Nationalwheels

लद्दाख में जिन सड़कों पर चीन को आपत्ति, उनके निर्माण में और तेजी लाने का फैसला

लद्दाख में जिन सड़कों पर चीन को आपत्ति, उनके निर्माण में और तेजी लाने का फैसला
एलएसी पर तनातनी के बीच केंद्रीय गृह मंत्रालय ने दुश्मन देश चीन से लगती सीमा पर सड़कों के निर्माण का काम तेज करने का फैसला किया है। चीनी दबाव के आगे झुके बिना सरकार एलएसी के आसपास की सड़क परियोजनाओं को तेजी से पूरा करने की रणनीति बनाई है। इसके लिए सीमा सड़क संगठन, आईटीबीपी और सीपीडब्ल्यूडी को उनकी जरूरत की सभी सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी।
गृह मंत्रालय के अधीन काम करने वाले सीमा प्रबंधन के सचिव संजीव कुमार ने सोमवार को एक हफ्ते में दूसरी बार वास्तविक नियंत्रण रेखा यानी एलएसी के साथ लगते क्षेत्रों में बुनियादी ढांचे के विकास को लेकर जारी परियोजनाओं की समीक्षा की है। इस बैठक में चीन से लगती सीमा के निकट और वहां तक पहुंचने वाली सड़कों के निर्माण के काम में तेजी लाने का फैसला किया गया।
केंद्रीय गृह मंत्रालय के अफसरों के अनुसार बैठक में भारत-चीन सीमा पर 32 सड़क परियोजनाओं की समीक्षा की गई। साथ ही अधूरी परियोजनाओं के काम में तेजी लाने और उन्हें जल्द से जल्द पूरा करने का फैसला लिया गया। मंत्रालय की इस उच्च-स्तरीय बैठक में सीमा सड़क संगठन, ITBP और CPWD के अधिकारियों ने हिस्सा लिया। सूत्रों ने बताया कि लद्दाख क्षेत्र में सीमा सड़क संगठन यानी बीआरओ द्वारा तीन महत्वपूर्ण सड़कों के निर्माण का काम किया जा रहा है। इन सभी को निर्धारित समय सीमा के पहले पूरा करने का फैसला लिया गया है।
केंद्र सरकार ने साफ कर दिया है कि चीन चाहे जितनी भी गीदड़भभकी क्‍यों न दिखाए, एलएसी पर सड़कों के निर्माण के काम में रुकावट नहीं आनी चाहिए। सरकार का स्‍पष्‍ट तौर पर कहना है कि किसी भी सूरत में एलएसी पर सड़के बनाने का काम नहीं रोका जाएगा।
यही नहीं सरकार ने साफ कर दिया है कि वह एलएसी पर चीन की किसी हरकत को बर्दाश्त करने को तैयार नहीं है। सरकार ने तीनों सेनाओं को चीन की हर चालबाजी का मुंहतोड़ जवाब देने के लिए खुली छूट दे दी है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने तीनों सेना प्रमुखों से कहा है कि चीन की ओर से होने वाली हर गतिविधि पर पैनी नजर रखी जाए। एक दिन पहले ही सरकार ने सेनाओं को एलएसी पर हथियार रखने और जरूरत पर इस्तेमाल करने की भी छूट देकर इरादा साफ कर दिया है।
स्रोत- एएनआइ। 

 


Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *