Nationalwheels

#Happynewyear_ प्रयागराज के यातायात में भारी बदलाव, आज से शहर में नहीं घुसेंगी रोडवेज-प्राइवेट बसें

#Happynewyear_ प्रयागराज के यातायात में भारी बदलाव, आज से शहर में नहीं घुसेंगी रोडवेज-प्राइवेट बसें
न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स , प्रयागराज      
कुंभ मेला का पहला स्नान पर्व 15 जनवरी को होना है लेकिन मेला प्रशासन ने यातायात व्यवस्था को एक जनवरी से ही अमल में लाने का फैसला कर लिया है. यातायात विभाग की ओर से यह सूचना दी गई है कि यूपी रोडवेज और प्राइवेट बसों को पहली जनवरी से शहर में प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा. शहर में इनके प्रवेश प्रतिबंधित कर दिए गए हैं. रोडवेज और निजी बसें फाफामऊ, झूंसी, नैनी और सुलेम सराय क्षेत्र में बनाए गए बस अड्डे तक ही आएंगी. शहर में आने के लिए यात्रियों को शटल बसों, अॉटो और ई-रिक्शा का सहारा लेना पडेगा.

एसपी ट्रैफिक की ओर जारी की गई सूचना में कहा गया है कि वाराणसी, जौनपुर, गोरखपुर, गाजीपुर, आजमगढ़, बलिया और मऊ से आने वाली बसें झूंसी बस अड्डे पर पार्क की जाएंगी. 

फैजाबाद, सुल्तानपुर, प्रतापगढ़, बस्ती, गोंडा, बहराइच, कुंडा, रायबरेली, लखनऊ, लखीमपुर खीरी आदि की बसें फाफामऊ के बेला कछार में बने बस अड्डे तक आएंगी. यहीं से इनकी वापसी भी होगी.
कानपुर और कौशांबी, फतेहपुर, इटावा की ओर से आने वाली बसें नेहरू पार्क में पार्क होंगी. इसी तरह मिर्जापुर और रीवा रोड, बांदा की ओर से आने वाली बसें लेप्रोसी मिशन चौराहा बस अड्डे पर पार्क की जाएंगी.

एसपी ट्रैफिक यातायात ने बताया कि यह व्यवस्था रोडवेज और प्राइवेट दोनों श्रेणी की बसों के लिए है. इन बस अड्डों से शहर के दूसरे हिस्से में जाने-आने के लिए शटल बस सेवा संचालित होंगी. हालांकि, रोडवेज के अफसरों का कहना है कि शटल बसें पूरी संख्या में ्अभी नहीं आ सकी हैं. 250 बसों में से 100 का आंकड़ा भी नहीं पूरा हुआ है. ऐसे में स्नान के पहले ही ट्रॉयल के लिए लागू की गई यह व्यवस्था शहरियों के लिए मुसीबत बन सकती है.
यह आशंका भी है कि मेला प्रशासन की यह कवायद रोडवेज पर भारी पड़ सकती है. इससे रोडवेज की आमदनी घट सकती है. साथ ही प्रयाग, इलाहाबाद और रामबाग रेलवे स्टेशनों पर यात्रियों की भीड़ बढ़ सकती है.

 

Nationalwheels India News YouTube channel is now active and buzzing. Please subscribe here

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *