Nationalwheels

#IPPB के बने एक करोड़ ग्राहक और 5 करोड़ का लक्ष्य, बिना बैंक सेवा वालों को बैंकिंग और वित्तीय सेवाएं देगा इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक

#IPPB के बने एक करोड़ ग्राहक और 5 करोड़ का लक्ष्य, बिना बैंक सेवा वालों को बैंकिंग और वित्तीय सेवाएं देगा इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक
न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स
संचार, इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी और विधि एवं न्याय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आईपीपीबी) द्वारा आधार सक्षम भुगतान सेवाएं (एईपीएस) शुरू करने की घोषणा की है। इसके द्वारा वित्तीय सेवाओं की पहुंच उन लाखों ग्राहकों तक फैलाने के प्रयासों को बढ़ावा मिलेगा जो बैंकिंग सेवाओं के बजाय नकद का इस्तेमाल अधिकतर करते हैं और जो बैंकिंग सेवाओं का उपयोग ही नहीं करते। इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक की पहली वर्षगांठ के मौके पर केंद्रीय मंत्री ने आईपीपीबी को 1 करोड़ ग्राहकों की उपलब्धि हासिल करने के लिए बधाई दी और उन्हें अगले एक वर्ष में 5 करोड़ ग्राहकों का लक्ष्य प्राप्त करने के लिए भी प्रोत्साहित किया। प्रत्यक्ष लाभ अंतरण (डीबीटी) मंच पर लाई गई 440 केंद्रीय योजनाओं का संदर्भ देते हुए श्री प्रसाद ने कहा कि ये सब योजनाएं आईपीपीबी के मंच पर भी आनी ही चाहिए। उन्होंने कहा ‘समावेशी’ होना ही इस सरकार का केंद्रीय मंत्र है और डाक विभाग को बिना बैंक सेवा वालों को बैंक सेवाएं देने, वित्तहीन को वित्त मुहैया करवाने और असुरक्षित को सुरक्षित करने का प्रयास करना चाहिए।
आधार सक्षम भुगतान सेवाओं (एईपीएस) की शुरुआत के साथ आईपीपीबी अपने पोस्टल नेटवर्क की अभूतपूर्व पहुंच के आखिरी मील तक का लाभ लेते हुए किसी भी बैंक के ग्राहकों को अंतर-संचालित बैंकिंग सेवाएं मुहैया करवाने के लिहाज़ से देश में ऐसा अकेला सबसे बड़ा मंच बन गया है।

किसी भी बैंक खाते की जानकारी एईपीएस

भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (एनपीसीआई) द्वारा स्थापित मजबूत अंतर-संचालित प्रौद्योगिकी मंच के साथ वाला इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आईपीपीबी) का नेटवर्क देश के सबसे दूर-दराज़ के हिस्सों में भी हर घर में बैंकिंग को ले जाने के लिए तैयार है। एईपीएस सेवाओं के कारण आधार से जुड़े बैंक खाते वाला कोई भी आम इंसान नकद निकासी और शेष राशि की जांच जैसी बुनियादी बैंकिंग सेवाओं का फायदा ले सकता है, भले ही उसका खाता किसी भी बैंक में हो। इन सेवाओं का फायदा लेने के लिए आधार से जुड़े खाते वाला कोई ग्राहक अपने भुगतान को पूरा करने के लिए बस फिंगरप्रिंट स्कैन और आधार प्रमाणन के साथ अपनी पहचान को पुष्ट कर सकता है।
एईपीएस सेवाओं की शुरुआत पर श्री प्रसाद ने कहा, “विश्व की सबसे बड़ी वित्तीय समावेशन पहल के रूप में प्रधानमंत्री जन धन योजना लाखों लोगों को आर्थिक मुख्यधारा में लेकर आई है। जन धन योजना के 34 करोड़ से भी ज्यादा खाते हैं और इनमें से 22 करोड़ खाताधारक ग्रामीण भारत में हैं। आईपीपीबी की एईपीएस सेवाओं के साथ अब हमारे पास 34 करोड़ जन धन खाताधारकों समेत किसी भी बैंक के ग्राहकों के द्वार तक अंतर-संचालित बैंकिंग सेवाएं मुहैया करवाने की योग्यता है। इससे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का वो विज़न पूरा होता है जो उन्होंने पिछले साल आईपीपीबी की शुरुआत के वक्त सामने रखा था कि बैंकों को ग्रामीणों और गरीबों के द्वार तक ले जाने का आर्थिक परिवर्तन लाया जाए।”

सबसे बड़ा अंतर संचालित बैंकिंग मंच

डाक विभाग के सचिव एएन नंदा ने कहा कि हमारा यकीन रहा है कि वित्तीय और बैंकिंग सेवाओं का लोगों और समुदायों की जिंदगियों पर परिवर्तनकारी असर होता है। इनमें से बड़ी संख्या में लोगों के लिए पोस्टमैन और ग्रामीण डाक सेवक आखिरी मील तक उन्हें विभिन्न वित्तीय सेवाओं की आपूर्ति करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण ज़रिया होते हैं जो इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक को सबसे सुलभ, सस्ता और विश्वसनीय बैंक बनाते हैं। इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक द्वारा एईपीएस की शुरुआत अंतर-संचालित बैंकिंग ढांचे को ढाई गुना तक बढ़ा देता है। ये नेटवर्क बैंक के बजाय नकद व्यवहार करने वाले लाखों लोगों के दरवाजे तक बैंक की सुविधा लाता है और पारंपरिक बैंकिंग पारिस्थितिकी तंत्र में पहुंच से जुड़ी चुनौतियों का सामना करने वाले ग्राहकों के समावेशन को ताज़ा बल देता है।
इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक के प्रबंध निदेशक और सीईओ सुरेश सेठी ने कहा कि एईपीएस सेवाओं की शुरुआत के साथ अब आईपीपीबी देश में एकमात्र सबसे बड़ा अंतर-संचालित बैंकिंग मंच बन गया है। एईपीएस का लाभ लेते हुए ग्राहक, डाकियों और ग्रामीण डाक सेवकों के माध्यम से अपने दरवाजे पर नकद निकासी और शेष राशि जांच के लिए सिर्फ अपने फिंगरप्रिंट का इस्तेमाल करते हुए किसी भी बैंक वाले अपने खातों तक पहुंच सकते हैं। आईपीपीबी की सेवाएं अब 136,000 से ज्यादा डाक घरों में उपलब्ध है और इनकी आपूर्ति 195,000 से ज्यादा डाकियों और ग्रामीण डाक सेवकों द्वारा की जाती है। डाकियों और ग्रामीण डाक सेवकों की तकरीबन रोज़ाना हर गांव तक पहुंचने की योग्यता से बैंकिंग सेवाओँ तक पहुंच की दूरी घटकर ‘0 किलोमीटर’ तक रह गई है जिससे ‘आपका बैंक आपके द्वार’ की भावना सच में साकार होती है।”

इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक के बारे में

इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आईपीपीबी) की स्थापना संचार मंत्रालय में डाक विभाग के अंतर्गत की गई है जिसकी 100 फीसदी हिस्सेदारी पर भारत सरकार का स्वामित्व है। आईपीपीबी की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 1 सितंबर 2018 को की गई थी। इस बैंक की स्थापना भारत के आम इंसान के लिए सबसे सुलभ, सस्ते और भरोसेमंद बैंक का निर्माण करने के दृष्टिकोण के साथ की गई है। इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक का मूल जनादेश यह है कि अधिकतर नकद का इस्तेमाल करने वाले और बैंकिंग सेवाओं का उपयोग करने वाले लोगों के लिए बैंकिंग सेवाओं से जुड़ी बाधाओं को दूर किया जाए और 155,000 डाकघरों (ग्रामीण क्षेत्रों में 135,000) और 300,000 डाक कर्मचारियों से युक्त डाक नेटवर्क का लाभ उठाते हुए अंतिम मील तक पहुंचा जाए।
आईपीपीबी की पहुंच और इसका संचालन मॉडल भारत स्टैक के प्रमुख स्तंभों पर बनाया गया है जो है – सीबीएस एकीकृत स्मार्टफोन और बायोमीट्रिक उपकरण के माध्यम से पेपरलेस, कैशलेस और उपस्थिति-हीन बैंकिंग को ग्राहकों के दरवाजे पर सरल और सुरक्षित तरीके से मुहैया कराना। मितव्ययी नवाचारों का लाभ उठाते हुए और जनता के लिए बैंकिंग में आसानी पर ख़ूब जोर देते हुए आईपीपीबी 13 भाषाओं में उपलब्ध सहज ज्ञान युक्त इंटरफेसों के माध्यम से सरल और सस्ते बैंकिंग समाधान प्रदान करता है।

 

Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *