Nationalwheels

सैदपुर के सपा विधायक सुभाष पासी जनसेवक हैं या नटवरलाल!,पुलिस ने शुरू की जांच

सैदपुर के सपा विधायक सुभाष पासी जनसेवक हैं या नटवरलाल!,पुलिस ने शुरू की जांच
न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स
सैदपुर एमएलए ने जनप्रतिनिधियों और फिल्मी सितारों को भी नहीं बख्शा, वाराणसी के पुलिस महानिरीक्षक मीणा ने पिंडरा के पुलिस क्षेत्राधिकारी को सौंपी जांच, फिल्म सिटी व तारांकित होटल का ख्वाब दिखाकर किसानों की जमीन हड़पने का आरोप
विजय विनीत
केस-1ः गाजीपुर के सैदपुर विधायक सुभाष मनीराम पासी ने वाराणसी के संदहाकला (रजवाड़ी) निवासी इंद्रसेन सिंह की पत्नी श्रीमती रेखा सिंह से अपनी दूसरी पत्नी रीना एस पासी के नाम करीब दो बीघा जमीन बैनामा कराया। जमीन के एवज में पासी ने इंद्रसेन सिंह को दो करोड़ 60 लाख रुपये का चेक दिया। खाते में धन न होने के कारण चेक बाउंस हो गया। आरोप है कि पैसे का तगादा करने पर विधायक झूठे एससी-एसटी एक्ट में फंसाने की धमकियां दे रहे हैं। चेक बाउंस का मामला सीजेएम तृतीय के न्यायालय में है। धमकी की जांच सीओ पिंडरा कर रहे हैं।
केस- 2ः गाजीपुर के औड़िहार निवासी आशीष सिंह की पत्नी प्रिया सिंह के भट्ठे से विधायक सुभाष पासी ने 2 जून 2015 से 08 फरवरी 2017 तक 5 लाख 28 हजार ईंटें खरीदीं। कुल 31 लाख 87 हजार 200 रुपये का बिल बना। चुनाव बाद उधार चुकाने का वादा किया, पर भुगतान नहीं किया। बाद में पैसा देने से मुकर गए। आशीष सिंह ने आखिरी बार 11 मई 2019 को तगादा किया तो माफिया डान दाउद इब्राहिम से संबंध बताकर धमकी दी। इस मामले की शिकायत वाराणसी के एसएसपी आनंद कुलकर्णी से की गई। अब यह जांच भी सीओ पिंडरा को सौंपी गई है।
केस-3ः सैदपुर के विधायक सुभाष मनिराम पासी ने सिने स्टार सुशील सिंह के पिता डा.गुलाब सिंह से फ्लैट दिलाने के नाम पर अपनी कंपनी निखिल इंटरप्राइजेज के नाम पर 77 लाख रुपये लिया, लेकिन न फ्लैट मिला और न ही धन। यह मामला भी काफी संगीन है। इस प्रकरण की जांच पुलिस क्षेत्राधिकारी चेतगंज कर रही हैं।

गाजीपुर जिले के सैदपुर विधानसभा क्षेत्र से समाजवादी पार्टी के विधायक सुभाष मनिराम पासी ऐसे जनप्रतिनिधि हैं जिनका फजीर्वाड़ा और धोखाधड़ी से गहरा नाता रहा है। आरोप है कि विधायक ने सिर्फ रसूखदारों को ही नहीं, कई फिल्मी सितारों और पुलिस अफसरों को भी अपने फरेबी जाल में फंसाया। आरोप यह भी है कि सपा विधायक ने झूठा ख्वाब दिखाकर पूर्वाचल के कई किसानों ठगा और कइयों की कीमती जमीन कौड़ियों के भाव अपनी पत्नी के नाम करा ली।
पूर्वांचल में पहली बार किसी विधायक के फजीर्वाड़े की शिकायत पुलिस के आला अफसरों के पास पहुंची है। वाराणसी रेंज के पुलिस महानिरीक्षक विजय सिंह मीणा ने वाराणसी के एसएसपी के माध्यम से सपा विधायक के फजीर्वाड़े की जांच पिंडरा के पुलिस क्षेत्राधिकारी अनिल राय को सौंपी है। मजे की बात यह है कि पुलिस के नोटिस देने के बाद भी पासी बयान दर्ज कराने से कतरा रहे हैं। दूसरी ओर, शासन इनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के लिए पुलिस अफसरों पर दबाव बनाए हुए है।
सूत्र बताते हैं कि विधायक के फजीर्वाड़े की कहानी पूर्वांचल के एक कैबिनेट मंत्री ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तक पहुंचाई है। शासन ने पुलिस अफसरों को सपा नेता आजम खां की तरह सुबाष पासी पर शिकंजा कसने और इनकी कारगुजारियों की गहन जांच-पड़ताल कर सख्त कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। सैदपुर के सपा विधायक सुबाष पासी पर सरकार की नजर इसलिए टेढ़ी हो गई है कि उन्होंने भाजपा से जुड़े जिला पंचायत सदस्य इंद्रसेन सिंह को ठगा है। इंद्रसेन संदहाकला के रहने वाले हैं। केंद्रीय मंत्री डा. महेंद्र नाथ पांडेय के करीबी माने जाते हैं।
सैदपुर विधायक पासी ने जमीन की कीमत के एवज में इंद्रसेन सिंह को दो करोड़ 60 लाख रुपये का जो चेक दिया था, वो मुंबई के इलाहाबाद बैंक के विले पारले शाखा का था। इस बैंक में पासी का खाता नंबर 50367655391 है। इसी बैंक का एकाउंट पेयी चेक नंबर 043964 दो फरवरी 2019 को दिया, जिसे इंद्रसेन सिंह ने एसबीआई की कैथी शाखा में भुनाने के लिए जमा किया। एसबीआई ने 7 मार्च 2019 को पर्याप्त धन न होने के कारण रिटर्न मेमो बनाकर चेक वापस कर दिया। नोटिस देने के बावजूद सपा विधायक ने जिला पंचायत सदस्य को धन की अदायगी नहीं की। बाद में निर्धारित प्रारूप पर एसीजेएम तृतीय के न्यायालय में अर्जी देकर मुकदमा दर्ज कराया। शिकायत पुलिस तक तब पहुंची, जब मुकदमा उठाने के लिए विधायक सुभाष पासी ने 12 मई 2019 को असलहों से लैस अंगरक्षकों के साथ इद्रसेन के घर संदहाकला (रजवाड़ी) पहुंचकर धमकी दी।
जिला पंचायत सदस्य इंद्रसेन सिंह ने पुलिस महानिरीक्षक को जो शिकायती-पत्र दिया है उसमें घटना का ब्योरा देते हुए कहा गया है कि फर्जी चेक देने का मुकदमा उठाने के लिए विधायक ने कई बार धमकियां दीं। पत्र में यह भी कहा गया है कि विधायक अत्यंत प्रभावशाली व्यक्ति हैं और वो कभी भी उसकी हत्या करा सकते हैं। साथ ही रुपये भी हड़प सकते हैं। सपा विधायक से उन्हें और उनके परिवार की जान को खतरा है।
सपा विधायक सुबाष पासी ने कुछ इसी तरह की कहानी आशीष सिंह के साथ भी दोहराई है। आशीष सिंह औड़िहार के पूर्व एमएलसी डा.कैलाश सिंह के बेटे हैं। शिकायत के बावजूद चौबेपुर थाना पुलिस ने इस मामले में अभी तक सपा विधायक के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज नहीं की है। पत्र में आशीष ने यह भी स्पष्ट किया है कि उनके पास ईंट बिक्री की सभी रसीदें मौजूद हैं। पत्र में यह भी बताया गया है कि कैलाश तिवारी और सत्येंद्र कुमार की मौजूदगी में रजवाड़ी में पासी ने उन्हें जान से मारने की धमकी दी।
सपा विधायक सुबाष पासी ने फिल्म अभिनेता सुशील सिंह के पिता डा.गुलाब सिंह को फ्लैट देने के नाम पर अपनी रियल इस्टेट कंपनी निखिल एंटरप्राइजेज के नाम पर 77 लाख रुपये लिए, लेकिन आज तक नहीं लौटाए। सुशील उन दिनों सुबाष पासी की जाल में फंस गए थे जब फिल्म मुन्ना बजरंगी में उन्हें अहम रोल मिला था। सुबाष ने अपनी दूसरी पत्नी रीना एस पासी को इस फिल्म का निर्माता और निदेशक बनाया था। यह फिल्म साल 2006 में रिलीज हुई तो सबसे पहले बनारस के नटराज सिनेमा हाल में लगी। सुशील इन दिनों हिन्दी और भोजपुरी फिल्म के मजे हुए कलाकार माने जाते हैं। आरोप है कि सपा विधायक सुबाष पासी ने तारांकित होटल और फिल्म सिटी बनाने के बहाने दर्जनों किसानों की जमीन कौड़ियों के भाव अपने नाम करा ली है। पुलिस क्षेत्राधिकारी अनिल राय ने इस बात की पुष्टि की है सपा विधायक के खिलाफ कई शिकायतों की जांच की जा रही है। जिन लोगों ने शिकायत दर्ज कराई है उनका बयान दर्ज कर लिया गया है। विधायक को नोटिस भेजा गया है। पुलिस का कहना है कि सपा विधायक शीघ्र पुख्ता साक्ष्य पेश नहीं करेंगे तो प्राथमिकी दर्ज कर उनके खिलाफ सख्त एक्शन लिया जाएगा।
एससी-एसटी एक्ट पासी का हथियार
जिला पंचायत सदस्य इंद्रसेन सिंह और पूर्व एमएलसी के पुत्र आशीष सिंह का आरोप है कि सपा विधायक सुभाष मनिराम पासी ने एससी-एसटी एक्ट को हथियार बना लिया है। विधायक की काली कारगुजारियों पर जो भी अपनी जुबान खोलता है उन पर खुद अथवा अपने किसी समर्थक से एससी-एसटी एक्ट में फंसाने की धमकी देते हैं। इंद्रसेन और आशीष ने सीएम योगी आदित्यनाथ से सपा विधायक के कारनामों की सीबीआई से जांच कराने की मांग की है। उन्होंने कहा है कि झूठा ख्वाब दिखाकर भोले-भाले लोगों को लूटना सपा विधायक का शगल है। इनकी झूठी बातों में आकर रजवाड़ी के कई किसानों ने अपनी निजी जमीन विधायक की पत्नी के नाम कर दी है। ये किसान अब लामबंद होकर विधायक के खिलाफ कार्रवाई की मांग उठाएंगे।
नहीं उठा रहे फोन
वाराणसी। फरेब के आरोपों में फंसे गाजीपुर के विधायक सुभाष मनिराम पासी काफी दिनों से सैदपुर विधानसभा क्षेत्र में नहीं आ रहे हैं। पासी का पक्ष जानने के लिए फोन के जरिए उनसे कई बार संपर्क करने की कोशिश की गई, पर कामयाबी नहीं मिली। फोन न उठाने की पुष्टि जांच अधिकारी अनिल राय ने भी। बताया कि शिकायतों की जांच के मामले में बयान दर्ज करने के लिए उनसे कई बार संपर्क करने की कोशिश की गई, लेकिन जबाव नहीं मिला। इस बाबत अब उन्हें नोटिसें भेजी गई हैं।
(लेखक वरिष्ठ पत्रकार और वाराणसी जननसंदेश टाइम्स के संपादक हैं.)

 

Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *