वोटिंग के बाद तीन तलाक बिल लोकसभा में पास, विरोध में केवल 11 वोट

        

मोदी सरकार का बहु प्रतीक्षित तीन तलाक बिल यानी मुस्लिम महिला विवाह अधिकार संरक्षण विधेयक-2018 लोक सभा में गुरुवार को पास हो गया. बिल को कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने सदन में प्रस्तुत किया. साथ ही सदस्यों से आह्वान किया कि इसे राजनीतिक चश्में से न देखें, यह मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों से जुड़ा मामला है. कांग्रेस और टीएमसी इस बिल को ज्वाइंट सेलेक्ट कमेटी में प्रस्तुत करने की मांग उठाई. हालांकि, वोटिंग के बाद विधेयक के पक्ष में 245 और विरोध में 11 वोट पड़े. स्पीकर ने तीन तलाक बिल पारित होने के बाद लोकसभा की कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित कर दी.
खेल राज्य मंत्री राज्य वर्द्धन राठौर ने कहा कि तीन तलाक बिल पर मतदान के दौरान कांग्रेस के सदस्यों ने वॉक आउट किया. इससे उनकी वोटबैंक की राजनीति उजागर हो गई है. वे इसे राज्यसभा में रोकने का प्रयास कर सकते हैं. हम सभी की मजबूती और साथ लेकर चलने के लिए काम करते हैं.
दूसरी ओर इस बिल के पारित होने के बाद कांग्रेस, टीएमसी, एआईएम नेता ओवैसी समेत सपा नेता आजम खां ने तीखी प्रतिक्रिया दी है. कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि यह बिल संविधान के विपरीत प्रस्तुत किया गया. यह मौलिक अधिकारों के खिलाफ है. हम मुस्लिम महिलाओं को न्याय दिलाने के लिए बिल ज्वाइंट सेलेक्ट कमेटी में भेजने की मांग कर रहे थे. उन्होंने लोक सभा चुनाव को ध्यान में रखकर इसे पास कराया है. 

एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन ओवैसी ने तीन तलाक बिल पास होने पर कहा कि ये कानून सिर्फ और सिर्फ मुस्लिम महिलाओं को सड़क पर लाने का है. उनको बर्बाद और कमजोर करनाहै. और जो मुस्लिम मर्द हैं उनके जेल में डालने का है. यही इस कानून का गलत इस्तेमाल होगा. आप देखना.

तीन तलाक विधेयक पर समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता व पूर्व कैबिनेट मंत्री आजम खान ने गुरुवार को रामपुर में कहा कि इस विधेयक से हिंदुस्तान के मुसलमानों का कोई ताल्लुक नहीं है. उन्होंने कहा, “तलाक के मामले में हिंदुस्तान ही नहीं, पूरी दुनिया के मुसलमान कुरान के कानून को मानते हैं. मुसलमान कुरान और हदीस के मुताबिक चलता है. इसमें पूरी प्रक्रिया दी गई है. ऐसे में हमारे लिए कुरान के अलावा कोई कानून मान्य नहीं है.”

 

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

NationalWheels will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.