Nationalwheels

दिल्ली में बैठकर कश्मीरी व्यापारी पाकिस्तानी आतंकी सरगनाओं से सीधे लेता था पैसे

दिल्ली में बैठकर कश्मीरी व्यापारी पाकिस्तानी आतंकी सरगनाओं से सीधे लेता था पैसे
न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स
राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की टेरर फंडिंग को लेकर तेजी से आगे बढ़ी जांच ने सुरक्षा एजेंसियों के भी होश उड़ा रखे हैं. अब तक की जांचों से यह साफ हो चुका है कि कश्मीरी आतंकी देश की राजधानी दिल्ली के रास्ते पाकिस्तान से धन प्राप्त करते थे. आतंकियों और उनके शरणदाताओं तक धन पहुंचाने का बड़ा ठेकेदार हवाला ऑपरेटर जहूर अहमद शाह वटाली निकला है. वटाली दिल्ली में बैठकर पाकिस्तानी आतंकी सरगनाओं हाफिज सईद, सैयद सलाउद्दीन और पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी से सीधे रकम हासिल कर रहा था. शुक्रवार को प्रवर्तन निदेशालय ने वटाली का गुरुग्राम में सीज किए गए बंगले की जब्ती की कार्रवाई शुरू कर दी है.
आतंकियों तक फंड की पहुंच रोकने और उनकी आय के स्रोतों पर रोक लगाने के लिए अब तक हुई जांच में सीज की गई संपत्तियों की जब्ती की कार्रवाई शुरू कर दी गई है. फरवरी में ईडी ने वटाली का गुरुग्राम में एक करोड़ रुपये से ज्यादा कीमत वाले एक फ्लैट को सीज किया था. आरोप है कि यह फ्लैट आतंकी सरगनाओं से मिली रकम से वटाली ने खरीदा था. यह आशंका भी है कि इस फ्लैट का इस्तेमाल आतंकी गतिविधियों के लिए भी होता रहा है. एएनआई ने ईडी सूत्रों के हवाले से कहा है कि जहूर अहमद शाह वटाली सीधे दिल्ली में हाफिज सईद, सैयद सलाउद्दीन और आईएसआई एचसी से पैसे प्राप्त कर रहा था.

वटाली को एनआईए ने दिल्ली से गिरफ्तार किया था. वह टेरर फंडिंग मामलों में इन दिनों तिहाड़ जेल में बंद है. सूत्रों का कहना है कि केंद्र सरकार ने आतंकियों के फाइनेंर्स से संबंधित संपत्तियों को जब्त करना शुरू कर दिया है.
एनआईए ने तीन व्यक्तियों और उनकी संपत्तियों की पहचान कर ली है. पहले चरण में चल रही जांच के दौरान सात करोड़ रुपये मूल्य की परिसंपत्तियों को जब्त करने के लिए चिह्नित किया गया है. यह संपत्तियां आतंकी फंडिंग अपराधों की आय के रूप में पहचानी गई हैं. अधिकारियों का कहना है कि देश की राजधानी से लेकर कश्मीर तक जांच का असर अब दिखने लगा है.
दिल्ली में बैठकर आतंकियों के फाइनेंसर काम कर रहे थे. यह काम पिछले कई वर्षों से चल रहा था लेकिन जांच के अभाव में कार्रवाई नहीं हुई. इसका फायदा आतंकियों और उनके आकाओं ने उठाया. यह पहला मौका है जबकि दिल्ली से श्रीनगर तक छापेमारी की गई. आतंक के आकाओं और फाइनेंसरों की नकेल कसी गई है.
गौरतलब है कि शुक्रवार को ही प्रवर्तन निदेशालय ने कश्मीरी अलगाववादी नेताओं सैयद अली शाह गिलानी पर 10 हजार डॉलर को अवैध तरीके से बदलने के आरोप में 14.40 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है. साथ ही यासीन मलिक पर भी विदेशी मुद्रा के अवैध लेनदेन के आरोप में जुर्माना लगाया गया है.
Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *