Bahubali Mukhtar Ansari, खुलासाः बाहुबली मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास ने इटली, स्लोवेनिया और आस्ट्रिया से खरीदे अवैध तरीके से असलहे

खुलासाः बाहुबली मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास ने इटली, स्लोवेनिया और आस्ट्रिया से खरीदे अवैध तरीके से असलहे

Bahubali Mukhtar Ansari, खुलासाः बाहुबली मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास ने इटली, स्लोवेनिया और आस्ट्रिया से खरीदे अवैध तरीके से असलहे
न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स
उत्तर प्रदेश के बाहुबली विधायक व जेल में बंद मुख्तार अंसारी का बेटा अब्बास अंसारी भी बाप के नक्शेकदम पर है. यूपी एसटीएफ की छानबीन में खुलासा हुआ है कि अब्बास ने फर्जीवाड़ा कर इटली, स्लोवेनिया और आस्ट्रिया से असलहे खरीदे हैं. यह ऐसे असलहे हैं जो देश में प्रतिबंधित की श्रेणी में आते हैं.
इन असलहों में इटली से .12 बोर की डबल बैरल गन, स्लोवेनिया से अलग-अलग बोर के सेवेन स्पेयर बैरल तथा .12 बोर की सिंगल बैरल गन मंगाई है. यही नहीं अब्बास ने लाइसेंसों के फर्जीवाड़े में लखनऊ के इंडियन आर्म्स कॉर्प से .300 बोर रायफल, दिल्ली के राजधानी ट्रेडर्स से .12 बोर डबल बैरल गन, मेरठ के शक्ति शस्त्रागार से .357 बोर रिवॉल्वर खरीदे हैं. यूपी पुलिस ने इन सभी असलहों को अब्बास के दिल्ली स्थित आवास से  बरामद किया है. इसके अलावा तीन पिस्टल बैरल, आस्ट्रिया से मंगाई गई .380 और .40 बोर की मैगजीन, एक लोडर और कुल 4431 कारतूस मिले हैं. पुलिस बरामद कारतूसों का रिकॉर्ड खंगाल रही है.
ये असलहे अब्बास अंसारी के बसंतकुंज नई दिल्ली स्थित आवास से लखनऊ पुलिस ने बरामद किए हैं. आरोपित के यहां से बड़ी मात्रा में कारतूस भी मिले हैं. एसएसपी कलानिधि नैथानी के मुताबिक, महानगर कोतवाली में दर्ज जालसाजी के मुकदमे में यह कार्रवाई की गई है. क्राइम ब्रांच को विवेचना दी गई थी. अब्बास के घर से अलग-अलग बोर के कुल 4431 कारतूस मिले हैं. आरोपित के खिलाफ महानगर पुलिस ने दर्ज एफआइआर में धाराओं की बढ़ोतरी भी की है.
पुलिस के अनुसार अब्बास अंसारी ने लाइंसेस तो एक ही बनवाया लेकिन जालसाजी करके उसी पर पांच असलहे खरीद लिए थे. आरोपित ने एक लाइसेंस बनवाया था, जिसको दिल्ली ट्रांसफर करा लिया था. इसके बाद वहां से लाइसेंस हासिल कर अलग-अलग देशों से कीमती असलहे खरीदे गए. एसटीएफ को जब इसकी भनक लगी तो छानबीन की गई. इसके बाद अब्बास अंसारी पर एक शस्त्र लाइसेंस से अवैध ढंग से कई हथियार खरीदने के आरोप में 12 अक्टूबर को महानगर कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज की गई.
यूपी एसटीएफ को अब्बास के अवैध तरीके से असलहों की खरीदारी की जानकारी मिली थी. जांच में पता चला था कि अब्बास के नाम वर्ष 2002 में डीएम लखनऊ ने पेपर मिल कॉलोनी निशातगंज के पते पर डबल बैरल बंदूक का लाइसेंस जारी किया था. आरोपित ने बिना प्रशासन की अनुमति लिए इसी लाइसेंस को नई दिल्ली बसंतकुंज स्थित किशनगंज के पते पर स्थानांतरित करा लिय़ा. साथ ही खुद को विख्यात निशानेबाज बताते हुए असलहे खरीदे थे. गौरतलब है कि मुख्तार और उनके करीबी रिश्तेदारों के नाम नौ शस्त्र लाइसेंस हैं. बता दें कि यूपी पुलिस इन दिनों अपराधियों के पास असलहों के जखीरों का पता लगा रही है.

 


Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *