आधी रात को रेलवे बोर्ड चेयरमैन पहुंचे ट्रैक निरीक्षण पर, गैंगमैनों का बढ़ाया हौसला

सर्दियों का मौसम और कोहरे की छाया शुरू होते ही रेलवे की हलचल भी बढ़ गई है. 24 घंटे परिचालन होने के कारण रेल मार्गों के रखरखाव और ट्रेनों की सुरक्षा के लिए रातभर रेल पटरियों की निगरानी का काम भी सघनता से करने की चुनौती है. सोमवार की आधी रात को रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्वनी लोहानी भी इस चुनौती को देखने के लिए गैंगमैनों के बीच पहुंच गए.
जोनल और डिवीजनल अफसरों की फौज को जुटाए बिना गैंगमनों के बीच पहुंचे सीआरबी लोहानी ने गैंगमैनों से उनकी गतिविधियों और ट्रैक के रखरखाव के बारे में विस्तार से जानकारी हासिल की. अश्वनी लोहानी को ग्रुप डी और सी कर्मचारियों से सीधे बातचीत कर उनकी समस्याओं का समाधान के लिए जाना जाता है. यह निरीक्षण भी उसी कड़ी का हिस्सा है.
कोहरे और ठंड के दौरान यात्री ट्रेनों सकुशल दौड़ती हैं तो उनमें गैंगमैनों की बड़ी भूमिका है. सर्दियों के महीनों में गैंगमैन भारी चुनौती का सामना करते हैं, जब रेल फ्रैक्चर और अन्य गड़बड़ियों का पता लगाने के लिए पटरियों को पैदल गश्त करना पड़ता है.
ट्रैक गश्तीकर्ताओं द्वारा सामना की जाने वाली चुनौतियों का पहला हाथ लेने और उनके साथ उनके मनोबल को बढ़ावा देने के लिए अध्यक्ष रेलवे बोर्ड अश्विनी लोहानी ने रात्रि गश्त के साथ एक नई पहल की. 
अध्यक्ष ने नरेला और बदली रेलवे स्टेशनों के बीच मध्यरात्रि से अच्छी तरह से ट्रैक पर गैंगमैनों के साथ गश्त की. बेहद ठंडे मौसम में गश्ती दल के साथ कंधे से कंधे मिलाकर लगभग 5 किलोमीटर ट्रैक किया और गश्त के कामकाजी परिस्थितियों को बारीकी से देखा और अनुभव किया. लोहानी ने गश्त करने वालों और पर्यवेक्षकों से बातचीत की. साथ ही उनके सुरक्षा उपकरण, सुरक्षात्मक कपड़े, जूते, सर्दी जैकेट, एलईडी मशाल आदि की भी जांच की.
अध्यक्ष रेलवे बोर्ड के साथ डीआरएम दिल्ली डिवीजन आरएन सिंह भी रहे. डीआरएम ने समय-समय पर गहन निरीक्षण, उपकरणों की असफलताओं की निगरानी, कोहरे के दौरान ट्रेनों के संचालन पर पड़ने वाले प्रभाव और उसे कम करने के लिए विभिन्न उपायों के बारे में सीआरबी को बताया. डीआरएम सिंह ने त्वरित बहाली सुनिश्चित करने, ड्राइवर्स, गार्ड, स्टेशन मास्टर्स, केबिन मेन और ट्रेन रखरखाव टीम के बीच सतर्कता स्तर बढ़ाना,  इंजन में “फॉग सेफ डिवाइसेज” की स्थापना आदि की भी जानकारी दी.

 

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

NationalWheels will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.