Nationalwheels

पूर्व विधायक ईश्वर चंद के निधन से सिद्धार्थ नगर गमगीन

पूर्व विधायक ईश्वर चंद के निधन से सिद्धार्थ नगर गमगीन
यशोदा श्रीवास्तव
लखनऊ। सिद्धार्थ नगर जिला आज गमगीन है। उसने अपना ऐसा रहनुमा खो दिया जो भले ही किसी दल में रहा हो लेकिन उसका मुश्तकिल मुकाम अवाम का दिल था। बात जिले के नौगढ़ विधानसभा क्षेत्र के पूर्व कांग्रेस विधायक ईश्वर चंद शुक्ल की कर रहा हूं। जिनका शनिवार की रात हृदय गति रुकने से निधन हो गया। वे 2007 में इस क्षेत्र से विधायक चुने गए थे।मौत इतनी चुपके से उनको अपने आगोश में ली कि परिवार वाले तब जान पाए जब उन्हें भोजन के लिए पूछने उनके कमरे में गए।वे जब कभी बाहर से आते थे, उनके बड़े पुत्र प्रभात शुक्ल का बेटा अर्थात उनका नाती ही उनके लिए चाय पानी लेकर आता था।
2012 में नौगढ़ विधानसभा क्षेत्र आरक्षित हो गया और इसका नाम भी कपिलवस्तु हो गया लिहाजा यह चुनाव उन्हें बगल के विधानसभा क्षेत्र बांसी से लड़ना पड़ा। हालांकि वे हार गए थे। 2017 का चुनाव भी वे हार गए। परिवर्तित विधानसभा क्षेत्र से लगातार दो चुनाव हारने के बाद भी वे हार नहीं माने।
जनता के बीच पूरे मनोयोग से बने रहे।प्रतिदिन बांसी की जनता के बीच उनका आना जाना जारी था।वे जनता की सेवा के लिए पद का होना अनिवार्य कभी नहीं माने। शनिवार को भी वे बांसी से करीब सात बजे सायं वापस आए थे।
प्रतिदिन की तरह चाय पानी पीके विश्राम करने अपने कमरे में चले गए।रात नौ बजे उनका नाती ही उन्हें खाना के लिए पूछने गया।देखा कि शरीर में कोई हलचल नहीं।घबरा कर उसने अपने पिता प्रभात को आवाज दिया।कुछ ही देर में सारा परिवार उनके कमरे आ गया। सभी को हालात समझने में देर नहीं लगी। देखते ही देखते घर में कोहराम मच गया। तसल्ली के लिए श्री शुक्ल का पार्थिव शरीर जिला अस्पताल ले जाया गया जहां उनके शरीर से आत्मा के बिछड़ जाने की पुष्टि हुई। जैसा कि ऊपर मैने लिखा है कि पूरा जिला गमगीन है।यह अतिशयोक्ति नहीं है। स्व.शुक्ल युवाकाल से ही राजनीति को अपना धर्म मान लिए थे। पूरे जिले के किसानों के लिए,मजदूरों के लिए.मजलूमों के लिए हमेशा संघर्ष रत रहे हैं। उसका बाजार ब्लाक से वे ब्लाक प्रमुख भी रहे।
कई चुनाव हारने के बाद सिर्फ एक चुनाव जीते लेकिन वे कभी हताश नहीं हुए। और न ही इसे जनसेवा में आड़े आने दिया। वे मजे हुए राजनितिज्ञ तो थे ही,विरोधियों के आलोचना का पात्र भी कभी नहीं हुए। कहना न होगा,वे हर दल में सम्मान के काबिल रहे। उनका असामयिक निधन कांग्रेस के लिए अपूर्णनीय क्षति है ही,कांग्रेस के प्रदेश सचिव त्रिभुवन मिश्र की मानें तो उनका निधन गरीबों,किसानों की बुलंद आवाज का निधन है।
श्री शुक्ल के निधन से लखनऊ कांग्रेस मुख्यालय पर भी शोक सभा का आयोजन हुआ जहां पार्टी के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी, विधायक आराधना मिश्रा समेत पार्टी पदाधिकारियों ने रूंआसे कंठ से श्रद्धांजलि अर्पित की। वहीं उनके गृह जनपद और आसपास के जिलों के तमाम कांग्रेस नेता,जैसे तलत अजीज,मो.मुकीम.डा.चंद्रेश उपाध्याय, नर्वेदश्वर शुक्ल ,एडवोकेट अरविंद मिश्र समेत सेकड़ों लोगों ने उनके आवास पर पहुंच कर श्रद्धा सुमन अर्पित किए। फोटो : पूर्व विधायक ईश्वर चंद शुक्ल

 


Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *