Nationalwheels

#MaharashtraCrisis बुधवार को फ्लोर टेस्ट, अजीत पवार को फिर मनाने में जुटी #NCP

#MaharashtraCrisis बुधवार को फ्लोर टेस्ट, अजीत पवार को फिर मनाने में जुटी #NCP
न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स
पिछले एक महीने से महाराष्ट्र में जारी राजनीतिक खींचतान का कल अंतिम दिन साबित हो सकता है. सुप्रीम कोर्ट ने महाराष्ट्र विधानसभा में 27 नवंबर को बहुमत परीक्षण का समय तय किया है. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद शिव सेना, एनसीपी और कांग्रेस गठबंधन देवेंद्र फणनवीस की अगुवाई में बनी भाजपा सरकार को पूरी तरह से उखाड़ फेंकने की कोशिशों में जुट गई है. तीनों पार्टियों ने अपने विधायकों को होटलों में कैद कर रखा है. एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा कि महाराष्ट्र विधानसभा में ‘फ्लोर टेस्ट पर एससी का आदेश‘ भारतीय लोकतंत्र में एक मील का पत्थर है. कल शाम 5 बजे से पहले यह स्पष्ट हो जाएगा कि भाजपा का खेल खत्म हो गया है. कुछ दिनों में महाराष्ट्र में शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस की सरकार होगी.
इसके साथ ही राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेताओं ने भाजपा को समर्थन देकर उप मुख्यमंत्री की शपथ ले चुके अजीत पवार को मनाने का सिलसिला जारी रखा है. सोमवार की शाम को बातचीत पूरी तरह से टूट जाने के बाद भी शरद पवार गुट भतीजे अजीत को मनाने का हरसंभव प्रयास कर रहा है. मंगलवार को एनसीपी के प्रदेश उपाध्यक्ष मंगलदास बादल अजीत पवार को मनाने के लिए पहुंचे हैं. सोमवार को शिव सेना नेता उद्धव ठाकरे ने तीनों दलों के विधायकों को संबोधित किया था. दावा किया गया कि 164 विधायकों का समर्थन गठबंधन को हासिल है.
हालांकि, राजनीतिक जानकारों का दावा है कि अजीत पवार को मनाने के पीछे शरद पवार गुट की यह आशंका भी है कि फ्लोर टेस्ट के दौरान कई विधायक टूट सकते हैं. वजह, विधानसभा चुनावों के दौरान एनसीपी के तमाम नेताओं को अजीत पवार ने ही टिकट दिलाया था. इनमें से कई चुनाव जीतकर विधानसभा में पहुंच चुके हैं. यह विधायक अभी एनसीपी के मुख्य धड़े के साथ हैं लेकिन उनके टूटने की आशंका से भी इनकार नहीं किया जा सकता.
यही स्थिति शिव सेना के टिकट पर चुनकर आए नए विधायकों की है. यह विधायक भी जानते हैं कि तीन दलों की सरकार पांच साल के कार्यकाल पूरे नहीं कर सकेगी. इसकी जगह भाजपा की अगुवाई वाली सरकार पांच साल के कार्यकाल पूरे कर सकती है. वजह, भाजपा के पास खुद के 105 विधायक हैं. साथ ही 14 निर्दलीय विधायकों का समर्थन भी उसे हासिल है. बताते हैं कि अजीत पवार समेत एनसीपी के कुछ नेता अपने और कांग्रेस विधायकों के संपर्क में हैं. भाजपा नेताओं की एक कोर टीम भी भूपेंद्र यादव की अगुवाई में शिव सेना, एनसीपी और कांग्रेस गठबंधन के विधायकों से संपर्क के प्रयासों में लगी है.

Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *