Nationalwheels

70 साल का हुआ दुनिया का सबसे बड़ा सैन्य संगठन #NATO`s

70 साल का हुआ दुनिया का सबसे बड़ा सैन्य संगठन #NATO`s
न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स
दुनिया का सबसे बड़ा सैन्य गठबंधन उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन या नाटो 4 अप्रैल को 70 साल का हो रहा है. वर्तमान में संगठन में 30 सदस्य हैं. 2019 की फरवरी में नाटो में उत्तर मैसेडोनिया गणराज्य शामिल हुआ है. यह संगठन का 30वां सदस्य देश है. इसके पहले 29 सदस्य देश रहे.
1949 में तत्कालीन सोवियत संघ के विस्तार और सैन्य ताकत का मुकाबला करने के लिए पश्चिमी देशों द्वारा स्थापित नाटो बताता है कि वह राजनीतिक और सैन्य माध्यमों से अपने सदस्यों की स्वतंत्रता और सुरक्षा की गारंटी चाहता है. शुरुआत में संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा और यूरोप के 10 देशों ने मिलकर नाटो को शुरू किया. धीरे-धीरे इसके सदस्य देशों की संख्या में इजाफा होता गया. सोवियत संघ के बिखराव के बाद भी नाटो के विस्तार का क्रम जारी है. 
इस साल फरवरी में नाटो राज्यों ने मैसिडोनिया के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए, जिसे अब आधिकारिक तौर पर उत्तर मैसेडोनिया गणराज्य के रूप में जाना जाता है. जो बाल्कन राष्ट्र के सैन्य गठबंधन का 30 वां सदस्य है.

नाटो इस सिद्धांत के लिए प्रतिबद्ध है कि उसके एक या कई सदस्यों के खिलाफ हमला सभी के खिलाफ हमला माना जाता है. यह सामूहिक रक्षा का सिद्धांत है जो वाशिंगटन संधि के अनुच्छेद-5 में निहित है. इसी आधार पर सैन्य गठबंधन की स्थापना की गई थी.
सोवियत संघ की मजबूती के दिनों में दुनिया के दोनों सबसे ताकतवर संगठनों के सदस्य देशों के बीच अक्सर तलवारें खिंची दिखती थीं. 1989 में बर्लिन की दीवार गिरने और सोवियत संघ के पतन के बाद नाटो ने अपना मुख्य विरोधी खो दिया. 1990 के दशक के उत्तरार्ध से सैन्य गठबंधन ने पूर्व सोवियत संघ के प्रभाव क्षेत्र में पूर्व की ओर विस्तार किया, जिसमें एक दर्जन पूर्वी यूरोपीय और बाल्कन देशों के सदस्य शामिल थे.
नीचे दिए गए ग्राफिक्स से नाटो के विस्तार की कहानी को समझा जा सकता है. नज़र है कि कैसे नाटो की सदस्यता पूर्व की ओर विकसित हुई है और इसके 70 वर्षों के कुछ आकर्षण हैं.


Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *