Nationalwheels

सीएम योगी ने कहा- 500 वर्षों के बाद मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त

सीएम योगी ने कहा- 500 वर्षों के बाद मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त

अयोध्याः @myogiadityanath ने शनिवार को दर्शन नगर के सूरजकुंड प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में आयोजित 'मुख्यमंत्री आरोग्य मेला' का उद्घाटन किया

न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स
अजय सिन्हा
अयोध्याः @myogiadityanath ने शनिवार को दर्शन नगर के सूरजकुंड प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में आयोजित ‘मुख्यमंत्री आरोग्य मेला’ का उद्घाटन किया. इस दौरान मुख्यमंत्री श्रीराम मंदिर निर्माण का जिक्र करना भी नहीं भूले. मुख्यमंत्री ने कहा कि अयोध्या में लगभग 500 वर्षों के बाद मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर का निर्माण मार्ग प्रशस्त होने के उपरांत मुझे आज पहली बार अयोध्या आने का अवसर प्राप्त हुआ है. अयोध्या में भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर के निर्माण के मार्ग को प्रशस्त करना एक यशस्वी नेतृत्व का प्रतीक है. सीएम @myogiadityanath ने अयोध्यावासियों की ओर से प्रधानमंत्री @narendramodi का और गृह मंत्री @AmitShah का अभिनन्दन भी किया.
उन्होंने कहा कि तीन तलाक की कुप्रथा को प्रतिबंधित करके और देश में नागरिक कानून में संशोधन करके दुनिया की पीड़ित मानवता को शरण देने की एक पूरी पारदर्शी व्यवस्था बनाई. प्रदेश सरकार ने 2 फरवरी से ‘मुख्यमंत्री आरोग्य मेला’ के कार्यक्रम को प्रारंभ किया था, आज यह चौथा आरोग्य मेला प्रदेश में आयोजित हो रहा है.
स्वास्थ्य विभाग के नेतृत्व में हर PHC में चिकित्सा शिक्षा विभाग, इंडियन मेडिकल एसोसिएशन, आयुष से जुड़े हुए चिकित्सक आगामी 2 वर्षों के लिए प्रदेश में प्रत्येक रविवार को गरीबों को स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराएंगे. सरकार प्रत्येक गरीब के लिए स्वास्थ्य, पोषण और स्वास्थ्य जागरूकता से जुड़े हुए इन कार्यक्रमों को एवं ‘वेलनेस सेण्टर’ के कार्यक्रम को एक नई गति दे सके, इस दृष्टि से यह कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं.
‘मेला’ का मतलब जहां बिना भेदभाव सभी लोग एकत्र होकर के अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति कर सकें. ‘आरोग्य मेला’, स्वास्थ्य से जुड़ा हुआ है इसलिए स्वास्थ्य और आरोग्यता से जुड़ी हर एक सुविधा यहां उपलब्ध है.
सीएम ने कहा कि जो व्यक्ति बीमार है, उसको परामर्श और दवा देने की व्यवस्था, जिसे जांच करानी हो, उसे जांच करवाने की व्यवस्था, टीबी रोगियों के लिए टीबी मुक्ति किट उपलब्ध कराना इस मेले का लक्ष्य है. प्रदेश में लगभग 4,000 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों व वेलनेस सेण्टर के माध्यम से आरोग्यता के इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए आरोग्य मेले को प्रारंभ किया गया है. स्वास्थ्य विभाग के नेतृत्व में यह कार्यक्रम तेजी के साथ आगे बढ़ रहा है.
हर व्यक्ति अपना आयुष्मान भारत का गोल्डन कार्ड जरूर बनवा ले क्योंकि इसके अंतर्गत हर व्यक्ति को ₹5 लाख तक की निःशुल्क स्वास्थ्य सुविधा की गारंटी प्रति वर्ष मिल जाएगी. अगर सभी लोग जागरूक होकर शासन की योजनाओं को गरीबों तक पहुंचाने के लिए प्रतिबद्ध हो जाएं तो कोई भी गरीब, बीमारी में दवा के अभाव में नहीं मर सकता क्योंकि उसको आदरणीय प्रधानमंत्री श्री @narendramodi ने ‘आयुष्मान भारत’ कार्ड उपलब्ध करा दिया है.
हम अनिवार्य रूप से उस गोल्डन कार्ड को बनवाएं जिससे कहीं भी कोई व्यक्ति बीमार हो जाए तो गोल्डन कार्ड के माध्यम से रजिस्ट्रेशन, डॉक्टर के परामर्श लेने, दवा मिलने, जांचे करवाने, भर्ती होने की कार्रवाई हो जाएगी.
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के प्रत्येक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में ‘मुख्यमंत्री आरोग्य मेले’ का आयोजन हो रहा है जिसमें आयुष्मान भारत या मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना के गोल्डन कार्ड बनाए जा रहे हैं. 2025 तक भारत को टीबी, फाइलेरिया तथा अन्य विषाणुजनित बीमारियों से मुक्त करना है और इसके लिए यह ‘आरोग्य मेला’ बहुत महत्वपूर्ण है.
3 वर्ष में 28 मेडिकल कॉलेज
सीएम ने कहा कि पिछले 3 वर्षों के दौरान उ.प्र. में स्वास्थ्य जागरूकता के अनेक कार्यक्रम प्रारंभ हुए हैं. मुझे याद है 1947 से 2016 तक प्रदेश में केवल 12 मेडिकल कॉलेज बने थे. 2016 से 2019 के बीच 3 वर्षों के दौरान हमारी सरकार ने प्रदेश में 28 मेडिकल कॉलेजों की नींव रखी. इनमें से 7 मेडिकल कॉलेजों ने इस सत्र में कक्षाएं प्रारंभ भी कर दी हैं, जिसमें अयोध्या का मेडिकल कॉलेज भी शामिल है, जहां इस वर्ष से हम लोगों ने कक्षाएं प्रारंभ की हैं.

 


Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *