Nationalwheels

क्या रायपुर सोनौरी विद्युत वितरण केंद्र भ्रष्टाचार का अड्डा बन चुका है ? उपभोक्ता त्रस्त , अधिकारी मस्त हैं

क्या रायपुर सोनौरी विद्युत वितरण केंद्र भ्रष्टाचार का अड्डा बन चुका है ? उपभोक्ता त्रस्त , अधिकारी मस्त हैं
राम लखन गुप्त
चाकघाट ( रीवा , मध्यप्रदेश )। त्योंथर क्षेत्र के पूर्वी अंचल में स्थित रायपुर सोनौरी विद्युत वितरण केंद्र के क्रियाकलापों से न सिर्फ उपभोक्ताओं को परेशानी झेलनी पड़ रही है बल्कि अपमानित भी होना पड़ता है। यह केंद्र भ्रष्टाचार का अड्डा बन गया है। कमजोर वोल्टेज , बिजली की मनमानी कटौती एवं जले ट्रांसफार्मर को बदलने के नाम पर की जा रही अवैध वसूली तो आम बात हो गई है। किसानों द्वारा लगातार विरोध करने के बाद भी विभाग के उच्च अधिकारियों ने भी अबतक कोई कार्रवाई नहीं की।
किसानों को सिंचाई पंप के लिए मात्र 6 रुपये देकर विद्युत कनेक्शन देने की योजना है। किंतु रायपुर सोनौरी के विद्युत कार्यालय में 3000 से 5000 रुपये तक की वसूली की जा रही है । टीसी कनेक्शन लेने वालों से भी निर्धारित राशि से अधिक राशि की मांग की जाती है। मिली जानकारी के अनुसार लक्ष्मी नारायण से ₹5000 लिया गया और उन्हें रसीद मात्र ₹3384 का ही दिया गया ।उसके बावजूद उन्हें अभी तक बिजली का कनेक्शन नहीं दिया गया।उपभोक्ताओं से अशिष्ट व्यवहार की शिकायत वहां से आती रहती है। लोग टीसी कनेक्शन लेने जाते हैं उन्हें डराया धमकाया जाता है कि उनके खिलाफ चोरी का प्रकरण बनवा दिया जाएगा , यदि अधिकारी के अनुसार उन्हें मनमाना पैसा नहीं दिया गया तो।
इस संदर्भ में भारतीय किसान संघ द्वारा जिला कलेक्टर एवं विद्युत विभाग के अधिकारियों को ज्ञापन सौंपा गया है लेकिन अभी तक कोई सार्थक कार्यवाही न करने से किसानों में असंतोष व्याप्त है। भारतीय किसान संघ के संभागीय उपाध्यक्ष रमेश प्रसाद मिश्रा एवं युवा वाहिनी के संभाग प्रमुख नीरज मिश्रा और तहसील कार्यकारिणी सदस्य सुग्रीव प्रसाद वर्मा ने बताया कि विद्युत विभाग की लापरवाही एवं अधिकारियों के शोषणपूर्ण रवैया से किसानों को समय पर विद्युत कनेक्शन नहीं मिल पा रहा है। बिजली बिल में भारी गड़बड़ी की जा रही है‌ । परेशान किसानों को पर्याप्त बिजली एवं वोल्टेज ना मिल पाने के कारण खेतों में खड़ी फसल भी सूख रही है। फसल की भारी क्षति को लेकर किसानों में अभी भी आक्रोश व्याप्त है। यदि विद्युत वितरण केंद्र में व्याप्त लापरवाही एवं भ्रष्टाचार के विरुद्ध कार्यवाही नहीं की गई तो कोरोना काल के प्रोटोकाल का पालन करते हुए क्षेत्र के किसान आंदोलन के लिए बाध्य होंगे। इस संदर्भ में जब रायपुर सोनौरी जेई से फोन पर संपर्क करने की कोशिश की गई तो उनसे संपर्क नहीं हो सका , जिससे उनका पक्ष नहीं लिया जा सका है।

 


Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *