NationalWheels

सीएम वसुंधरा को `बहुत मोटी` वाले बयान पर शरद यादव ने कहा-माफ कर दो

राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की शारीरिक बनावट को लेकर अभद्र टिप्पणी करने वाले वरिष्ठ नेता शरद यादव ने बयान पर माफी मांग ली है. शरद यादव के बयान पर वसुंधरा ने निर्वाचन आयोग से कार्रवाई की मांग करते हुए कहा था कि उन्हें खुद पर शर्म आ रही है. शरद ने सभी महिलाओं का अपमान किया है. शरद यादव इसके पहले भी महिलाओं पर विवादित बयान दे चुके हैं.
शरद यादव ने अलवर की एक चुनावी रैली में कहा था, ‘वसुंधरा को आराम दो, थक गई हैं, बहुत मोटी हो गई हैं.’ वसुंधरा की ओर से नाराजगी जाहिर करने के बाद शरद यादव ने कहा, ‘हमारा उनके (वसुंधरा) साथ बहुत की पुराना पारिवारिक संबंध है. अगर मेरे शब्द से उन्हें चोट पहुंची है तो मैं क्षमा चाहता हूं. मैं उन्हें पत्र भी लिखूंगा.’
शरद के माफी मांगने से पहले मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने शरद यादव की टिप्पणी को महिलाओं का अपमान बताया था. मुख्यमंत्री राजे ने झालावाड़ में मतदान करने के बाद संवाददाताओं से कहा के पूर्व केंद्रीय मंत्री यादव का बयान ‘उनका और विशेष रूप से महिलाओं का अपमान है.’ उन्होंने कहा, ‘मैं पूरी तरह हतप्रभ रह गयी. मुझे नहीं लगता है कि इतने लंबे अनुभव वाला और हमारे परिवार से करीबी ताल्लुकात रखने वाला कोई भी नेता अपनी वाणी पर संयम नहीं रख पाएगा. इससे बुरी बात और क्या हो सकती है?’
राजे ने कहा कि निर्वाचन आयोग को इस तरह के बयानों पर संज्ञान लेना चाहिए ताकि सुनिश्चित किया जा सके कि भविष्य में कोई ऐसी भाषा का इस्तेमाल ना करे. इसके साथ ही राजे ने कहा कि इस तरह की भाषा से युवा पीढ़ी को कोई अच्छा संदेश नहीं जाता है. यह भाषा तो कोई भी इस्तेमाल कर सकता है लेकिन बीजेपी नेताओं के मुंह से तो सुनने को नहीं मिलती. कांग्रेस व उसके सहयोगी दल के मुंह से क्यों सुनने को मिलता है.’
गैर भाजपा महिला नेताओं ने भी शरद की निंदा की थी
माकपा नेता बृंदा करात ने वरिष्ठ समाजवादी नेता शरद यादव से राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के लिये की गई टिप्पणी को आपत्तिजनक बताते हुये कहा था कि यादव को राजे से माफी मांगनी चाहिये. करात ने शुक्रवार को कहा ‘शरद यादव जैसे वरिष्ठ नेता द्वारा राजस्थान की मुख्यमंत्री के लिये इस तरह का अपमानजनक बयान देना बेहद आपत्तिजनक है. यादव को अपना बयान वापस लेकर माफी मांगना चाहिये.’
सपा के प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने कहा था ‘हम सभी को सार्वजनिक जीवन में मर्यादित एवं संयमित भाषा का इस्तेमाल करना चाहिये, जिससे कोई किसी की बात से आहत न हो.’ चौधरी ने कहा कि बीजेपी सहित सभी दलों के नेताओं को इस मर्यादा का ख्याल रखना चाहिये. 

 

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

NationalWheels will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.