Nationalwheels

आर्याकुलम स्कूल के क्रिसमस मेला में बच्चों ने की मस्ती

आर्याकुलम स्कूल के क्रिसमस मेला में बच्चों ने की मस्ती

        

क्रिसमस की खुशियों को सेलिब्रेट करने के लिए स्कूलों में मेला शुरू हो गया है. रविवार को शहर के विभिन्न स्कूलों में क्रिसमस मेला आयोजित किया गया. नैनी क्षेत्र में आर्याकुलम स्कूल में भी क्रिसमस मेला लगा. इसमें स्कूल के बच्चों के साथ शिक्षकों और अभिभावकों ने भी मेला का आनंद उठाया.

स्कूल की प्रिंसिपल डॉक्टर विदुला दिलीप की देखरेख में शिक्षकों प्रिया गुप्ता, पुनीत, प्रशांत, अंकित और सोनिया ने बच्चों के लिए खूबसूरत स्टॉल सजाए.

स्कूल परिसर में सेंटा क्लाज अमिता ने टाफियां बांटकर सभी बच्चों के साथ सेल्फी खिंचवाई और क्रिसमस का लुप्त उठाया. स्कूली बच्चों के साथ ही नैनी क्षेत्र के तमाम परिवार भी बच्चों को लेकर सेंटा के पास पहुंचे.

गेस्ट डॉक्टर सुरेश क्वात्रा, डॉक्टर रॉम हर्सन, कंचन पांडे, डॉक्टर प्रीति अग्रवाल, डॉ. दीपक गुप्ता, डॉ. अंजू गुप्ता, पियुष भूटानी, एलडीसी इंस्टीट्यूट के संजय गुप्ता ने भी इस समारोह में पहुंचकर बच्चों का उत्साह बढ़ाया.

क्रिसमल मेला के दौरान मैजिक शो, पपेट शो, डॉस और म्यूजिक कंप्टीशन, फैंसी ड्रेंस कंप्टीशन आयोजित किया गया. इनमें विजयी बच्चों को पुरस्कृत भी किया गया. इसके साथ ही कोकोनट-फोकोनट, होपला, बैलून शूटिंग, कैच मी इफ यू कैन, टेल द डंकी जैसी खेल प्रतियोगिताएं भी आयोजित की गईं.

 

Related Articles

2 Comments

  • सुशील पाण्डेय , December 25, 2018 @ 2:08 am

    महोदय जी
    मै आपको अवगत कराना चाहता हूं कि जुलाई से मै हिन्दी शिक्षक के रूप में आर्यकुलम की सेवा कर रहा हूँ, एवं हर उत्सव,समारोह मे तन्मयता से आर्यकुलम की सेवा के लिए तत्पर रहता हूँ,फिर भी हमारा नाम स्कूल परिवार के किसी भी मुद्रण या प्रकाशन में नही लिया जाता, आखिर हमे इससे वंचित क्यो किया जाता है?
    हमे इसका अत्यंत खेद है—-
    आपका-
    सुशील पाण्डेय

  • सुशील पाण्डेय , December 25, 2018 @ 2:08 am

    महोदय जी
    मै आपको अवगत कराना चाहता हूं कि जुलाई से मै हिन्दी शिक्षक के रूप में आर्यकुलम की सेवा कर रहा हूँ, एवं हर उत्सव,समारोह मे तन्मयता से आर्यकुलम की सेवा के लिए तत्पर रहता हूँ,फिर भी हमारा नाम स्कूल परिवार के किसी भी मुद्रण या प्रकाशन में नही लिया जाता, आखिर हमे इससे वंचित क्यो किया जाता है?
    हमे इसका अत्यंत खेद है—-
    आपका-
    सुशील पाण्डेय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *