इन वजहों से निर्माण से पहले ही चर्चित हो गया स्टैच्यू अॉफ यूनिटी से जुड़ा केवड़िया रेलवे स्टेशन

        
स्टैच्यू अॉफ यूनिटी यानी लौह पुरुष सरदार बल्लभभाई पटेल की प्रतिमा को देखने के लिए अब लोगों को सड़क मार्ग का ही सहारा नहीं रहेगा. सरदार सरोवर परियोजना स्थल को पर्यटन का केंद्र बनाने के लिए अब रेलवे का दरवाजा भी खुल गया है. रेलवे प्रतिमा स्थल के सबसे नजदीकी कस्बे केवड़िया में नया और अत्याधुनिक रेलवे स्टेशन का निर्माण करने जा रहा है. 
उधर, केवड़िया रेलवे स्टेशन का निर्माण होना अभी शेष है लेकिन बनने के पहले ही यह अपनी खूबियों को लेकर चर्चा में आ गया है. भारतीय रेलवे का यह पहला स्टेशन घोषित कर दिया गया है जो ग्रीन रेलवे स्टेशन के रूप में जाना जाएगा. निर्माण के पहले चरण से ही इसे ग्रीन बिल्डिंग प्रमाण पत्र के रूप में इसे निर्धारित किया गया है.

केवड़िया को चांदोद से रेलवे कनेक्टिविटी प्रदान की जाएगी.
शनिवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद स्टैच्यू अॉफ यूनिटी को देखने के लिए पहुंचे. इसके साथ ही वह केवड़िया रेलवे स्टेशन की आधारशिला भी रखी. रेल मंत्री पियुष गोयल भी उनके साथ रहे. रेलमंत्री ने शनिवार की सुबह ट्वीट कर इस समारोह की जानकारी सोशल मीडिया पर भी साझा किया है. यह 663 करोड़ की लागत से यह परियोजना है. प्रतापनगर से 30 किमी डभोई तक बड़ी लाइन रेलमार्ग है. डभोई से चांदोद तक 18 नैरो लाइन है. इसे बदलकर ब्रॉडगेज लाइन बनाया जाएगा. चांदोद से केवड़िया तक 32 किमी नई लाइन बनेगी.

स्टैच्यू अॉफ यूनिटी को अंतरराष्ट्रीय स्तर का पर्यटन केंद्र बनाने के लिए रेलवे भी परियोजनाओं के जरिए साझीदार बन रहा है. राष्ट्रपति केवड़िया रेलवे स्टेशन का शिलान्यास करने के साथ ही रेल लाइन और स्टेशन परियोजना की आधारशिला भी रखेंगे. समारोह में राष्ट्रपति के साथ गुजरात के राज्यपाल ओम प्रकाश कोहली, रेलमंत्री पियुष गोयल, मुख्यमंत्री विजय रूपाणी भी मौजूद रहे. इसके साथ ही राष्ट्रपति और रेलमंत्री ने देश के पहले रेलवे विश्वविद्यालय की आधारशिला भी रखी.

रोजगार का नया रास्ता

रेल मंत्री ने कहा है कि रेलवे स्टेशन और नई रेल लाइन के निर्माण से बड़ी संख्या में स्थानीय लोगों को रोजगार के नए अवसर भी खुलेंगे. नई रेलवे लाइन पर कई छोटे स्टेशनों के भी निर्माण प्रस्तावित हैं. केवड़िया रेलवे स्टेशन को दिल्ली-मुंबई मुख्य रेलमार्ग से भी कनेक्टिविटी रहेगी, जिससे दिल्ली से ट्रेन के जरिए सीधी केवड़िया यानी स्टैच्यू अॉफ यूनिटी तक पहुंचा जा सके. रेलवे स्टेशन से प्रतिमा स्थल की दूरी पांच किमी है.

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

NationalWheels will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.