#Kumbh2019 परमार्थ निकेतन शिविर में हरियाणा के मुख्यमंत्री खट्टर ने दीं विश्व शांति की आहुतियां

स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज से भेंटवार्ता कर की विभिन्न मुद्दों पर चर्चा, संगम पूजन और वाटॅर ब्लेसिंग सेरेमनी की
न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स       

राजीव जायसवाल

प्रयागराज। अरैल कुम्भ मेला स्थित परमार्थ निकेतन शिविर में मंगलवार को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर पहुंचे. यहां उन्होंने परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती महाराज से भेंटवार्ता कर विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की. इस मौके पर मुख्यमंत्री ने विश्व शान्ति हेतु वेद मंत्रों के साथ आहूतियां प्रदान की. साथ ही संगम पूजन और जल संरक्षण के संकल्प के साथ वाटॅर ब्लेसिंग सेरेमनी सम्पन्न की.
स्वामी चिदानन्द सरस्वती महाराज ने पराली जलाने से बढ़ते वायु प्रदूषण पर चिंता व्यक्त करते हुये पराली सेे ईको फे्रंडली घर बनाने, जियो ट्यूब तकनीक को यमुना नदी में गिरने वाले नालों पर लागू करने, जिस प्रकार प्रयागराज में संगम में गिरने वाले नालों के जल को स्वच्छ जल में परिवर्तित करने हेतु लगायी गयी है, का जिक्र परमार्थ निकेतन शिविर में भारत के राष्ट्रपति महामहिम रामनाथ कोविंद व उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने भी किया था. स्वामी जी महाराज ने कहा कि यमुना में गिरने वाले नाले चाहे वह हरियाणा में हो या फिर दिल्ली में, सभी का समाधान निकाला जा सकता है. उन्होंने परमार्थ निकेतन शिविर में जल को स्वच्छ और पीने योग्य करने वाली ’’पी लो पानी’’ ’’हैंडवाशिग स्टेशन’’ तथा संचालित स्वच्छता का संदेश देने वाली अन्य गतिविधियों पर चर्चा की.

स्वामी चिदानन्द ने कहा कि कुम्भ जैसे महोत्सव विश्व की सुख शान्ति और समृद्धि हेतु किये जाते है. इसमें अध्यात्म के साथ प्रकृति, पर्यावरण और प्राणियों की सुरक्षा पर भी चितंन करना नितांत आवश्यक है. हरियाणा में पराली को जलाने की समस्या विकराल है उसका समाधान निकालना जरूरी है। पराली से होने वाले प्रदूषण को काफी हद तक कम किया जा सकता है, हम इस ओर कार्य कर रहे है। एग्री बोर्ड के माध्यम से पांच से सात दिनों में एक सुन्दर मकान तैयार किया जा सकता है जो कि वाटरप्रूफ होता है, साथ ही ये बोर्ड लगभग 1100 सेल्सियस तक तापमान सहन कर सकते है, कीड़े और दीमक का खतरा भी नहीं रहता तथा इससे बने घरों का तापमान भी बाहर के मुकाबले कम रहता है. स्वामी जी ने जानकारी दी कि पराली से बोर्ड भारत में ही तैयार किये जा रहे है, इनसे महज तीन लाख रूपये में 300 वर्गफीट का मकान तैयार किया जा सकता है। पराली का उपयोग कर हम वायु प्रदूषण को कम करने के साथ स्लम एरिया और झुग्गी-झोपड़ी वाले स्थानों पर सुन्दर मकान बना सकते है. इससे भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का ’’हर परिवार का अपना घर हो’’ का सपना भी पूरा किया जा सकता है.
मुख्यमंत्री हरियाणा मनोहर लाल खट्टर ने परमार्थ निकेतन शिविर में प्रवेश करते ही जूट से बने सुन्दर, सुसज्ज्ति टैंट, रंगोली और दीवारों पर बने आकर्षक चित्र मानों दीवारें वेद मंत्र, भारतीय संस्कृति और स्वच्छता के संदेश दे रही हो देखकर अभिभूत हो गये. उन्होने कहा कि देश की हर दीवार इसी तरह बोलने लगे तो विचार और व्यवहार में विलक्षण परिवर्तन हो सकता है. स्वामी चिदानन्द सरस्वती महाराज और जीवा की अन्तर्राष्ट्रीय महासचिव साध्वी भगवती सरस्वती के साथ मुख्यमंत्री हरियाणा ने वाटॅर ब्लेसिंग सेरेमनी की और कहा कि जल प्रदूषण वास्तव में एक गंभीर समस्या है. उन्होने कुम्भ के पश्चात स्वामी जी महाराज को हरियाणा में आमंत्रित किया और कहा कि इन सभी उपयुक्त चर्चाओं को लागू करने हेतु हमारे अधिकारियों से साथ बैठकर सुचारू योजना बनाने हेतु आप हमारा मार्गदर्शन करे.

 

Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

NationalWheels will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.