National Wheels

#NCR : जीएम साहेब ! लीव रिजर्व ड्यूटी के लिए यहां चलती है उगाही की दुकान

#NCR : जीएम साहेब ! लीव रिजर्व ड्यूटी के लिए यहां चलती है उगाही की दुकान

प्रयागराज : उत्तर मध्य रेलवे के प्रयागराज जंक्शन के टिकट चेकिंग स्टाफ के “माई बाप” रेलवे को चूना लगाने का एक भी मौका छोड़ नहीं रहे है। हजारों यात्री कोचों को अनमैन्ड कराने के आरोपियों के खिलाफ रेल मंत्रालय, जोनल पीसीसीएम या डीआरएम कोई कदम उठाते, उसके पहले एक और गंभीर अनियमितता का खुलासा सामने आया है। किसी भी कारण से अवकाश जाने वाले कर्मचारियों के कार्य को पूरा करने के लिए बने लीव रिजर्व (LR) पूल में भी भारी अनियमितताएं सामने आई हैं। एलआर के अधिकतर कर्मचारियों को केवल दिल्ली जाने वाली ट्रेनों पर ड्यूटी के लिए भेजा जा रहा है। आरोप है कि लीव रिजर्व के कुछ कर्मचारी तो केवल प्रयागराज, दूरंतो एक्सप्रेस जैसी चुनिंदा ट्रेनों में ही ड्यूटी कर रहे हैं। सेटिंग बाज यह कर्मचारी “ऊपर” वालों को हर तरह से खुश करना और रखना जानते हैं। इसी का प्रसाद मुंहमांगी ड्यूटी है।

प्रयागराज जंक्शन के टिकट चेकिंग स्टाफ के मुखिया यानि सीआईटी लाइन राकेश चौधरी की मनमानी और रेलवे नियमों को ताक पर रखकर काम करने का नतीजा पांच महीने में 10 हजार से अधिक कोचों के अनमैन्ड होने का परिणाम दे चुकी हैं। यह ऐसी गड़बड़ी है जिसे छिपाना या दबाना अब संभव नहीं है। ऐसा ही मामला एलआर का भी है। इसमें भी व्यापक पैमाने पर सीआईटी लाइन के स्तर पर गड़बड़ियां की गई हैं।

चुनिंदा ट्रेनों में जाने वाले कर्मचारी

17 जुलाइ 2022 से एक महीने की ड्यूटी की छानबीन में चौंकाने वाली गड़बड़ियां आई हैं। जंक्शन पर एलआर में करीब 48 स्टाफ बताया गया है। सूत्रों के अनुसार इसमें रेखा श्रीवास्तव, रजनीश पांडे, देवेंद्र पांडे, जफर आलम, जेएन सिंह, अभिषेक कुमार और अनंत शर्मा केवल दिल्ली ड्यूटी कर रहे हैं। ये कर्मचारी प्रयागराज एक्सप्रेस, हमसफर एक्सप्रेस में ड्यूटी कर रहे हैं। महीनेभर में यदि एक या दो ड्यूटी दूसरी ट्रेनों में कई भी तो सिर्फ दिल्ली ही गए। रमेश पाल और अरुणेश वर्मा भी दिल्ली ड्यूटी कर रहे हैं।

मनीष झा केवल रांची गरीब रथ में दिल्ली आ-जा रहे हैं। संदीप यादव को कूल्हे संबंधी समस्या के कारण मेडिकल आधार सीनियर डीसीएम ने शार्ट ड्यूटी और लाइट ड्यूटी के लिए निर्देशित किया है। जबकि वह भी लगातार दिल्ली जाने वाली ट्रेनों में ड्यूटी कर रहे हैं।

क्या कहता है नियम

रेलवे बोर्ड ने लीव रिजर्व में जूनियर कर्मचारियों को रखने की व्यवस्था की है। साथ ही इन एलआर कर्मचारियों को नियमित ड्यूटी कर रहे कर्मियों के अवकाश पर जाने पर उनकी जगह लगाये जाने के निर्देश हैं। ऐसे वक्त में एलआर कर्मियों को नियमित कर्मचारी के रोस्टर के अनुसार ड्यूटी और साप्ताहिक अवकाश मिलते हैं। जबकि प्रयागराज जंक्शन पर बड़ी संख्या में सीनियर कर्मचारी जुगाड़ और लेनदेन से एलआर में शामिल होकर दिल्ली ड्यूटी कर रहे हैं।

आरोप हैं गंभीर

सूत्रों का दावा है कि एलआर ड्यूटी में गड़बड़ी और घालमेल के जरिए लाभ पाने वाले कर्मचारियों से अनियमित तरीके से उगाही की जा रही है।₹ ₹  6000-10000 तक प्रति कर्मचारी उगाही के आरोप हैं। हालांकि, रुपये की वसूली की पुष्टि “नेशनल व्हील्स” नहीं करता है। लेकिन इतना तो स्पष्ट है कि मनमानी ड्यूटी के बदले अनुचित लाभ जरूर लिए जा रहे हैं। बगैर लाभ कोई भी व्यक्ति नौकरी को नहीं फंसाएगा।

जांच का खुलासा भी जल्द

“नेशनल व्हील्स” संवाददाता की शिकायत पर सीनियर डीसीएम ने रोस्टर और एलआर की जांच पिछले सप्ताह कराया था। सूत्र बताते हैं कि तीन सदस्यीय कमेटी ने जांच के दौरान कई गंभीर गड़बड़ियां पाईं। हालांकि, इस मामले में कोई कार्रवाई अब तक नहीं हुई है। जल्द ही कमेटी को मिली कमियों को भी उजागर किया जाएगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.