Nationalwheels

नेपाल से रिश्तों का नया इतिहास लिखेंगे प्रधानमंत्री मोदी, जल्द करेंगे काठमांडू का दौरा

नेपाल से रिश्तों का नया इतिहास लिखेंगे प्रधानमंत्री मोदी, जल्द करेंगे काठमांडू का दौरा
न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स
चीन के प्रभाव में पहुंच चुके पड़ोसी मुल्क नेपाल के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दोस्ती का नया इतिहास बनाने की तैयारी कर ली है. मोतिहारी से अमलेखगंज (नेपाल) के बीच 69 किलोमीटर लंबी पाइप लाइन की शुरुआत कर इसकी पटकथा लिख दी है. नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने भी इस गर्मी का अहसास किया है. नेपाल के लिए यह परियोजना कितने काम की है यह नेपाली पीएम ओली के उस ऐलान से समझी जा सकती है जिसमें उन्होने पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतों में 2 रुपये प्रति लीटर की कमी करने का ऐलान किया है.
दोनों नेताओं ने मंगलवार को तेल पाइप लाइन के वीडियो कॉफ्रेंसिंग के जरिए किए गए उद्घाटन के साथ यह भी संभावना जगा दी है कि जल्द ही रेल और सड़क परियोजनाओं के भी उद्घाटन हो सकते हैं. साथ ही काठमांडू तक भारतीय रेल की दौड़ की आकांक्षा भी पूरी हो सकती है. चीन के बढ़ते प्रभाव के असर को कम करने में यह परियोजना रणनीतिक रूप से भी महत्वपूर्ण बताई जा रही है.
नेपाल में भारत रेल, सड़क समेत कई परियोजनाओं पर कार्य कर रहा है लेकिन पिछली सरकारों की निष्क्रियता के कारण ये परियोजनाओं असर नहीं छोड़ पा रही थीं. इसके चलते नेपाल के अलग-अलग प्रधानमंत्रियों ने भारत के दौरे में परियोजनाओं को पूरा करने में तेजी दिखाने का आग्रह किया. यही नहीं, करीब दो साल पहले मधेसी आंदोलन के वक्त नेपाल को पेट्रोलियम पदार्थों की भारी किल्लत से जूझना पड़ा था. इसके बाद नेपाल ने चीन के दूरस्थ बंदरगाहों से पेट्रोलियम पदार्थों का आयात शुरू किया लेकिन यह महंगा पड़ने से अव्यवहारिक होने लगा लेकिन भारत में इसका असर साफमहसूस किया गया. नतीजतन, भारत ने नेपाल की परियोजनाओं में तेजी भरी. मोतिहारी-अमलेखगंज पाइप लाइन भी इसी तेजी का नतीजा है. भारत की इस परियोजना से चीन का चिढ़ना भी संभव है. यह बात भारतीय रणनीतिकारों को भलीभांति पता है.
फिलहाल, पाइप लाइन परियोजना के उद्घाटन से नेपाल के कम्युनिस्ट विचारधारा वाले और चीन के करीबी प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली को भी बदले भारत ने प्रभावित किया. ओली ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को नेपाल का दौरा करने का आमंत्रण दिया है, जिसे प्रधानमंत्री मोदी ने स्वीकार कर लिया है. संभावना जताई जा रही है कि यह दौरा 2019 में ही पूरा हो सकता है. इस दौरे के वक्त कई नई परियोजनाओं पर दोनों पड़ोसी मुल्क सहमति जता सकते हैं.
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और नेपाल के प्रधानमंत्री  केपीशर्मा ओली ने आज दक्षिण एशिया की पहली सीमा पार जाने वाली पेट्रोलियम उत्पादों की पाइपलाइन का वीडियो कांफ्रेंसिग के जरिये संयुक्त रूप से उद्घाटन किया.यह पाइपलाइन बिहार के मोतिहारी से नेपाल के अमलेखगंज को जोड़ती है.इस अवसर पर नेपाल के प्रधानमंत्री ओली ने महत्वपूर्ण संपर्क परियोजना के शीघ्र कार्यान्वयन पर प्रशंसा व्यक्त की. यह परियोजना निर्धारित समय सीमा से काफी पहले पूरी हो गई है.
इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि 69 किलोमीटर लंबी मोतिहारी-अमलेखगंज पाइपलाइन नेपाल के लोगों को किफायती लागत पर स्वच्छ पेट्रोलियम उत्पाद उपलब्ध कराएगी. इस पाइपलाइन की क्षमता दो मिलियन मीट्रिक टन प्रति वर्ष है.उन्होंने प्रधानमंत्री ओली की उस घोषणा का स्वागत किया, जिसमें नेपाल में पेट्रोलियम उत्पादों के दाम में दो रुपये प्रति लीटर की कटौती करने की बात कही गई है.
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि उच्चतम राजनीतिक स्तर पर नियमित मेल-मिलाप ने भारत-नेपाल साझेदारी के विस्तार के लिए एक अग्रगामी एजेंडा निर्धारित किया है.उन्होंने विश्वास जताया कि भारत और नेपाल के बीच द्विपक्षीय संबंधों का प्रगाढ़ होना जारी रहेगा तथा इनका अलग-अलग क्षेत्रों तक विस्तार होगा.

 

Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *