Nationalwheels

#ब्रह्मोस मिसाइल से लैस #सुखोई-30 MKI का पहला स्‍क्‍वार्डन #IAF में शामिल

#ब्रह्मोस मिसाइल से लैस #सुखोई-30 MKI का पहला स्‍क्‍वार्डन #IAF में शामिल

ब्रह्मोस मिसाइल ले जाने में सक्षम सुखोई-30 एमकेआई के पहले स्‍क्‍वार्डन को सोमवार को तमिलनाडु के तंजावुर बेस में भारतीय वायुसेना में शामिल किया गया

न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स
ब्रह्मोस मिसाइल ले जाने में सक्षम सुखोई-30 एमकेआई के पहले स्‍क्‍वार्डन को सोमवार को तमिलनाडु के तंजावुर बेस में भारतीय वायुसेना में शामिल किया गया. एक भव्‍य समारोह में प्रधान रक्षा अध्‍यक्ष जनरल बिपिन रावत और वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल राकेश कुमार भदौरिया की मौजूदगी में इस स्‍क्‍वार्डन को भारतीय वायु सेना का हिस्‍सा बनाया गया. पुनर्गठित 222-स्‍क्‍वार्डन, जिसे टाइगरशार्क भी कहा जाता है, हिन्‍द महासागर में वायु और समुद्री मारक क्षमता में महत्‍वपूर्ण योगदान कर सकता है.
जनरल बिपिन रावत ने कहा कि दक्षिण प्रायद्वीप में स्थित तंजावुर की सामरिक स्थिति, टाइगरशार्क को हिन्‍द महासागर, बंगाल की खाड़ी और अरब सागर में नौसेना की गतिविधियों के साथ ही थल सेना को भी ताकतवर आधार प्रदान करेगी.
एयर चीफ मार्शल राकेश कुमार भदौरिया ने इस मौके पर कहा कि सुखोई-30 एमकेआई, सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस के साथ और भी मारक समुद्री ताकत बन जाता है. उन्‍होंने कहा कि इससे हमारी नौसेना को बहुत ताकत मिलेगी.
बाद में मीडिया से बात करते हुए सीडीएस जनरल बिपिन रावत ने कहा कि देश की तीनों सेनाओं में बेहतर समन्‍वय स्‍थापित हो रहा है. संभावित खतरों के बारे में पूछे जाने पर उन्‍होंने कहा कि सभी रक्षा सेनाएं हरसंभव स्थिति के लिए तैयार रहती है तथा हमारी रक्षा सेनाएं भी उन्‍हें दिए जाने वाले हर काम के लिए मुस्‍तैद हैं.

 


Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *