ज्वालामुखी फटने से इंडोनेशिया में सुनामी की तबाही, 222 की मौत, सैकड़ों घायल

        

कैरिटाः इंडोनेशिया में ज्वालामुखी फटने के कारण आई सुनामी से 222 लोगों की मौत हो गई और सैकड़ों अन्य घायल हो गए हैं. मृतकों की संख्या में अभी और इजाफा हो सकता है. इंडोनेशिया की सुंडा जलसंधि के तट पर स्थानीय समयानुसार शनिवार रात 9:30 बजे सुनामी ने दस्तक दी. यह सुनामी क्रैकाटोआ की संतान कहे जाने वाले एक ज्वालामुखी में विस्फोट के कारण आई. वैज्ञानिकों के अनुसार, इस द्वीप का निर्माण क्रैकटो ज्‍वालामुखी के लावा से हुआ है. इस ज्‍वालामुखी में आखिरी बार अक्‍टूबर में विस्‍फोट हुआ था.
अधिकारियों ने बताया कि ज्वालामुखी विस्फोट के कारण सुनामी आने की घटनाएं बहुत कम होती हैं. राष्ट्रीय आपदा एजेंसी के प्रवक्ता सुतोपो नुग्रोहो ने बताया कि ज्वालामुखी फटने के कारण समुद्र के नीचे सतह में हलचल हुई. पूर्णिमा की रात होने के कारण उठ रही ऊंची लहरों के साथ मिलकर यह हलचल बड़ी तबाही का कारण बन गई.
सैकड़ों इमारतें धराशायी
राहत और बचाव कार्य में लगे अधिकारियों ने बताया कि आपदा में 843 लोग घायल हो गए हैं और 28 लोग लापता हैं. तट के आसपास बनी इमारतें ध्वस्त हो गई. पेड़ और बिजली के खंबे उखड़ गए. इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ रेड क्रॉस की कैथी मूलर ने कहा कि आपदा में मरने वालों की संख्या में इजाफा हो सकता है. नुग्रोहो ने भी कहा कि अभी आपदा पीडि़तों की संख्या का सही आकलन संभव नहीं है. जैसे-जैसे राहत और बचाव का काम आगे बढ़ेगा, स्थिति का उतना ही सही अनुमान लगाना संभव होगा. नेशनल डिजास्टर एजेंसी के प्रवक्ता सुतोपो पुर्वो नुग्रोहो ने बताया कि सुनामी स्थानीय समयानुसार शनिवार रात करीब 9:30 बजे आई. प्रत्‍यक्ष दर्शियों के मुताबिक समुद्र से 15 से 20 मीटर ऊंची लहरें उठती देखी गई हैं.

बह गए कंसर्ट में जुटे लोग
इंडोनेशिया में जिस समय सुनामी आई, ठीक उसी समय तट के किनारे एक म्यूजिक कंसर्ट आयोजित किया जा रहा था. शो के रंग में डूबे लोग नाच-गाने में खोये थे कि अचानक ऊंची लहरों ने सबकुछ तहस-नहस कर दिया. प्रदर्शन कर रहे कलाकार स्टेज समेत बह गए. इस घटना का वीडियो भी सोशल मीडिया पर सामने आया है. कंसर्ट में रॉक बैंड ‘सेवनटीन’ के सदस्य प्रदर्शन कर रहे थे. इंस्टाग्राम पर जारी एक वीडियो के मुताबिक, रॉक बैंड से जुड़े दो लोगों की मौत हो गई. तीन अन्य सदस्य लापता भी बताए जा रहे हैं. हादसे में बचे बैंड के सदस्य जैक ने बताया कि कंसर्ट का आयोजन सरकारी बिजली कंपनी पीएलएन की तरफ से किया गया था.
एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि वह शनिवार रात ज्‍वालामुखी विस्‍फोट के बाद वहां तस्‍वीरें ले रहे थे, तभी उन्‍होंने अपनी ओर तेजी से आती समुद्री लहरों को देखा. इसके के बाद वह वहां से भाग पड़े. फिर, उन्होंने देखा कि समुद्र की लहर उनके होटल परिसर तक पहुंच गई. इसके बाद वह किसी तरह जंगलों और गांवों से होते हुए ऊंचाई वाले स्‍थान पर पहुंचे, जहां स्‍थानीय लोगों ने उनकी मदद की.
सितंबर में भूकंप और तूफान से 832 लोगों की मौत
तीन महीने पहले सितंबर में इंडोनेशिया के सुलावेसी द्वीप स्थित पालु और दोंगला शहर में भूकंप के बाद सुनामी आने से 832 लोगों की मौत हो गई थी. हजारों लोग घायल भी हुए थे. कुल 6 लाख की आबादी वाले इन दोनों शहरों में आपदा के तीन महीने बाद भी हालात सामान्य नहीं हो पाए हैं.

 

2004 में सुनामी ने ली थी 2 लाख लोगों की जान
2004 में इंडोनेशिया के सुमात्रा में 9.3 तीव्रता का भूकंप आया था. इसके बाद हिंद महासागर के तटीय इलाकों वाले देश सुनामी की चपेट में आ गए थे. तब भारत समेत 14 देश सुनामी से प्रभावित हुए थे. दुनियाभर में 2.20 लाख लोगों की जान गई. इनमें 1.68 लाख लोग इंडोनेशिया के थे.
इंडोनेशिया में सबसे अधिक भूकंप और सुनामी
बता दें कि रिंग ऑफ फायर में स्थित होने के कारण इंडोनेशिया में दुनिया में सबसे अधिक भूकंप और सुनामी आते हैं. इसी साल जुलाई में इंडोनेशिया में एक हफ्ते के अंतराल में दो भूकंप के झटके आए थे. लोम्बोक में 7 और बाली में 6.4 तीव्रता का भूकंप महसूस किया गया था. इनमें सैकड़ों लोगों की मौत हुई थी.

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

NationalWheels will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.