Nationalwheels

#Chinavirus यूपी में तबलीगी जमात के 1302 सदस्य चिह्नित लेकिन 300 लोग नहीं हो सके क्वारेंटाइन

#Chinavirus यूपी में तबलीगी जमात के 1302 सदस्य चिह्नित लेकिन 300 लोग नहीं हो सके क्वारेंटाइन

चीनी वायरस (कोरोना) बम के रूप में भारत में फूट चुके धर्मांध तबलीगी जमात के लोग सरकार की तमाम चेतावनी के बाद भी जांच के लिए सामने नहीं आ रहे हैं

न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स
चीनी वायरस (कोरोना) बम के रूप में भारत में फूट चुके धर्मांध तबलीगी जमात के लोग सरकार की तमाम चेतावनी के बाद भी जांच के लिए सामने नहीं आ रहे हैं। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने दावा किया है कि देशभर में तबलीगी जमात के 22 हजार लोगों की पहचान की जा चुकी है। इन्हें आइसोलेशन में रखा गया है। हालांकि, अफसरों का दावा है कि तबलीगी जमात के लोगों की अब भी ऐसी बड़ी संख्या है जो संक्रमित लोगों के संपर्क में आने के बाद भी छिपे हुए हैं। केवल यूपी में 300 से ज्यादा लोगों की तलाश जारी है।
यूपी के ACS, गृह व सूचना @AwasthiAwanishK ने कल शाम बताया कि तबलीगी जमात के मेरठ में 307, वाराणसी में 242, गोरखपुर में 230, बरेली में 148, आगरा में 115, लखनऊ में 83, प्रयागराज 51, कानपुर में 33, लखनऊ कमिश्नरी में 23, गौतमबुद्ध नगर में 70 यानि कुल 1,302 लोग उत्तर प्रदेश में चिन्हित हुए हैं। अब तक इनमें से 1,000 लोगों को ‘क्वारंटाइन’ कर दिया गया है।
उन्होंने बताया कि प्रदेश में पाए गए कुल 306 विदेशियों में से मेरठ में 169, बरेली में 25, कानपुर में 8, लखनऊ में 20, वाराणसी में 27, प्रयागराज में 16, गोरखपुर में 17, लखनऊ कमिश्नरी में 24 मिले हैं। इनके विरुद्ध फाॅरेनर्स एक्ट, एपिडेमिक्स एक्ट और डिजास्टर एक्ट में कार्रवाई की जा रही है।

सूबे में 50 निजी अस्पताल बनेंगे कोविड हॉस्पिटल

प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, श्री अमित मोहन प्रसाद कहा कि प्रथम चरण में आवश्यकतानुसार 5 दिन के नोटिस पर निजी हाॅस्पिटल को उपयोग में ले लिया जाएगा। 5 दिन का नोटिस इसलिए होगा ताकि वे अपने मरीजों को कहीं और स्थानांतरित कर सकें। इसके अतिरिक्त हमने 50 निजी चिकित्सालयों को चिन्हित कर लिया है, जिन्हें हम नोटिस दे रहे हैं। इनमें से 22 छोटे शहरों में हैं, जिन्हें हम सैद्धांतिक रूप से कोविड हाॅस्पिटल में कन्वर्ट कर रहे हैं। इनमें कुल मिलाकर 720 बेड्स हैं। यह एल-2 के डेडीकेटेड हाॅस्पिटल हैं जहां और किसी बीमारी का इलाज नहीं होगा। इसके अतिरिक्त 45 और मेडिकल काॅलेजों में लेवल- 2 की सुविधाएं उपलब्ध हैं।
प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, अमित मोहन प्रसाद ने कहा कि संयुक्त चिकित्सालय कानपुर, टी.बी सप्रू चिकित्सालय, प्रयागराज, दीनदयाल उपाध्याय संयुक्त चिकित्सालय, वाराणसी, दीनदयाल उपाध्याय संयुक्त चिकित्सालय, अलीगढ़, संयुक्त चिकित्सालय, गाजियाबाद, संयुक्त चिकित्सालय, हरदोई को कोविड अस्पताल के रूप में विकसित किया जा रहा है।

विदेश से आए लोगों में 41506 लोग क्वारेंटाइन की अवधि पूरी कर चुके

प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, अमित मोहन प्रसाद ने कहा कि विदेशों से आए हुए 57,963 लोग निगरानी में रखे गए हैं, इनमें से 41,506 लोग अब तक ‘क्वारंटाइन’ की 28 दिनों की अवधि पूर्ण कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि विदेशों से आए हुए व्यक्तियों को 28 दिनों के लिए निगरानी में रखा जाता है। यदि उनमें कोई लक्षण नहीं होते हैं तो उनकी निगरानी नहीं रखी जाती है।
कहा कि हम सर्विलांस पर बहुत ज्यादा जोर दे रहे हैं। फ्रंटलाइन वर्कर्स, एएनएम, आशा, आंगनबाड़ी वर्कर्स घर-घर जा रही हैं। यदि किसी में कोई लक्षण दिखते हैं तो तत्काल उनको डाॅक्टर की सलाह लेने की बात बताई जा रही है।

2-3 दिनों में सूबे में बढ़ा है संक्रमण- प्रमुख सचिव

प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, अमित मोहन प्रसाद ने कहा कि ‘फैसिलिटी क्वारंटाइन’ में लोगों की संख्या हर दिन बढ़ रही है क्योंकि सर्विलांस के बाद हम कंटेनमेंट की बहुत ही अग्रेसिव स्ट्रैटजी अपना रहे हैं। कई जनपदों में पिछले दो-तीन दिनों में संक्रमण बढ़ा है। इसलिए जरूरी है कि संक्रमित व्यक्ति के जो भी क्लोज काॅन्टैक्ट्स हैं या जिनसे उनका निकट सम्पर्क हुआ है, उन सबको फैसिलिटी क्वारंटाइन में रख रहे हैं। उनकी टेस्टिंग भी करवाई जा रही है ताकि संक्रमण और न बढ़े।

 


Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *