Nationalwheels

CAA को लेकर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने ट्टवीट किया यूपी पुलिस का फर्जी वीडियो

CAA को लेकर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने ट्टवीट किया यूपी पुलिस का फर्जी वीडियो

वर्दी में दिख रही पुलिस उत्तर प्रदेश की नहीं, बल्कि यूरोप के किसी देश की है

न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स
सीएए यानि नागरिकता संशोधन कानून को लेकर देश में मुस्लिमों और विपक्षी दलों के हिंसक विरोध प्रदर्शन को लेकर पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान की कुटिलता का खुलासा वहां के प्रधानमंत्री इमरान खान के एक फर्जी वीडियो से हुआ है. इमरान खान ने ट्वीटर पर एक वीडियो अपलोड कर उसे यूपी पुलिस का बताया है. वीडियो के साथ लिखा है कि भारतीय पुलिस का मुस्लिमों के खिलाफ यूपी का कार्यक्रम. इस वीडियो में पुलिस कर्मी प्रदर्शनकारी कुछ मुस्लिमों को पीट रहे हैं.
हालांकि, वीडियो देखकर पहली ही नजर में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री की भारत के मुसलमानों को भड़काने की साजिश और कुटिलता का पता चलता है. यह वीडियो पूरी तरह से संपादित किया गया है. साथ ही इस वीडियो में दिख रही पुलिस भी उत्तर प्रदेश की नहीं दिखती लेकिन वर्दी पर लिखे पुलिस को छिपाने के लिए उसे संपादित किया गया. ब्लैक शेड को गाढ़ा कर वर्दी के रंग को छिपाने का भरपूर लेकिन नाकाम प्रयास भी किया गया है.

वर्दी में दिख रही पुलिस उत्तर प्रदेश की नहीं, बल्कि किसी दूसरे देश की है. वर्दी के रंग और पहनावे का तौर-तरीका, बूटों की स्टाइल भी भारतीय पुलिस से मेल नहीं खाती है. यह वीडियो इमरान खान के अधिकृत ट्वीटर हैंडल से किया गया है. इससे साफ झलकता है कि पाकिस्तान भारतीय मुसलमानों को भड़काने के लिए कैसी गहरी साजिशें रच रहा है. इमरान खान ने कुछ महीनों पहले उन्नाव में किसानों के आंदोलन के दौरान पुलिस की पिटाई से घायल किसान को भी मुस्लिमों की पिटाई से जोड़कर एक यूपी पुलिस के वीडियो को अपलोड किया है. साथ ही एक अन्य वीडियो को भी इमरान खान ने ट्वीट किया है जिसमें शराब की दुकान में तोड़फोड़ करने वाले अराजकतत्वों को पुलिस खदेड़ रही है.
हालांकि, इमरान खान के ट्वीट का उत्तर प्रदेश पुलिस ने खंडन करने देर नहीं लगाई. पुलिस ने कहा कि यह यूपी का नहीं है लेकिन मई 2013 में बांग्लादेश की राजधानी ढाका में हुए एक प्रदर्शन के दौरान का है. वीडियो में दिख रही फोर्स बांग्लादेश पुलिस की रैपिड एक्शन बटालियन है. वीडियो में आ रही आवाज बंगाली है.

सोशल मीडिया पर झूठा वीडियो ट्वीट कर ट्रोल हुए इमरान खान ने बाद में तीनों वीडियो हटा लिए. इससे भी इमरान खान के दिमाग में घुसे शैतान की झलक मिल जाती है. सूत्रों का कहना है कि भारतीय सोशल मीडिया में सीएए के खिलाफ फैली हिंसा के दौरान बड़ी संख्या में ऐसे पुलिस की प्रताड़ना और भड़काऊ वीडियो वायरल किए गए जो घटनाएं कभी देश में हुई नहीं. संपादित वायरल वीडियो में से ज्यादातर पड़ोसी मुल्कों से आए हैं. कोई ताज्जुब नहीं कि इमरान खान की ओर से ट्वीट किए गए यूपी पुलिस के फर्जी वीडियो को भारत में फैले कुछ कट्टरपंथी तत्व वायरल करने में जुट जाएं. फिलहाल, पुलिस और खुफिया एजेंसियां सोशल मीडिया पर वायरल की जा रही फर्जी व भड़काऊ वीडियो की छानबीन और धरपकड़ में भी लगी हैं.

 


Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *