Nationalwheels

#Tamilnadu में शराब कारोबारी समूह से पकड़ी गई 700 करोड़ रुपये की आयकर चोरी

#Tamilnadu में शराब कारोबारी समूह से पकड़ी गई 700 करोड़ रुपये की आयकर चोरी
न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स
आयकर विभाग ने तमिलनाडु के एक शराब कारोबारी से जुड़े ठिकानों पर छापेमारी कर करीब 700 करोड़ रुपये कर कर चोरी का खुलासा किया है. इस अभियान के दौरान तमिलनाडु, केरल, गोवा और आंध्र प्रदेश के 55 स्थानों पर 6 अगस्त को एक साथ छापेमारी की गई. इसमें खोज और जब्ती ऑपरेशन चलाया गया. बताया गया है कि  यह समूह तमिलनाडु में बीयर और आईएमएफएल के प्रमुख उत्पादकों में से एक है.
आयकर विभाग ने चेन्नई, कोयम्बटूर, तंजावुर आदि सहित तमिलनाडु के विभिन्न स्थानों और केरल, आंध्र प्रदेश और गोवा में 55 स्थानों पर बीते मंगलवार को तड़के तलाशी की कार्रवाई शुरू की. इस छापेमारी की जद में कंपनी के प्रमोटरों, प्रमुख कर्मचारियों और सामग्रियों के कुछ आपूर्तिकर्ताओं के निवास परिसर भी शामिल थे.
बताया गया है कि खोज कार्रवाई कई महीनों से एकत्र की गई खुफिया जानकारी पर आधारित थी कि व्यावसायिक समूह शराब की उत्पादन प्रक्रियाओं में प्रयुक्त सामग्री पर अपना खर्च बढ़ाकर बड़े पैमाने पर कर चोरी में लिप्त था. सर्च एक्शन के दौरान सर्च टीमों को समूह के तौर-तरीके के प्रमाण मिले. मॉडस ऑपरेंडी में कच्चे माल और बोतलों की खरीद हकीकत से अधिक कीमत में दिखाया गया, जो उत्पादन की लागत का एक बड़ा हिस्सा था.
यही नहीं, आयकर विभाग को चकमा देने की साजिश के तहत फर्जीवाड़े को वास्तविकता के रंग में ढालने के लिए आपूर्तिकर्ताओं ने चेक या आरटीजीएस द्वारा गलत तरीके से फुलाए गए मूल्य के हिसाब से भुगतान प्राप्त किया. बाद में समूह के प्रमुख विश्वासपात्र कर्मचारियों को नकद में अतिरिक्त मूल्य का भुगतान कर हिसाब-किताब बराबर कर लिया गया. खोज टीमों ने आपूर्तिकर्ताओं द्वारा इस तरह के अधिक-चालान और नकदी की वापसी के प्रमाण एकत्र किए. सीबीडीटी की ओर से बताया गया है कि छह वर्षों की अवधि में लगभग 400 करोड़ रुपये की कर योग्य आय को छुपाने के लिए इस तरह की मुद्रास्फीति बढ़ाकर दिखाई गई है.
इस सर्च ऑपरेशन के दौरान उसी शराब उद्योग से जुड़े एक अन्य प्रमुख व्यापारिक समूह द्वारा समान कर चोरी के साक्ष्य के बारे में भी खुलासा हो गया. इस व्यापारिक समूह के खिलाफ आयकर विभाग ने 09 अगस्त .2019 को तलाशी अभियान शुरू किया. चेन्नई और कराईकल में इस समूह के लगभग सात परिसरों में खोज अभियान का दूसरा चरण चलाया गया, जो 10 अगस्त की देर शाम तक जारी था. इस समूह में लगभग 300 करोड़ रुपये कर योग्य आय होने का अनुमान लगाया गया है.
तलाशी की कार्रवाई के दौरान एक गुप्त सूचना के आधार पर कर अधिकारियों ने बेहिसाब नकदी के साथ घूम रहे कर्मचारियों को ट्रैक किया और उन्हें रोककर कार से 4.5 करोड़ रुपये नकद बरामद किए, जिसमें उन्होंने इसे छुपाया था. दोनों समूहों के खिलाफ की गई इस खोज कार्रवाई से अब तक 700 करोड़ रुपये की अघोषित आय का पता चला है जिसका खुलासा कराधान के लिए नहीं किया गया है.

 

Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *