Nationalwheels

राजस्थान के बाहर तपिश के दिन गए हो भाई, दक्षिण-पश्चिम मानसून के लिए अनुकूल हुई परिस्थितियाँ

राजस्थान के बाहर तपिश के दिन गए हो भाई, दक्षिण-पश्चिम मानसून के लिए अनुकूल हुई परिस्थितियाँ
उत्तरी भारत के बड़े हिस्से में झुलसाने वाली गर्मी के दिन अब लदने वाले हैं। भारतीय मौसम विभाग ने कहा है कि दक्षिण-पश्चिम मानसून मालदीव-कोमोरिन क्षेत्र के कुछ हिस्सों,दक्षिण बंगाल की खाड़ी के कुछ और हिस्सों, अंडमान सागर के शेष भागऔर अंडमान व निकोबार द्वीप समूह में आगे बढ़ रहा है।
भारत मौसम विज्ञान विभाग के राष्ट्रीय मौसम पूर्वानुमान केंद्र के अनुसार:

दक्षिण-पश्चिम मानसून का आगे बढना

  1. पश्चिमी हवाओं के तेज होने और संवहनीय बादलों में वृद्धि के परिणामस्वरूप दक्षिण पश्चिम मॉनसून मालदीव-कोमोरिन क्षेत्र के कुछ हिस्सों,दक्षिण बंगाल की खाड़ी के कुछ और हिस्सों, अंडमान सागर के शेष भागऔर अंडमान व  निकोबार द्वीप समूह में कुछ और आगे बढ़ाहै।
  2. मॉनसून की उत्तरी सीमा (एनएलएम) अब अक्षांश 5° उत्तर /देशांतर 72° पूर्व, अक्षांश 6° उत्तर/देशांतर 79° पूर्व, अक्षांश 8° उत्तर/देशांतर 86° पूर्व, अक्षांश 11° उत्तर/ देशांतर 90° पूर्व, अक्षांश14° उत्तर/देशांतर 93° पूर्वऔर अक्षांश 16° उत्तर/देशांतर 95° पूर्व से होकर गुजरती है।

अगले 5 दिनों के दौरान मॉनसून का और आगे बढ़ना

  1. अगले 48 घंटों के दौरान मालदीव-कोमोरिन क्षेत्र के कुछ और हिस्सों में दक्षिण-पश्चिम मानसून के आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियाँ अनुकूल हो रही हैं।
  2. 31 मई से 4 जून, 2020 के दौरान दक्षिण-पूर्व और आसपास के पूर्वी मध्य अरब सागर के ऊपर एक निम्न दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है। इस कारण, 1 जून 2020 से केरल में दक्षिण-पश्चिम मानसून की शुरुआत के लिए परिस्थितियां अनुकूल होने की प्रबल संभावना है।

पश्चिम-मध्य अरब सागर के ऊपर कम दबाव का क्षेत्र

  1. पश्चिम-मध्य अरब सागर के ऊपर एक कम दबाव का क्षेत्र बना है। अगले 48 घंटों के दौरान इसके कम दबाव के क्षेत्र (डिप्रेशन) के रूप में केंद्रित होने की बहुत संभावना है। अगले 3 दिनों के दौरान इसके उत्तर-पश्चिम की ओर -दक्षिण ओमान और पूर्वी यमन तट – जाने की संभावना है।

मछुआरों के लिए चेतावनी

  1. मछुआरों को सलाह दी जाती है कि वे 29 मई, 2020 से 1 जून, 2020 के दौरान पश्चिम– मध्य अरब सागर में न जाएँ।
  2. मछुआरों को यह भी सलाह दी जाती है कि वे 31 मई, 2020 से 4 जून, 2020 के दौरान दक्षिण-पूर्व और पूर्व मध्य अरब सागर में न जाएँ।
इस दौरान पश्चिमी विक्षोभ और क्षोभमंडल के निचले स्तरों में एक पूर्व-पश्चिम कम दवाब के क्षेत्र के प्रभाव से, 28/30 मई, 2020 के दौरान पश्चिमी हिमालय क्षेत्र और आसपास के मैदानी इलाकों में अलग-अलग स्थानों पर बिजली, ओलों व तेज हवाओं के साथ बारिश / आंधी की सम्भावना है।
इसके परिणामस्वरूप, उत्तर भारत के मैदानी इलाकों और मध्य एवं पश्चिम भारत में अधिकतम तापमान अगले 3-4 दिनों के दौरान 3-4 डिग्री सेल्सियस तक कम होने की संभावना है। इसलिए आज, उत्तर-पश्चिम और मध्य भारत के अलग-अलग इलाकों में गर्मी ( हीट वेव) की स्थिति बनी रहेगी तथा कल से गर्मी में कमी आयेगी।
♦अगले 24 घंटों के दौरान त्रिपुरा और मिजोरम में अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा तथा असम और मेघालय में भारी वर्षा। 28 से 31 मई 2020 के दौरान दक्षिण प्रायद्वीपीय भारत के कुछ हिस्सों में अलग-अलग स्थानों पर भारी वर्षा तथा 30 से 31 मई, 2020 के दौरान केरल और लक्षद्वीप में अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा।

 


Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *