Nationalwheels

राजा भैया का बहुचर्चित 101 कन्या सामूहिक विवाह समारोह 3 मार्च को

राजा भैया का बहुचर्चित 101 कन्या सामूहिक विवाह समारोह 3 मार्च को
न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स

सौरभ सिंह सोमवंशी

कुंडा के विधायक व उत्तर प्रदेश सरकार के पूर्व कैबिनेट मंत्री और जनसत्ता दल (लोकतांत्रिक) के राष्ट्रीय अध्यक्ष कुंवर रघुराज प्रताप सिंह राजा भैया के द्वारा कराया जाने वाला 101 कन्या सामूहिक विवाह समारोह 3 मार्च दिन रविवार को कुंडा स्थित राजा बजरंग बहादुर सिंह डिग्री कालेज में संपन्न होगा।
विदित है कि रघुराज प्रताप सिंह वर्ष 1993 में जब निर्दलीय के तौर पर विधायक बने तो उस वर्ष उन्होंने 25 शादियां जिसमें हिंदू और मुसलमान दोनों थे करवाई थी। उसके बाद से धीरे-धीरे अब प्रतिवर्ष 101 विवाह करवाया जाता है। यह विवाह रघुराज प्रताप सिंह के द्वारा प्रायोजित ट्रस्ट योगीराज देवराहा बाबा चैरिटेबल एंड वेलफेयर ट्रस्ट के द्वारा करवाया जाता है।
इस विवाह समारोह की सबसे बड़ी खासियत यह होती है कि इसमें रघुराज प्रताप सिंह 101 वर और वधू को अपने हाथों से माला पहना कर स्वागत करते हैं और उनको आशीर्वाद देते हैं। इसमें एक तरफ हिंदू धर्म के अनुसार मंत्रोच्चार सुनाई देता है तो दूसरी तरफ मुस्लिम रीत के अनुसार कुरान की आयतें सुनाई देती है। अबकी बार 25000 लोगों के रुकने और खाने पीने की व्यवस्था है जिसके लिए कई थानों की फोर्स मुस्तैद रहेगी। इस तरह से जब यहां पर शादी होती है तो कई कालेजों में लोगों के रुकने की व्यवस्था की जाती है, लेकिन शादी राजा बजरंग बहादुर सिंह डिग्री कॉलेज में होती है इस तरह से पूरे कुंडा का माहौल शादियाना हो जाता है।
इसके अतिरिक्त 101 जोड़ों को टीवी, साइकिल, किचन सेट, स्टील और एलमुनियम के सामान अटैची, बर्तन और कुर्सी उपहार के तौर पर दिए जाते हैं। ये विवाह समारोह 22 वर्षों से लगातार हो रहा है। विवाह समारोह प्रतिवर्ष दोगुने उत्साह के साथ होता है। इसको देखने के लिए लोग दूर दूर से आते हैं, जिसमें रघुराज प्रताप सिंह अपने हाथों से पिता का पूरा धर्म निभाते हैं और लड़की की विदाई तक उपस्थित रहते हैं।

 

Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *