Nationalwheels

प्रयागराज की आजाद गैलरी में मिलेगा सभी भारतीय क्रांतिकारियों से जुड़ा `खजाना`

प्रयागराज की आजाद गैलरी में मिलेगा सभी भारतीय क्रांतिकारियों से जुड़ा `खजाना`
न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स , प्रयागराज      
प्रदर्शनी गैलरी और कुम्भ गैलरी का उद्घाटन 15 से पहले होगा- राज्यपाल श्री राम नाईक. कुम्भ की परम्परा, इतिहास और मंथन से जो अमृत निकला था, राष्ट्रीय अभिलेखागार द्वारा फ्रेम्ड मैप भेजा जा रहा है जो 100 साल पहले के कुम्भ को रिफलेक्ट करेगा.
 
प्रयागराजः #kumbh2019 पर संगम स्नान करने के लिए पहुंचने वाले पर्यटकों और श्रद्धालुओं को प्रयागराज की आजाद गैलरी भी नया सुख अनुभव कराएगी. इस गैलरी में देशभर के क्रांतिकारियों के चित्र और उनके मूल अभिलेख रखे जाएंगे. उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने प्रयागराज संग्रहालय के अधिकारियों को निर्देश दिया है कि प्रस्तावित आजाद गैलरी में पूरे भारत के क्रान्तिकारियों के चित्र और उनके मूल अभिलेख को संग्रहालय में प्रदर्शित किया जाए.
उन्होंने कहा कि प्रस्तावित आजाद गैलरी के बारे में मिनिस्टरी आॅफ कल्चर के मंत्री जी स्वयं आकर संग्रहालय का भ्रमण करें. वस्तुस्थिति को देखने के बाद ही अंिन्तम निर्णय लिया जाएगा. राज्यपाल सोमवार को संग्रहालय में कुम्भ-2019 के कार्यों की समीक्षा बैठक कर रहे थे. उन्होंने संग्रहालय के अधिकारियों और समिति के सदस्यों से आजाद गैलरी के बनाने में सुझाव मांगा. राज्यपाल ने संग्रहालय का भ्रमण करके प्रस्तावित आजाद गैलरी स्थल, स्वतंत्रता संग्राम वीथिका (फ्रीडम स्ट्रगल गैलरी) तथा आधुनिक चित्र वीथिका एवं अन्य वीथिका का निरीक्षण किया.
उल्लेखनीय है कि प्रस्तावित आजाद गैलरी का एरिया साढ़े छह हजार स्क्वाॅयर फीट है, जो मिनिस्टरी आॅफ कल्चर का प्रस्तावित आजाद गैलरी है और इस प्रोजेक्ट की लागत 08 करोड़ है. 
बैठक में नेशनल कौंसिल आॅफ साइंस म्यूजियम के क्यूरेटर विजय शंकर शर्मा ने फिल्म के जरिये अपना प्रेजेंटेशन दिखाया. संग्रहालय के निदेशक डाॅ0 सुनील गुप्ता ने बताया कि संग्रहालय में मुख्य कलाकृतियां और कलेक्शन हैं. जैसे प्राचीन मूर्तियां, बंगाल स्कूल की चित्रकला, अन्तर्राष्ट्रीय रूसी पेन्टर निकोलस रोरिक के चित्र और विनिएमर पेन्टिग, राजस्थानी और मुगल शैली की पुरानी मूर्तियां, गुप्त काल के सोने के सिक्के आदि.

(चंद्रशेखर आजाद की पिस्तौल)

विचार-विमर्श हुआ कि संग्रहालय के सेन्टर हाल को पूरी विविधता के साथ रिफलेक्ट करें. कुम्भ के पहले संग्रहालय का आधुनिकीकरण और पेन्टिग करना है. निदेशक ने बताया कि असीत कुमार हालदार की पेन्टिग लग गयी है. 15 जनवरी से पहले प्रदर्शनी गैलरी और कुम्भ गैलरी का उद्घाटन होने की सम्भावना है.
उन्होंने बताया कि कुम्भ की परम्परा, इतिहास और मंथन से जो अमृत निकला था, राष्ट्रीय अभिलेखागार द्वारा फ्रेम्ड मैप भेजा जा रहा है जो 100 साल पहले के कुम्भ को रिफलेक्ट करेगा. उन्होंने बताया कि 15 जनवरी से पहले कुम्भ स्पेशल एन्ट्री टिकट रीलिज होगा. 
निदेशक ने यह भी बताया कि काकोरी कांड के विष्णुशरण दुबलिस का ओरिजनल पत्र प्राप्त हो गया है. वीर सावरकर की व्यक्तिगत डायरी, राजगुरू के पत्र, भगत सिंह की पिस्तौल को संग्रहालय में लाने का प्रयास हो रहा है. बैठक में राज्यपाल के अपर मुख्य सचिव हेमन्त राव, समिति के सदस्य प्रो0 योगेश्वर तिवारी, संयुक्त निदेशक कोषागार एवं पेंशन आरएन मिश्र, प्रो0 यूसी चटोपाध्याय एवं संग्रहालय के सम्बन्धित अधिकारीगण मौजूद थे.

 

Nationalwheels India News YouTube channel is now active and buzzing. Please subscribe here

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *