Nationalwheels

फिर उजागर हुई रेलवे की भारी लापरवाही, सुलतानपुर में नहीं रुकी श्रमिक एक्सप्रेस तो चेन पुलिंग कर उतरे यात्री

फिर उजागर हुई रेलवे की भारी लापरवाही, सुलतानपुर में नहीं रुकी श्रमिक एक्सप्रेस तो चेन पुलिंग कर उतरे यात्री

लुधियाना से चली ट्रेन में थीं यहां की सैकड़ों सवारियां पर रेलवे को पता नही।

 जीतेन्द्र श्रीवास्तव
सुल्तानपुर। प्रवासियों को उनके घर तक पहुंचाने का दावा करने वाले रेलवे की फिर एक बड़ी लापरवाही उजागर हुई है। लुधियाना से बलिया जाने वाली श्रमिक स्पेशल ट्रेन पर सुल्तानपुर के यात्रियों को भी यह कहकर बैठा दिया गया कि ट्रेन वहां भी रुकेगी लेकिन जब ट्रेन रोकने की बारी आई तो उसे बिना स्टशन पर रोके ही निकाल दिया गया। लापरवाही की हद यह जिला प्रशासन के भी किसी अफसर को इसकी सूचना नहीं दी गई। स्टेशन मास्टर ने भी ट्रेन रुकने की जानकारी न होने का दावा कर हाथ खड़ा कर लिया।

स्टेशन से आगे निकल जाने पर घर छूट जाने का खतरा भांपकर यात्री कूदने लगे। कुछ यात्रियों ने सजगता दिखाते हुए ट्रेन में चेन पुलिंग की तो महिलाएं, अधेड़, बुजुर्ग और बच्चे कोचों से नीचे उतर सके। लापरवाही इसके आगे भी जारी रही। रास्ते में उतरकर यात्री अपने घरों को चले गए।
रेलवे की लापरवाही का यह वाक्या सुल्तानपुर जंक्शन पर सोमवार सुबह करीब आठ बजे हुआ। जब लुधियाना से सैकड़ों मजदूरों को लेकर चली ट्रेन यहां उन्हें उतारने के लिए नही रुकी औऱ लखनऊ नाका रेलवे क्रोसिंग के पास जबरन रोक कर सवारियों को उतरना पड़ा।
कतारबद्ध सैकड़ों मजदुरो को परिवार सहित बैग अटैची लेकर शहर में घूमते दिखे तब हंगामा मच गया। हालांकि, प्रशासन व रेलवे के अफसर किसी ट्रेन के यहां आने की बात से इनकार कर रहे हैं।
सुबह करीब आठ बजे गभड़िया रेलवे क्रॉसिंग पर ट्रेन रुकी तो सैकड़ों यात्री जिसमे महिला पुरुष व बच्चे शामिल थे और सामान लिए थे उतरने लगे। लोग कुछ समझ पाते कि सारे यात्री बिना किसी रोक टोक या चेकइन के शहर में घूमने लगे।
जानकारी की गयी तो पता चला कि वे इस ट्रेन में लुधियाना से बैठे हैं। वहाँ के अफसरों ने उन्हें सुल्तानपुर वाली ट्रेन बताकर बैठाया था। डिब्बे में चढ़ते समय जांच भी हुई थी। लेकिन स्टेशन पर नहीं रुकी तो चेन पुलिंग करके उतरना पड़ा है। इनकी जांच होगी या घूम घूम के वायरस फैलाएंगे ये बताने वाला कोई नही है।
अफसरों को इसकी कोई जानकारी नहीं
एसडीएम सदर रामजी लाल से इसकी बाबत पूछा गया तो बोले कि प्रशासन को किसी ट्रेन के आने की सूचना नही दी गयी है। अगर सवारियां आयी हैं तो फोर्स भेजकर पता करवाता हूँ।
बलिया की थ्रू ट्रेन थी:स्टेशन मास्टर
सुल्तानपुर जंक्शन के स्टेशन अधीक्षक ने बताया कि 04642 थ्रू ट्रेन का सिग्नल मिला था। यह ट्रेन लुधियाना से बलिया जा रही है। कण्ट्रोल रूम के निर्देशानुसार बिना रोके इसे जाने दिया गया। लुधियाना से सुल्तानपुर के यात्री कैसे बैठ गए वो नही बता सकते।
गौरतलब है कि प्रवासी कामगारों को पहुंचाने के लिए रेलवे अब तक करीब 2900 ट्रेनें चला चुका है। इससे 38 लाख प्रवासी घरों को पहुंचे हैं लेकिन कई ऐसी घटनाएं भी सामने आ चुकी हैं जिनका जवाब देते रेलवे से नहीं बन रहा है। एक दिन पहले भी गोवा से बलिया के लिए चली श्रमिक स्पेशल के नागपुर पहुंच जाने का खुलासा हुआ है। इसके पहले मुंबई से गोरखपुर के लिए चली ट्रेन उड़ीसा पहुंच गई। करीब आधा दर्जन ट्रेनें रास्ता भटकर दूसरे राज्यों में चली गई हैं। श्रमिक स्पेशल ट्रेनों की लेटलतीफी तो सोशल मीडिया पर छाया हुआ है। साथ ऐसी घटनाओं की शिकायतों के बढ़ने पर रेलवे ने सफाई दी है कि अचानक बढ़े ट्रैफिक के कारण कुछ ट्रेनों के रूट में परिवर्तन किया गया। हालांकि, सुल्तानपुर में न रुकने वाली ट्रेन रास्ता तो नहीं भटकी लेकिन इसे नॉन स्टॉप कर यात्रियों के लिए मुसीबत जरूर खड़ी कर दी गई।

 


Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *