National Wheels

Russia Ukraine war: रूस की गैस की सप्‍लाई को लेकर एकजुट होते दिखाई दे रहे हैं यूरोपीय देश

Russia Ukraine war: रूस की गैस की सप्‍लाई को लेकर एकजुट होते दिखाई दे रहे हैं यूरोपीय देश

रूस की गैस सप्‍लाई के भुगतान की अदायगी रूस की मुद्रा रूबल में न करने पर यूरोप के कई देशों को समस्‍या का सामना करना पड़ सकता है। क्रेमलिन प्रवक्ता दिमित्री पेस्कोव ने कहा है कि ये समस्‍या पश्चिमी देशों द्वारा खड़ी की गई है। बुधवार को पत्रकार वार्ता में उन्‍होंने कहा कि यदि यूरोपीय देश रूबल में भुगतान नहीं करेंगे तो रूस उनकी गैस सप्‍लाई को रोक सकता है।

पोलैंड और बुल्गारिया इस संकट को झेल चुका है। यूरोपीय संघ ने इसको ब्लैकमेल करार दिया है। हालांकि क्रेमलिन ने इससे इन्‍कार किया है। उनका कहना है कि रूस ऊर्जा संसाधनों का भरोसेमंद सप्लायर है और अपने करारों की शर्तों से बंधा हुआ है। उन्‍होंने ये भी कहा कि उनके द्वारा केवल मौजूदा समस्‍या को देखते हुए भुगतान प्रक्रिया में बदलाव किया गया है। इसके अलावा किसी भी दूसरे करार में कोई बदलाव नहीं हुआ है।

इस बीच सर्बिया ने कहा है यदि रूस गैस सप्‍लाई रोकने की गलती करता है कि इससे बाल्कन देशों पर कोई असर नहीं पड़ेगा। गौरतलब है कि सर्बिया बुल्गारिया के जरिये हर रोज 60 लाख क्यूबिक मीटर गैस खरीदता है। सर्बिया के ऊर्जा मंत्री जोराना मिहाइलोविच की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि आने वाले दिनों में स्थिति और जटिल हो सकती है। यही वजह है कि वो विकल्‍पों को तलाश रहे हैं।

आपको बता दें कि सर्बिया में रूस की गैस की सप्‍लाई तो होती ही है इसके अलावा देश में तेल के क्षेत्र में एकाधिकार भी रूसी कंपनी गाजप्रोम के हाथ में ही है। हालांकि सर्बिया की तरफ से रूस पर किसी भी तरह के कोई प्रतिबंध नहीं लगाए गए हैं। वहीं पौलेंड ने रूस पर प्रतिबंध लगााने का एलान मंगलवार को किया था, जिसके बाद रूस ने उसकी गैस सप्‍लाई को रोक दिया था। हालांकि अब ये सप्‍लाई दोबारा शुरू कर दी गई है। इस बीच हंगरी ने भी कहा है रूस की गैस सप्‍लाई रोकने से उन पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

administrator

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.