया गया लेकिन किसी ने इस मुद्दे को पुरजोर तरीके से नहीं उठाया. बताते हैं कि करीब 15 गांवों के लोग शहर जाने और शहर से वापसी के लिए दयालपुर से ही ट्रेन पकड़ते हैं. सुबह और शाम को सरयू एक्सप्रेस से बड़ी संख्या में दैनिक यात्री भी चलते हैं. अन्य पैसेंजर ट्रेनों से भी आसपास के गांवों के लोगों का आना-जाना होता है.

Dayalpur railway station Sahara, दयालपुर रेलवे स्टेशन बचाने के लिए लोकसभा चुनाव बहिष्कार का सहारा, महापंचायत पांच को

स्टेशन को बचाने के लिए रविवार को ग्रामीणों ने महापंचायत बुलाई है जो स्टेशन परिसर में ही आयोजित की जानी है. इसमें बड़ी संख्या में लोग जुट सकते हैं. ग्रामीणों ने इसके लिए गांवों में जागरूकता कार्यक्रम भी चलाया है. पत्रकार मनीष शुक्ल का कहना है कि ग्रामीण लोकसभा चुनाव बहिष्कार का फैसला कर सकते हैं. यह स्टेशन सोरांव तहसील से करीब आठ किमी की दूरी पर सेवइत और मऊआइमा स्टेशनों के मध्य में है.

 

Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

3 Comments

  • अशोक , May 9, 2019 @ 10:15 am

    Dayalpur Railway station should be revived by the Norther Railway Authorities

  • अशोक , May 9, 2019 @ 10:17 am

    Dayalpur Railway station situated between Sewaith and Mau Aima Railway station should be revived by the Northern Railway Authorities.

  • अशोक , May 9, 2019 @ 10:24 am

    Lok Sabha Debates

    Need To Re-Open Dayalpur Railway Station In Uttar Pradesh. on 9 December, 2013

    > Title: Need to re-open Dayalpur railway station in Uttar Pradesh.

    श्री कपिल मुनि करवारिया (फूलपुर): दयालपुर रेलवे स्टेशन उत्तर प्रदेश का इलाहाबाद शहर से चालीस किलोमीटर दूर का स्टेशन है जहाँ से प्रतिदिन सैकड़ों अधिवक्ता, छात्र, व्यापारी व कर्मचारी तथा बुनकर व्यवसायी कार्य के सिलसिले में इलाहाबाद आते जाते है । दयालपुर व धीरगंज हाल्ट स्टेशनों को वाणिज्यिक आधार पर वर्ष 2006 में बन्द कर दिया गया था । दयालपुर व इसके आस-पास के क्षेत्रों में बुनकरी का व्यवसाय भारी मात्रा में होत है । लोगों को इलाहाबाद शहर से कच्चा माल लाने हेतु आने-जाने में बहुत परेशानी होती है तथा समय व श्रम का भी नुकसान होता है । दयालपुर के साथ ही धीरगंज हाल्ट स्टेशन को भी बंद कर दिया गया था जिसे पुनः बहाल कर दिया गया है परंतु दयालपुर हाल्ट स्टेशन को अभी तक बहाल नहीं किया गया है ।

              सरकार से अनुरोध है कि जनहित को देखते हुए दयालपुर हाल्ट स्टेशन को पुनः बहाल कराकर चालू करायें जिससे बुनकर व्यवसायिओं को कच्चा माल लाने ले जाने व छात्रों, अधिवक्ताओं आदि को इलाहाबाद शहर आने जाने में सुविधा हो सके ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *