Nationalwheels

कश्मीर मुद्दा लेकर संयुक्त राष्ट्र संघ पहुंचा पाकिस्तान, यूएन की सलाह- संयम बरतें दोनों देश

कश्मीर मुद्दा लेकर संयुक्त राष्ट्र संघ पहुंचा पाकिस्तान, यूएन की सलाह- संयम बरतें दोनों देश
न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स
कश्मीर की धारा370 और 35ए के मुद्दे को लेकर पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र संघ पहुंच गया है. पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने इसमें हस्तक्षेप करने के लिए संयुक्त राष्ट्र संघ को चिट्ठी लिखी है. यूएन के महासचिव एंटोनियो गुटेरस के प्रवक्ता ने इसकी पुष्ट की है. साथ ही उन्होंने दोनों देशों से संयम बरतने की अपील भी की है.
संयुक्त राष्ट्र प्रमुख के प्रवक्ता ने कहा है कि यूएन और उसका नेतृत्व भारत और पाकिस्तान के साथ “विभिन्न स्तरों पर” संपर्क में है. महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कश्मीर पर तनाव के बीच अधिकतम संयम बरतने के लिए शामिल सभी पक्षों से अपनी अपील को दोहराया है.
प्रवक्ता स्टीफन डुजारिक बुधवार को इस सवाल का जवाब दे रहे थे कि महासचिव एंटोनियो गुटेरेस भारत और पाकिस्तान के मुद्दे पर अनिच्छुक क्यों हैं. उन्होंने कहा कि “देखिए, महासचिव की ओर से कोई अनिच्छा नहीं है. हम बहुत अच्छी तरह से अवगत हैं और बहुत चिंता के साथ स्थिति पर नजर रख रहे हैं. विभिन्न स्तरों पर संपर्क हो रहे हैं और हम सभी देशों से अधिकतम संयम बरतने का आग्रह करते हैं.
यह पूछे जाने पर कि गुटेरेस भारत और पाकिस्तान के नेताओं के साथ क्यों नहीं जुड़ेंगे, डुजारिक ने कहा, “मैं समझता हूं कि मैं आपको मेरे द्वारा दिए गए आखिरी जवाब का उल्लेख करूंगा.” एक अन्य सवाल के जवाब में डुजारिक ने पुष्टि की कि संयुक्त राष्ट्र को पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी का पत्र मिला है, जिन्होंने कश्मीर मुद्दे पर विश्व निकाय को लिखा था. 
उन्होंने कहा कि “यह प्राप्त किया गया है. यह अनुरोध के अनुसार सुरक्षा परिषद के दस्तावेज के रूप में परिचालित किया जाएगा और हम स्पष्ट रूप से पत्र की सामग्री का बहुत बारीकी से अध्ययन कर रहे हैं.”
डुजारिक ने फिर से इन दावों पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया कि कश्मीर के विशेष दर्जे को रद्द करने का भारत का निर्णय संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों का उल्लंघन है. उन्होंने कहा, “मैं इस स्थिति पर आगे कोई टिप्पणी नहीं करने जा रहा हूं.”
गौरतलब है कि लोकसभा में चर्चा के दौरान विपक्ष के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कश्मीर मुद्दे पर पार्टी लाइन पर बोलते हुए पाकिस्तान की ही बातों का जाने-अनजाने समर्थन कर कांग्रेस की किरकिरी कराई थी. उनका कहना था कि कश्मीर का मुद्दा यूएनओ में जा चुका है तो यह घरेलू कैसे हुआ.
हालांकि, कांग्रेस के ही जनार्दन द्विवेदी समेत करीब दर्जनभर नेता केंद्र सरकार के फैसले का यह कहते हुए स्वागत कर चुके हैं कि व्यापक राष्ट्रहित में धारा370 का खत्म किया जाना उचित है. परंतु, कांग्रेस नेतृत्व की ओर से अब तक इस मुद्दे पर कोई टिप्पणी नहीं आई है.

 

Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *