Nationalwheels

#Chinavirus तबलीगी मरकज से लौटे लोगों की तलाश में गई पुलिस पर मधुबनी में मस्जिद से किया हमला

#Chinavirus तबलीगी मरकज से लौटे लोगों की तलाश में गई पुलिस पर मधुबनी में मस्जिद से किया हमला

दिल्ली के निजामुद्दीन तबलीगी जमात के धार्मिक समारोह से निकल कर देशभर में फैल चुके जमातियों को तलाशने में पुलिस को विरोध का सामना भी करना पड़ रहा है

न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स
दिल्ली के निजामुद्दीन तबलीगी जमात के धार्मिक समारोह से निकल कर देशभर में फैल चुके जमातियों को तलाशने में पुलिस को विरोध का सामना भी करना पड़ रहा है। बिहार के मधुबनी जिले में एक मस्जिद में जांच करने पहुंची पुलिस पर भारी पथराव कर लोगों ने इसका विरोध किया।
झांझरपुर क्षेत्र के डीएसपी अमित सरन ने कहा कि दिल्ली के तबलीगी जमात से राज्य में आए लोगों की सूचना पर वह जांच के लिए मस्जिद गए थे। इस दौरान मस्जिद के अंदर मौजूद लोगों ने जांच का विरोध करते हुए पुलिस पर पथराव शुरू कर दिया।

गौरतलब है कि दिल्ली की मरकज बिल्डिंग से लौटे लोगों की सभी राज्यों में पड़ताल चल रही है। तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, केरल, जम्मू-कश्मीर, उत्तर प्रदेश, असम समेत कई राज्यों में मस्जिदों में छापेमारी कर ऐसे लोगों को पकड़ा गया है जो इस धार्मिक समारोह का हिस्सा बनने के बाद राज्यों में लौट गए। साथ ही पुलिस को सूचना दिए बिना मस्जिदों में छिप कर रह रहे हैं।
उधर, देशभर के अलग-अलग हिस्सों में करीब 143 लोगों के कोरोनावायरस के टेस्ट में पॉजिटिव पाए जाने के बाद निज़ामुद्दीन मरकज़ से सभी 2361 लोगों को बाहर निकाला गया है. 36 घंटे का ऑपरेशन चलाकर बुधवार की सुबह 4 बजे मरकज को खाली कराया गया. हालांकि, मरकज़ से जुड़े लोगों का दावा है कि अंदर महज़ 1000 लोग थे. मामले में अकेले आंध्र प्रदेश में 43 लोग पॉजिटिव पाए गए हैं. तेलगांना के 6 समेत 8 कोरोनावायरस संक्रमितों की मौत के बाद सोमवार को निजामुद्दीन मरकज में रुके लोगों को बाहर निकालने की कार्रवाई शुरू की गई थी. दिल्ली पुलिस ने मरकज़ प्रशासन के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है. इस मामले की जांच क्राइम ब्रांच करेगी.

राजधानी दिल्ली के हजरत निजामुद्दीन स्थित मरकज में एक से 15 मार्च तक तबलीगी जमात में हिस्सा लेने के लिए दो हजार से ज्यादा लोग पहुंचे थे. इसमें देश के अलग-अलग राज्यों और विदेश से कुल 1830 लोग मरकज़ में शामिल हुए, जबकि मरकज़ के आसपास व दिल्ली के करीब 500 से ज्यादा लोग थे. तबलीगी जमात के इस कार्यक्रम में 200 से ज्यादा विदेशी लोगों के शामिल होने की खबर है.
मरकज़ में शामिल लोगों के इतनी बड़ी संख्या में संक्रमित पाए जाने के बाद देश के विभिन्न राज्यों से इस कार्यक्रम में शामिल होने वाले लोगों की तलाश शुरू कर दी गई है. साथ ही उन्हें क्वारंटाइन में रखने और उनका परीक्षण करने को आदेश दिया गया है. बताया जा रहा है कि मरकज़ में उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों के लोग शामिल हुए थे. अब इन लोगों की तलाश की जा रही है ताकि कोरोनावायरस के संक्रमण को और फैलने से रोका जा सके.
दक्षिण दिल्ली की वह इमारत जहां निजामुद्दीन मरकज़ के तहत कई देशों के लोग पहुंचे थे. उसे केंद्र द्वारा कोरोनावायरस हॉटस्पॉट (जहां संक्रमित लोगों की संख्या ज्यादा है) घोषित किया गया है. जानकारी के मुताबिक, 28 मार्च को गृह मंत्रालय ने राज्य सरकार को पत्र लिखकर बताया था कि हमें सूचना मिली है कि तबलीगी जमात में एक धार्मिक कार्यक्रम चल रहा है, हमें आशंका है कि अन्य देशों से आए लोगों से कोरोनावायरस का संक्रमण फैल सकता है. तबलीग-ए-जमात 100 साल से ज्यादा पुरानी संस्था है, जिसका हेडक्वार्टर दिल्ली की बस्ती निज़ामुद्दीन में है. यहां देश-विदेश से लोग लगातार साल भर आते रहते है. वहीँ केजरीवाल सरकार के मंत्री अमानतुल्ला खान ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर ट्वीट करके जानकारी दी. उन्होंने लिखा, ”23 मार्च को रात 12 बजे मैंने डीसीपी साउथ ईस्ट और एसीपी निजामुद्दीन को बता दिया था कि निजामुद्दीन मरकज़ में 1000 के आस-पास लोग फंसे हुए हैं, फिर पुलिस ने इनको भेजने का इंतज़ाम क्यों नहीं किया.” हालांकि, इसके बाद दिल्ली पुलिस ने एक वीडियो जारी किया है जिसमें साफ दिख रहा है कि निजामुद्दीन के एसएचओ और तबलीगी जमात के बीच जारी बातचीत में जमात के लोग पुलिस की चेतावनी पर टालमटोल जैसा कर रहे हैं।
UP में 95 फीसदी जमातियों की पहचान का दावा, 300 से अधिक क्वारनटीन
दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात के मरकज में कोरोना संक्रमण फैलने से उत्तर प्रदेश के 19 जिलों में कोहराम मच गया है. हालांकि यूपी सरकार ने दावा किया है कि मरकज की जमात में शामिल हुए 95 फीसदी लोगों की पहचान कर ली गई है. यूपी के 19 जिलों में अलर्ट है. कई शहरों की मस्जिदों में पनाह लेने वाले जमातियों को क्वारंटीन सेंटर भेजा गया है.
कोरोना का एपीसेंटर बन चुके तबलीगी जमात के मरकज में उत्तर प्रदेश के 169 जमाती शामिल थे. यूपी में इनकी खोजबीन जारी है, लेकिन सबसे बड़ा सिरदर्द ये पता लगाना है कि ये जमाती अबतक कितने लोगों से मिलकर कोरोना का खतरा बढ़ा चुके हैं. आगरा, प्रयागराज, शामली, कानपुर और जौनपुर जिलों पुलिस और प्रशासन मरकज के जुड़े तबलीगी जमात के लोगों की खोजबीन में जुटा है.
जौनपुर में 50 क्वारनटीन
पूर्वी यूपी के जौनपुर में निजामुद्दीन के मरकज से आने वाले 50 लोगों को क्वारंटीन किया गया है. इनमें 14 बांग्लादेशी और तीन उनके गाइड हैं. यहां पर 17 लोगों के खिलाफ विदेशी अधिनियम और पासपोर्ट एक्ट के तहत मुकदमा भी दर्ज किया गया है. जमात का हिस्सा रहे सभी बांग्लादेशी जौनपुर के सरायख्वाजा थाने के लाल दरवाजा मोहल्ले में रह रहे थे.
आगरा में 89 लोग क्वारनटीन
ताज नगरी आगरा में मरकज के जमातियों ने अड्डा बनाया था. जमात में शामिल 89 लोग शहर की 8 मस्जिदों में ठहरे हुए थे. इन्हें सिकंदरा इलाके के एक होटल में क्वारंटीन किया गया है. इनमें दिल्ली और मध्यप्रदेश के 13-13 जमाती हैं, जबकी बाकी आगरा के ही रहने वाले हैं. प्रशासन ने कोरोना जांच के लिए सभी के सैंपल लिए हैं. उनकी ट्रैवेल हिस्ट्री खंगाली जा रही है ताकि इनसे मिलने जुलने वालों को फौरन क्वारंटीन किया जा सके
प्रयागराज में 46 लोग क्वारनटीन
प्रयागराज के अब्दुल्ला मस्जिद पर जब पुलिस ने यहां छापा मारा तो स्टेशन के पास बनी इस मस्जिद में 9 मौलाना पनाह लिए मिले. इनमें 7 इंडोनेशिया, एक केरल और एक पश्चिम बंगाल का है. जमात में हिस्सा लेने के बाद 22 मार्च को प्रयागराज पहुंचे थे. इनके संपर्क में आने वाले 37 लोगों को क्वारंटीन किया गया है.
शामली में 57 लोग क्वारनटीन
शामली कस्बे में 200 के करीब जमातियों के मौजूद होने की खबर से प्रशासन में हड़कंप मचा है. खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट के बाद पुलिस ने 57 जमातियों की पहचान की है, जिन्होंने निजामुद्दीन के मरकज का दौरा किया था. हालांकि अभी तक किसी में कोरना के लक्षण नहीं मिले हैं, लेकिन प्रशासन ने उन्हें 14 दिन के लिए क्वारंटीन कर दिया गया है.
कानपुर में 11 लोग क्वारनटीन
कानपुर में भी मरकज से आए जमातियों की खोजबीन जारी है. 11 लोगों को हैलट अस्पताल के कोरोना वार्ड में भर्ती कराया गया है, जिनमें 8 विदेशी और तीन भारतीय हैं. इसके अलावा उत्तर प्रदेश के कई जिलों में जमातियों की तलाश की जा रही है. साथ ही इनके संपर्क में आए लोगों को भी खोजा रहा है.

 


Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *