#Kumbh2019 राष्ट्रीय एकता, सामाजिक समरसता तथा अध्यात्मिकता का प्रतीक है: डिप्टी सीएम केशव

न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स       
#Kumbh2019 उ0प्र0 के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या ने कहा है कि हमारी संस्कृति और कुम्भ राष्ट्रीय एकता, सामाजिक समरसता तथा अध्यात्मिकता का प्रतीक हैं. प्रयागराज कुम्भ देश के विभिन्न हिस्सों से आने वाले विभिन्न समुदायों में अनेकता में एकता को बढ़ावा देता है. योग ने भारत को विश्वगुरु के रुप में स्थापित किया है. डिप्टी सीएम ने कहा कि स्वयं में शक्तिशाली होने पर ही लोग आपकी बातों को अमल में लाते हैं. अतः हमें अपनी संस्कृति को सबल बनाना है. कुम्भ मेला क्षेत्र के सेक्टर-15 मोरी मार्ग, दिव्य प्रेम सेवा मिशन के व्याख्यान ’वैश्विक शांति का आधार पर आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने कुंभ को अंतर्राष्ट्रीय ब्रांड बनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रति आभार भी जताया.

समारोह में योगगुरु स्वामी रामदेव ने कहा कि हमारा धर्म सार्वभौमिक, वैज्ञानिक, करुणामयी तथा सर्वहितकारी है. हमारी संस्कृति निरंतर प्रगतिशील है जिसमें वेद हमारे पूरक प्रमाण के रुप में हैं. हमारे पूर्वजों का इतिहास गौरवशाली तथा आचरण श्रेष्ठतापूर्ण रहा है. इसलिए हमें अपनी संस्कृति पर गर्व होना चाहिए. उन्होंने कहा कि विश्व में शांति लाने के लिए अशान्ति को दूर करना होगा. समाज में अशान्ति, साम्यवाद, साम्राज्यवाद, आतंकवाद, जातिवाद, ढ़ोंग-आडम्बर, अन्याय तथा षड्यंत्रों के कारण फैली हुई है.
योगगुरु ने कहा कि जब हम एक पूर्वज की संतान हैं तो असमानता कैसे आ सकती है. उन्होंने साधु शब्द को परिभाषित करते हुए कहा कि साधु का अर्थ संयमशील होता है. हमें अपने समाज से ढ़ोंग-आडम्बर, अंधविश्वास तथा तांत्रिकता को खत्म करना होगा. किसी भी विषय वस्तु पर तथ्यात्मक तथा तुलनात्मक दृष्टिकोण से विचार करना होगा, जिससे आपसी वैमनस्य से बचा जा सके. उन्होंने कहा कि हमें भेद-भाव तथा जातिवाद को समाप्त करते हुए आडम्बरों से बाहर निकलना होगा.
आयुक्त ग्राम्य विकास डाॅ. एनपी सिंह ने कहा कि विश्व में शांति जड़त्व तथा स्थिरत्व के रुप में नहीं होनी चाहिए, इसमें गतिशीलता होना चाहिए. हमें इसकी गतिशीलता को ढूंढ़ना है जिससे शांति का मार्ग प्रशस्त किया जा सके. उन्होंने भारतीय दर्शन के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए उसके वैज्ञानिक पक्षों पर भी प्रकाश डाला. उन्होंने कहा कि भारतीय संस्कृति प्रेम-भक्ति भाव पर आधारित है, जो सतत रूप से गतिशील है.
उच्चतम न्यायालय की अधिवक्ता मोनिका अरोड़ा ने भारतीय विचारों, चिंतनों पर प्रकाश डाला. उन्होंने कहा कि ईश्वर एक है परन्तु उस तक पहुॅचने के मार्ग अलग-अलग हैं. भारतीय परंपरा वसुधैव कुटुम्बकम् को बढ़ावा देने वाली है. सम्पूर्ण संसार एक परिवार के रूप में समाहित है. कार्यक्रम की शुरुआत स्वामी रामदेव, मोनिका अरोड़ा तथा एनपी सिंह ने दीप प्रज्ज्वलन करके किया. इस अवसर पर 5 वर्षीय बालक देवांग दीक्षित के हार्मोनियम से जन-गण-मन की प्रस्तुति पर श्रोताओं ने राष्ट्रगान का गायन किया.
इसके पूर्व उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने अशासकीय स्वःवित्त विद्यालय महासंघ के बीबीएस इण्टरनेशनल स्कूल एण्ड कालेज, गोहरी सोरांव रोड पर आयोजित कार्यक्रम में भाग लेते हुये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘मन की बात’ कार्यक्रम में शिक्षकों, प्रधानाचार्यो एवं छात्र-छात्राओं के साथ सुना. इस अवसर पर टाॅपर्स बच्चों को पुरस्कृत भी किया और उन्हें आगे बढ़ने की प्रेरणा दी. कार्यक्रम की अध्यक्षता विधायक चायल संजय कुमार गुप्ता ने की.

 

Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

NationalWheels will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.