NationalWheels

पीएम मोदी बोले- 2019 से 2024 का समय आकांक्षाओं की पूर्ति और तेज उन्नति के लिए उड़ान भरने का काल है

न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स
के तहत 15000 स्थानों से करीब एक करोड़ कार्यकर्ताओं, समर्थकों और शुभेच्छुओं को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अगले आम चुनाव को लेकर विपक्ष से आगाह किया है। साथ ही कहा कि 2014 से 2019 का समय आवश्यकताओं को पूरा करने का था, जबकि 2019 से 2024 का समय आकांक्षाओं की पूर्ति करने का काल है। 2014 से 2019 बुनियादी जरूरतों को हर घर पहुंचाने का समय था, जबकि 2019 से 2024 का समय तेज उन्नति के लिए उड़ान भरने का काल है
भाजपा का दावा है कि यह दुनिया का सबसे बड़ा वीडियो सम्मेलन है। आइये जानते हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने कार्यकर्ताओं को क्या समझाया…
  • लोकतंत्र का मूलमंत्र है सत्ता और विपक्ष के बीच स्वस्थ प्रतिस्पर्धा। इसका पहला पाठ हम अपनी पार्टी के भीतर ही सीखते हैं। ऐसे में सभी बूथ कार्यकर्ताओं के बीच भी एक स्वस्थ प्रतिस्पर्धा होनी चाहिए।
  • आज जब हम न्यू इंडिया और 21वीं सदी की बात कर रहे हैं तो इसमें फर्स्ट टाइम वोटर की भूमिका महत्वपूर्ण हो जाती है। ऐसे में बूथ कार्यकर्ताओं की जिम्मेदारी है कि वे अपने बूथ के सभी First Time Voter से संपर्क करें।
  • ‘भारत के मन की बात’ के अंतर्गत प्रत्येक देशवासी अपने मन की बात सीधे मुझ तक पहुंचा सकता है। आप सुनिश्चित करे कि आप के बूथ के अधिक से अधिक लोग अपने सुझाव दें। इससे हमारा 2019 का संकल्प पत्र सही मायने में जनता का संकल्प पत्र बन जाएगा।
  • पूरा देश आज एक है और हमारे जवानों के साथ खड़ा है। हमारी सेनाओं के सामर्थ्य पर हमें भरोसा है इसलिए बहुत आवश्यक है कि कुछ भी ऐसा न हो जिससे उनके मनोबल पर आंच आए। या हमारे दुश्मनो को हमारे पर ऊँगली उठाने का मौक़ा मिल जाए।
  • भारत को अस्थिर करने के लिए आतंकी हमले के साथ-साथ दुश्मनों का एक मकसद ये भी होता है कि हमारी प्रगति रुक जाए हमारी गति रुक जाए हमारा देश थम जाए उनके इस मकसद के सामने हर भारतीय को दीवर बन कर के खड़ा होना है।
  • हमारा देश नई नीति और नई रीति के साथ अपनी क्षमताओं का विस्तार करने में जुटा हुआ है। भारत का युवा आज उत्साह से परिपूर्ण है, देश के किसान से लेकर देश के जवान तक सभी को ये विश्वास मिला है कि नामुमकिन अब मुमकिन है।
  • देश की सुरक्षा और सामर्थ्य का संकल्प लेकर हमारा जवान सीमा पर डटा है। हम सब पराक्रमी भारत के नागरिक है, इसलिए हम सबको भी देश की समृद्धि और सम्मान के लिए दिन रात एक करना होगा।
  • जब दुश्मन भारत पर आतंकी हमला करता है, तो उसका एक मकसद यह भी होता है कि हमारी गति और प्रगति रुक जाए। उसके इस मकसद के सामने हमें दीवार बनकर दिखा देना है कि न ये देश रुकेगा, न ही देश की प्रगति थमेगी।
  • इस समय देश की भावनाएं एक अलग स्तर पर हैं। देश का वीर जवान सीमा पर और सीमा के पार भी अपना पराक्रम दिखा रहा है। पूरा देश एक है और हमारे जवानों के साथ खड़ा है। दुनिया हमारी इच्छा शक्ति को देख रही है।
  • ‘भारत के मन की बात’ के अंतर्गत प्रत्येक देशवासी अपने मन की बात सीधे मुझ तक पहुंचा सकता है। आप सुनिश्चित करे कि आप के बूथ के अधिक से अधिक लोग अपने सुझाव दें। इससे हमारा 2019 का संकल्प पत्र सही मायने में जनता का संकल्प पत्र बन जाएगा।
  • आज जब हम न्यू इंडिया और 21वीं सदी की बात कर रहे हैं तो इसमें फर्स्ट टाइम वोटर की भूमिका महत्वपूर्ण हो जाती है। ऐसे में बूथ कार्यकर्ताओं की जिम्मेदारी है कि वे अपने बूथ के सभी First Time Voter से संपर्क करें।
  • लोकतंत्र का मूलमंत्र है सत्ता और विपक्ष के बीच स्वस्थ प्रतिस्पर्धा। इसका पहला पाठ हम अपनी पार्टी के भीतर ही सीखते हैं। ऐसे में सभी बूथ कार्यकर्ताओं के बीच भी एक स्वस्थ प्रतिस्पर्धा होनी चाहिए।
  • मैं स्पष्ट कहता हूं कि 2014 का चुनाव देश की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए मिला जनमत था और 2019 का चुनाव भारत की आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए मिलने वाला जनमत होगा।
  • आने वाला चुनाव दो राजनीतिक संस्कृतियों के बीच का है। एक संस्कृति भाजपा की है, जहां हर काम लोकतांत्रिक तरीके से होता है। दूसरी संस्कृति कांग्रेस समेत अन्य दलों की है, जहां हर काम वंशवाद के आधार पर तय होता है।
  • हमारी पार्टी एक कैडर बेस्ड पार्टी है, इसलिए पार्टी और सरकार दोनों के लिए कार्यकर्ताओं का फीडबैक बहुत महत्वपूर्ण होता है। इसी के आधार पर सरकारी योजनाओं को जमीन पर साकार करना भी आसान होता है, जो हम मौजूदा कार्यकाल में लगातार करते आए हैं।
  • ये महागठबंधन नहीं, महामिलावट है। खुद का अस्तित्व बचने के लिए कांग्रेस छोटे-छोटे दलों का सहारा ढूंढ रही है। छोटे-छोटे दलों की बिखरी हुई ताकत के भरोसे वो फिर से अपनी जिंदगी ढूंढ रही है। ये मिलावट सरकार बनाने के लिए नहीं बल्कि कांग्रेस को जीवित रखने के लिए हो रही है. इस महा मिलावट का हिस्सा कौन हैं? वो लोग जो कभी एक दूसरे की आंख से आंख नहीं मिलाते थे और आज वे एक दूसरे के साथ मंच साझा कर रहे हैं, गले मिल रहे हैं।
  • विपक्ष आपको नकारात्मक दिशा की ओर ले जाने की कोशिश करेगा, लेकिन आपको उनके बहकावे में नहीं आना है। हमेशा सकारात्मक बातें ही करें। हमारे पास सकारात्मक बातें करने के लिए बहुत कुछ है।
  • मध्यम वर्ग को भड़काने और उकसाने की इनकी पुरानी आदत रही है। लेकिन आपने देखा होगा कि नोटबंदी के बाद उत्तर प्रदेश में चुनाव हुए वहां मध्यम वर्ग ने हमे अपार समर्थन दिया और ऐसे ही GST के बाद गुजरात में चुनाव हुए वहां व्यापारियों ने हमे अपना पूरा समर्थन दिया। मध्यम वर्ग देश की अर्थव्यवस्था में बड़ी भूमिका निभाता है। सही मायने में यह देश की रीढ़ है। मध्यम वर्ग देश के लिए बहुत कुछ करता है, बदले में उसे बहुत कुछ नहीं चाहिए, लेकिन इसके बाद भी वो दशकों तक उपेक्षित रहा, हमारी सरकार ने ऐसे कदम उठाए हैं, जिससे मध्यम वर्ग को राहत मिले।
  • इस बार कुम्भ की स्वच्छता को लेकर पूरी दुनिया में चर्चा हो रही है। जब मैं वहां गया तो मेरा मन हुआ कि जिन सफाई कामगारों ने कुम्भ को ऐतिहासिक बना दिया, मैं भी उनके पैर धोकर सम्मान करूं, इसलिए मैंने ऐसा किया और ये हमारे संस्कार है। जब मन में इच्छा शक्ति हो, दृढ़ संकल्प हो, कुछ कर गुजरने का जज्बा हो, तो कुछ भी नामुमकिन नहीं है। जब सरकार के लिए जन-जन का महत्त्व हो, जन सहभागिता को प्राथमिकता मिलती हो, तो कुछ भी नामुमकिन नहीं है।

 

Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

NationalWheels will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.