Nationalwheels

मिर्जापुरः गंगा पर बना ये पुल है जर्जर, चुनाव से अटका मरम्मत का काम, फिरभी है झाम

मिर्जापुरः गंगा पर बना ये पुल है जर्जर, चुनाव से अटका मरम्मत का काम, फिरभी है झाम
न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स

बिमल चंद यादव

मिरजापुर को पूर्वांचल से जोड़ने वाला गंगा पर बना शास्त्री ब्रिज जर्जर हो चुका है। भारी वाहनों के सरपट दौड़ते वक्त यह कभी भी ढह सकता है। लोक निर्माण विभाग ने इसकी गंभीरता को देखते हुए पुल की मरम्मत के लिए फौरन काम चालू करने का अनुरोध किया था। इजाजत भी मिल गई लेकिन लोकसभा चुनावों के कारण 23 से 29 अप्रैल तक चलने वाला मरम्मत का कार्य जिला प्रशासन ने रोक दिया है। हालांकि, लोक निर्माण विभाग के अफसरों का कहना है कि पुल की मरम्मत के लिए केंद्रीय अनुसंधान संस्थान, नई दिल्ली के इंजीनियर मौके पर पहुंच जाएंगे तो सीमित प्रतिबंधों के साथ कार्य किया जा सकता है। ऐसे में अगले एक सप्ताह तक शास्त्री पुल से मिरजापुर और विन्ध्याचल की ओर जाने वाले भयंकर जाम के शिकार भी हो सकते हैं।
जिले को पूर्वांचल से जोड़ने वाले गंगा नदी पर बने शास्त्री पुल को मरम्मत और जांच के लिए 23 अप्रैल से 29 अप्रैल तक वाहनों का आवागमन बंद रखने के लिए डीआईजी रेंज ने यातायात रोकने का निर्देश दिया था। लोक निर्माण विभाग की पूरी टीम भी कमर कस चुकी थी लेकिन ऐन मौके पर देर शाम इस प्रतिबंध को चुनाव के मद्देनजर हटा दिया गया।
बताते हैं कि शास्त्री सेतु की जांच के लिए केन्द्रीय सड़क अनुसंधान संस्थान नई दिल्ली के वरिष्ठ प्रमुख वैज्ञानिक एवं उनकी टीम मिर्ज़ापुर पहुंच चुकी है। इस टीम की अगुवाई में ही 23 अप्रैल से 29 अप्रैल के बीच पुल की जांच और मरम्मत का कार्य किया जाना है। इस अवधि के दौरान शास्त्री सेतु की क्षमता की जांच संस्थान के प्रमुख वैज्ञानिक एवं उनकी टीम को करना था। साथ ही मोबाईल ब्रिज इन्स्पेक्शन यूनिट नामक वाहन भी पुल पर दौड़ाकर इसकी क्षमता का आकलन करती। गौरतलब है कि यह पुल और सड़क राज्य मार्ग से अब राष्ट्रीय राजमार्ग का हिस्सा बन चुका है।
बता दें कि 28 खंभों पर खड़े शास्त्री पुल के कुछ खंभों की वेयरिंग टूट कर गंगा में गिर गई है। कुछ खम्भों की वियरिंग भी टूट गई है, जिसकी वजह से पुल जर्जर हो चुका है। यही नहीं, इस पुल से बड़े वाहन के गुजरने पर पुल में कंपन अधिक होता था। इसके कारण पुल के गिरने का भी खतरा लगातर बना हुआ है। स्थानीय लोक निर्माण विभाग के इंजीनियरों की टीम द्वारा जांच के बाद जिला प्रशासन ने कुछ दिनों पहले बड़े वाहन के आवागमन पर रोक लगा दिया। हालांकि, शुरुआती जांच के बाद यह रोक हटा दी गयी।
केंद्रीय सड़क अनुसंधान संस्थान के अभियंताओं को शास्त्री सेतु के 15वें नंबर जर्जर खंभे की बेयरिंग व पुल के छह और खंभों 12,13,14,25,26, 27 की जर्जर हो चुकी बेयरिंग के मरम्मत और बदलने का कार्य करना है।
प्रान्तीय खण्ड लोनिवि के अधिशासी अभियन्ता ने बताया है कि लोकसभा सामान्य निर्वाचन-2019 की प्रक्रिया प्रचलित होने के कारण वाहनों के आवागमन पर प्रतिबन्ध लगाये जाने पर जनपद की कानून-व्यवस्था प्रभावित होने व लोकसभा सामान्य निर्वाचन प्रक्रिया में बाधा उत्पन्न होने की आशंका के कारण ही आवागमन प्रतिबंध को रोक दिया गया है।हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि यदि जाँच के लिए केंद्रीय टीम आती है तो सीमित अवधि के लिए पुल पर आवागमन को प्रतिबन्धित किया जायेगा।

 

Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *