National Wheels

DyCM केशव प्रसाद मौर्य तक पहुंचा उरुवा के प्रधानाध्यापक और भाजपा नेता का विवाद

DyCM केशव प्रसाद मौर्य तक पहुंचा उरुवा के प्रधानाध्यापक और भाजपा नेता का विवाद

प्रयागराज  : उरुवा विकास खंड के प्राथमिक विद्यालय समहन – प्रथम में महीनेभर से प्रभारी प्रधानाध्यापक और भाजपा नेता के बीच उठा विवाद उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य की चौखट तक पहुंच गया है। सर्किट हाउस में शहर उत्तरी विधायक हर्षवर्धन वाजपेयी की अगुआई में पहुंचे शिक्षक प्रतिनिधियों ने भाजपा नेता से माफी मंगवाने की मांग उठाई। फिलहाल, बात समझौते पर अटकी है। मौके पर मौजूद लोगों का दावा है कि एक शिक्षक प्रतिनिधि ने जिला बेसिक शिक्षाधिकारी प्रवीण तिवारी की भूमिका को भी नकारात्मक बताया है।

प्रभारी प्रधानाध्यापक सुधाकर द्विवेदी ने मेजा के लोहारी गांव निवासी श्यामराज यादव पुत्र उदयराज यादव के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई है। आरोप है कि 06 अगस्त को श्यामराज यादव दो अन्य लोगों के साथ विद्यालय पहुंचे। सभी ने पांच हजार रुपये की मांग की। न देने पर अपशब्द कहे और दुर्व्यवहार किया। प्रार्थना में भी व्यवधान डालने का आरोप है। बताते हैं श्यामराज यादव भाजपा नेता हैं। वह मंडल अध्यक्ष हैं। उनकी पत्नी जिला पंचायत सदस्य हैं।

फिलहाल, इस मामले का पिछले दिनों वीडियो भी वायरल हुआ था। इस वीडियो में दिखे तथ्यों के अनुसार शिव मंदिर में श्यामराज यह कहम खाते हुए दिखे कि उन्होंने पैसा नहीं मांगा। प्रभारी प्रधानाध्यापक भी मंदिर पहुंचे लेकिन कसम नहीं ली। फिलहाल, प्राथमिकी दर्ज कराने के बाद प्रभारी प्रधानाध्यापक समझौते का रास्ता खोज रहे हैं।

अरसे से चल रहा यह प्रकरण मंगलवार को फिर सुर्खियों में आ गया। बताते हैं कि शिक्षक नेता विनोद पांडे और प्राथमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष देवेंद्र कुमार श्रीवास्तव ने इस मामले को सर्किट हाउस में उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के सामने उठाया। विनोद पांडे ने आरोपी और प्रधानाध्यापक के मध्य समझौता कराने की मांग उठाई।

प्राथमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष देवेंद्र श्रीवास्तव ने कहा कि वह जिले में नवगठित विकास खंडों में खंड शिक्षाधिकारियों की नियुक्ति न होने समेत अन्य समस्याओं के समाधान की मांग लेकर गए थे। इसी बीच उरुवा के प्रभारी प्रधानाध्यापक विवाद मामले पर भी चर्चा हुई। मामले में समझौता कराने की कोशिश की जा रही है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.