Nationalwheels

#OnlineEducation लॉकडाउन में शहर से गांव तक घर बैठे पढ़ाए जा रहे बच्चे

#OnlineEducation लॉकडाउन में शहर से गांव तक घर बैठे पढ़ाए जा रहे बच्चे

कोरोनावायरस के संक्रमण के लिए देश में की गई लाकडाउन की कार्यवाही से सभी वर्गों का काम -काज ठप पड़ा हुआ है

न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स

सूबेदार सिंह

कोरोनावायरस के संक्रमण के लिए देश में की गई लाकडाउन की कार्यवाही से सभी वर्गों का काम -काज ठप पड़ा हुआ है । खाने पीने की समस्या ,रोजी रोजिगार छिनने की चिंता, बीमारी से अपनों की सलामती की फिक्र के साथ – साथ बच्चों की पढ़ाई भी चिंता का बड़ा कारण है।
प्रयागराज ज़िले के विद्यालय पहले ही खराब मौसम के चलते कई-कई दिन बंद रहे। फिर बोर्ड परीक्षाएं और त्योहार अब कोरोनावायरस को लेकर लाकडाउन, लोगों को लग रहा है कि पता नहीं यह स्थिति कब तक चलेगी। ऐसे निराशापूर्ण वातावरण में कुछ विद्यालयों के प्रबन्धन ने सराहनीय पहल की है। ये विद्यालय अपने छात्रों को घर बैठे ही आन लाइन शिक्षा दे रहे हैं। प्रयागराज के कई स्कूलों ने अपने छात्रों के लिए यह व्यवस्था शुरू की है।
प्रयागराज के घूरपुर बाजार स्थित राधा कृष्णन इंटर कॉलेज में भी छात्रों को आन लाइन शिक्षा दी जा रही है। विद्यालय के प्रधानाचार्य समीर त्रिपाठी ने बताया कि ऑनलाइन शिक्षा के लिए विद्यालय के सभी छात्रों को ऐप से जोड़ा गया है। विद्यालय में पढ़ाए जाने वाले लेक्चरस छात्र अपने मोबाइल फोन पर ले सके इसके लिए सभी छात्रों को लिंक भेजा गया है।
इसी तरह उनके फोन पर ही पीडीएफ नोट्स और होमवर्क भी दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि संबंधित वीडियो यूट्यूब पर भी अपलोड किए गए हैं जिससे छात्र घर बैठे आसानी से सीख सकें। यदि इसी तरह जिले के और भी विद्यालय अपने -अपने छात्रों के शिक्षा के लिए आन लाइन शिक्षा की प्रणाली विकसित करें तो छात्रों का भविष्य संवारा जा सकता है।
शहर के अंदर भी सीबीएसई से जुड़े सभी कॉलेजों में कक्षा 1 -12 तक विद्यार्थियों को मोबाइल ऐप के जरिए ऑनलाइन क्लास चल रही है। सभी विषयों के शिक्षक दिन में ऑनलाइन प्लेटफार्म पर बच्चों का ज्ञान बढ़ा रहे हैं। हालांकि, मानव संसाधन मंत्रालय ने यह साफ कर दिया है कि ऑनलाइन कक्षाओं को परीक्षा का हिस्सा नहीं बनाया जाएगा। विद्यार्थियों का समय न खराब हो, इसलिए यह तरीका निकाला गया है।

 


Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *