Nationalwheels

पीएम मोदी का ऐलान- नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन शुरू, कोरोना वैक्सीन के उत्पादन की भी है तैयारी

पीएम मोदी का ऐलान- नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन शुरू, कोरोना वैक्सीन के उत्पादन की भी है तैयारी
पीएम @narendramodi  ने 74वें स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले से कोरोना वायरस पर जीत दर्ज करने की दिशा में ऐलान किया कि हमारे वैज्ञानिक कोरोना वैक्सीन के लिए जी-जान से जुटे हैं। आज भारत में कोरोना की तीन-तीन वैक्सीन्स इस समय टेस्टिंग के विभिन्न चरणों में हैं। जैसे ही वैज्ञानिकों से हरी झंडी मिलेगी, देश में उन वैक्सीन्स की बड़े पैमाने पर उत्पादन की भी तैयारी है।
इसके साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि आज से देश में एक और बहुत बड़ा अभियान शुरू होने जा रहा है। नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन की शुरुआत आज हो रही है। नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन, भारत के हेल्थ सेक्टर में नई क्रांति लेकर आएगा। तकनीक के माध्यम से लोगों की परेशानियां कम होंगी।

हेल्थ आईडी में मिलेगी पूरी जानकारी

पीएम ने कहा कि आपके हर टेस्ट, हर बीमारी, आपको किस डॉक्टर ने कौन सी दवा दी, कब दी, आपकी रिपोर्ट्स क्या थीं, ये सारी जानकारी इसी एक Health ID में समाहित होगी। नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन के माध्यम से लोगों को तमाम दिक्कतों से मुक्ति मिलेगी।
कहा कि कोरोना के कालखंड में आत्मनिर्भर भारत की सबसे बड़ी सीख स्वास्थ्य क्षेत्र ने सिखाई है। जब कोरोना शुरू हुआ था तब हमारे देश में कोरोना टेस्टिंग के लिए सिर्फ एक Lab थी। आज देश में 1,400 से ज्यादा Labs हैं।
पीएम @narendramodi ने कहा कि भारत में महिला शक्ति को जब-जब भी अवसर मिले, उन्होंने देश का नाम रोशन किया, देश को मजबूती दी है। महिलाओं को स्वरोजगार और रोजगार के नए अवसर देने के लिए भारत प्रतिबद्ध है। आज भारत में महिलाएं अंडरग्राउंड कोयला खदानों में काम कर रही हैं तो लड़ाकू विमानों से आसमान की बुलंदियों को भी छू रही हैं।

40 करोड़ हो गए जनधन खाते

कहा कि हमारे देश की मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक से मुक्ति दी गई है। महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण पर विशेष ध्यान दिया गया है देश के जो 40 करोड़ जनधन खाते खुले हैं, उसमें से लगभग 22 करोड़ खाते महिलाओं के ही हैं। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत ज्यादातर मकान महिलाओं के नाम पर दिए जा रहे हैं। कौन सोच सकता था कि कभी देश में गरीबों के जनधन खातों में हजारों-लाखों करोड़ रुपए सीधे ट्रांसफर हो पाएंगे? कौन सोच सकता था कि किसानों की भलाई के लिए APMC एक्ट में इतने बड़े बदलाव हो जाएंगे।
पीएम @narendramodi ने कहा कि हमारे देश में अलग-अलग जगहों पर विकास की तस्वीर अलग-अलग दिखती है। कुछ क्षेत्र बहुत आगे हैं, कुछ क्षेत्र बहुत पीछे। कुछ जिले बहुत आगे हैं, कुछ जिले बहुत पीछे। ये असंतुलित विकास आत्मनिर्भर भारत के सामने बहुत बड़ी चुनौती है।

6 साल में 1.5 लाख ग्राम पंचायतें ऑप्टिकल फाइबर से जुड़ीं

पीएम मोदी ने कहा कि साल 2014 से पहले देश की सिर्फ 5 दर्जन पंचायतें ऑप्टिल फाइबर से जुड़ी थीं। बीते पांच साल में देश में डेढ़ लाख ग्राम पंचायतों को ऑप्टिकल फाइबर से जोड़ा गया है। जो एक लाख पंचायतें बाकी हैं वहां पर भी तेजी से काम चल रहा है।

भीम यूपीआई से 3 लाख करोड़ का भुगतान

पीएम @narendramodi ने डिजिटल भारत अभियान की महत्ता भी बताई। कहा कि कोरोना काल में ऑन लाइन पढ़ाई की शुरुआत हुई है। कोरोना के समय में हमने देख लिया है कि डिजिटल भारत अभियान की क्या भूमिका रही है। पिछले महीने ही करीब-करीब 3 लाख करोड़ रुपए का ट्रांजेक्शन अकेले BHIM UPI से हुआ है।
आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में, आधुनिक भारत के निर्माण में, नए भारत के निर्माण में, समृद्ध और खुशहाल भारत के निर्माण में, देश की शिक्षा का बहुत बड़ा महत्व है: पीएम @narendramodi

ग्लोबल सिटिजन बनाएगी नई शिक्षा नीति

पीएम @narendramodi ने कहा कि इसी सोच के साथ देश को तीन दशक के बाद नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति देने में हम सफल हुए हैं। ये राष्ट्रीय शिक्षा नीति हमारे विद्याथियों को जड़ से जोड़ेगी, लेकिन साथ-साथ उसको एक ग्लोबल सिटिजन बनाने का भी पूरा सामर्थ्य देगी।

रोजाना 1 लाख घरों में नलों से पहुंचा रहे पानी

पीएम ने कहा कि पिछले वर्ष मैंने यहीं से जल जीवन मिशन का ऐलान किया था। पीने का शुद्ध जल हमारे देशवासियों को मिलना चाहिए। आज मुझे संतोष है कि प्रतिदिन हम 1 लाख से ज्यादा घरों में नल से जल पहुंचा रहा हैं. पिछले एक साल में हम करीब 2 करोड़ लोगों के घर तक जल पहुंचा चुके हैं।
मोदी ने कहा कि मेरे देश का किसान, जो उत्पादन करता था, वो न अपनी मर्जी से बेच सकता और न अपनी मर्जी के दाम प्राप्त कर सकता था। उसके लिए दायरा तय था। हमने उन सारे बंधनों से किसानों को मुक्त कर दिया है। अब हिंदुस्तान का किसान आजादी के साथ कहीं पर भी अपनी फसल बेच पाएगा।
हमारे देश का सामान्य नागरिक की मेहनत, उसके परिश्रम का कोई मुकाबला नहीं है। बीते 6 वर्षों में देश में मेहनत करने वाले लोगों के कल्याण के लिए कई योजनाएं चलाई गई हैं। बिना किसी भेद-भाव के,पूरी पारदर्शिता के साथ सभी लोगों को कई योजनाओं के द्वारा मदद पहुंचाई गई है। कौन सोच सकता था कि जो हमारे व्यापारी पर लटकती जो तलवार थी essential commodities act इतने सालों के बाद वो भी बदल जाएगा। कौन सोच सकता था कि हमारे स्पेस सेक्टर हमारे देश के युवाओं के लिए खुला कर दिया जाएगा।

 


Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *