मोबाइल फोन उत्पादन में `महाशक्ति` बन रहा भारत, 22.5 करोड़ यूनिट बने मोबाइल

        

पांच राज्यों के विधान सभा चुनावों के शुरुआती दौर में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ के कई पिछड़े इलाकों में दावा किया था कि उनकी सरकार आने के बाद मोबाइल पर मेड इन चित्रकूट दिखेगा यानी भारत दुनिया का अग्रणी मोबाइल उत्पादक देश बन जाएगा. चित्रकूट में मोबाइल बनेगा या नहीं, यह तो कांग्रेस सरकारों की नीतियों से आने वाले वर्षों में पता चलेगा लेकिन भारत ने 22.5 करोड़ मोबाइल का सालाना उत्पादन कर इस इंडस्ट्री में दुनिया की महाशक्ति बनने की दहलीज पर खड़ा हो गया है.
मार्च-अप्रैल 2018 में ही भारत वियतनाम को पछाड़कर मोबाइल उत्पादन में दूनिया का दूसरा सबसे बड़ा देश होने का तमगा हासिल कर चुका था. मोदी सरकार का लक्ष्य है कि वर्ष 2019 तक भारत को चीन को भी पीछे छोड़कर भारत अव्वल देश का दर्जा हासिल कर ले. भारतीय जनता पार्टी के अधिकृत ट्वीटर हैंडल से कहा गया है कि पिछले तीन वर्षों के प्रयास से भारत में 120 नई कंपनियों ने भारत में मोबाइल का उत्पादन शुरू किया है. अब भारत में 22.5 करोड़ मोबाइल सालाना बनने लगे हैं. वर्ष 2014 तक यह संख्या 6 करोड़ यूनिट मोबाइल तक थी. 2017 में 1.1 करोड़ मोबाइल बन रहे थे.
आईसीए ने बाजार अनुसंधान फर्म आईएचएस के हवाले से जानकारी दी थी कि चीन के राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो और वियतनाम के सामान्य सांख्यिकी कार्यालय से उपलब्ध आंकड़ों से जानकारी दी थी कि देश में मोबाइल फोन का वार्षिक उत्पादन 2014 में 30 लाख इकाई से बढ़कर 2017 में 1.1 करोड़ इकाई हो गया था. भारत, वियतमान को पछाड़कर 2017 में दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा मोबाइल फोन उत्पादक देश बन चुका था.
देश में मोबाइल फोन उत्पादन बढ़ने के साथ इनका आयात भी 2017-18 में घटकर आधे से कम रह गया है. इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तहत फास्ट ट्रैक टास्क फोर्स (FTTF) ने 2019 तक मोबाइल फोन उत्पादन 50 करोड़ इकाई तक पहुंचाने का लक्ष्य रखा है, जिसका अनुमानित मूल्य करीब 46 अरब डॉलर होगा. मोबाइल उत्पादन बढ़ने से प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष तौर पर रोजगार की संख्या भी बढ़ी है.

 

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

NationalWheels will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.