Nationalwheels

कवि कैलाश गौतम की जयंतीः राम वन गए थे राम की तलाश में

कवि कैलाश गौतम की जयंतीः राम वन गए थे राम की तलाश में
11 अक्टूबर 2019 की तारीख थी , प्रयागराज स्थान और अवसर था सुप्रसिद्ध कवि कैलाश गौतम की 75वीं जयंती के उपलक्ष्य में श्रृंखलाबद्ध सात कार्यक्रमों की प्रथम पुष्पांजलि का। इस अवसर पर कवि सम्मेलन के साथ ही सम्मान समारोह ” अंधेरे उजाले ” के तहत न्यायमूर्ति पंकज मित्तल को कैलाश गौतम सहित्यनुरागी सम्मान और डॉ. प्रकाश खेतान को कैलाश गौतम सृजन सम्मान से नवाजा गया। इस अवसर पर अन्य कवियों की उपस्थिति में इंदौर से आए युवा कवि अमन अक्षर का राम के बारे में बताना मन को छू लेने वाला था। आपके लिए भी प्रस्तुत करते हैं-
राम वन गए थे राम की तलाश में
सारा जग है प्रेरणा
प्रभाव सिर्फ राम है
भाव सूचियाँ बहुत हैं
भाव सिर्फ राम हैं.
कामनाएं त्याग
पूण्य काम की तलाश में
राजपाठ त्याग
पूण्य काम की तलाश में
तीर्थ खुद भटक रहे थे
धाम की तलाश में
कि ना तो दाम
ना किसी ही नाम की तलाश में
राम वन गये थे
अपने राम की तलाश में
आप में ही आपका
आप से ही आपका
चुनाव सिर्फ राम हैं
भाव सूचिया बहुत हैं
भाव सिर्फ राम हैं.
ढाल में ढले समय की
शस्त्र में ढले सदा
सूर्य थे मगर वो सरल
दीप से जले सदा
ताप में तपे स्वयं ही
स्वर्ण से गले सदा
राम ऐसा पथ है
जिसपे राम ही चले सदा
दुःख में भी अभाव का
अभाव सिर्फ राम हैं
भाव सूचिया बहुत है
भाव सिर्फ राम हैं
ऋण थे जो मनुष्यता के
वो उतारते रहे
जन को तारते रहे
तो मन को मारते रहे
इक भरी सदी का दोष
खुद पर धारते रहे
जानकी तो जीत गई
राम तो हारते रहे
सारे दुःख कहानियाँ है
दुःख की सब कहानियाँ हैं
घाव सिर्फ राम हैं
भाव सूचिया बहुत है
भाव सिर्फ राम है
सब के अपने दुःख थे
सबके सारे दुःख छले गये
वो जो आस दे गये थे
वही सांस ले गये
कि रामराज की ही
आस में दिए जले गये
रामराज आ गया
तो राम ही चले गये
हर घड़ी नया-नया
स्वभाव सिर्फ राम हैं
भाव सूचिया बहुत हैं
भाव सिर्फ राम है
जग की सब पहेलियों का
देके कैसा हल गये
लोग के जो प्रश्न थे
वो शोक में बदल गये
सिद्ध कुछ हुए ना दोष
दोष सारे टल गये
सीता आग में ना जली
राम जल में जल गये

(कविः अमन अक्षर)

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *