hindi news, JP एसोसिएट्स के क्रियाकलाप और तौरतरीके प्रतिस्‍पर्धा कानून के खिलाफ, 13.82 करोड़ का जुर्माना

JP एसोसिएट्स के क्रियाकलाप और तौरतरीके प्रतिस्‍पर्धा कानून के खिलाफ, 13.82 करोड़ का जुर्माना

hindi news, JP एसोसिएट्स के क्रियाकलाप और तौरतरीके प्रतिस्‍पर्धा कानून के खिलाफ, 13.82 करोड़ का जुर्माना
न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स
जयप्रकाश एसोसिएट्स लिमि‍टेड (जेएएल) प्रतिस्पर्धा कानून के उलंघन में फंस गया है। भारतीय प्रतिस्‍पर्धा आयोग (सीसीआई) ने जांच में पाया है कि जयप्रकाश एसोसिएट्स लिमि‍टेड (जेएएल) ने नोएडा और ग्रेटर नोएडा के विश टाउन, जेपी ग्रीन्‍स परियोजना में आवंटियों पर गलत और भेदभावपूर्ण शर्तें थोपकर अपने इन्‍टीग्रेटेड टाउनशिप में विलाओं, एस्‍टेट होमों जैसी स्‍वतन्‍त्र आवासीय ईकाइयों के मार्केट में अपने दबदबे का दुरूपयोग करते हुए प्रतिस्‍पर्धा अधिनियम, 2002 की धारा-4 के प्रावधानों का उल्‍लंघन किया है। एक ग्राहक ने शिकायत किया था कि जेएएल द्वारा थोपी गई शर्तें अत्‍यंत विवादस्‍पद हैं। सीसीआई ने शिकायत पर जेएएल अंतिम आदेश पारित करते हुए जेपी एसोसिएट्स के खिलाफ 13.82 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है.
जांच के आधार पर आयोग ने पाया कि जेएएल द्वारा लागू की गई मानक नियम-शर्तें एकतरफा फायदे के लिए हैं तथा ग्राहकों के प्रतिकूल हैं। इसके अलावा ये शर्तें जटिल थीं और ग्राहकों को कोई महत्‍वपूर्ण अधिकार नहीं प्रदान करती थीं। जेएएल  को समय पर घर दिये बिना ग्राहकों से धन वसूलना, अतिरिक्‍त निर्माण करना और ले-आउट प्‍लान में संशोधन करना, अनेक शुल्‍क लागू करना, ग्राहकों से बिना परामर्श किये किसी बैंक/वित्‍तीय संस्‍था/कंपनी से धन जुटाने के लिए अधिकार पाने जैसे पाने के मामले में तौर-तरीकों को गलत पाया गया था।
इसलिए आयोग ने माना कि जेएएल के ऐसे तौर-तरीके से अधिनियम की धारा-4(2)(ए)(i) का उल्‍लंघन हुआ है। इसके परिणामस्‍वरूप आयोग ने जेएएल पर 13.82 करोड़ रुपये (13 करोड़ 82 लाख रुपये) का जुर्माना लगाया। संबंधित मार्केट में स्‍वतंत्र आवासीय ईकाइयों की बिक्री से जेएएल के औसत राजस्‍व के 5 प्रतिशत की दर से जुर्माने की गणना की गई। इसके अलावा जेएएल के लिए एक जब्‍ती और रोक आदेश भी जारी किया गया है। अधिनियम की धारा 27 के तहत मुकदमा सं. 99-2014 में पारित आदेश की प्रति को सीसीआई की वेबसाइट www.cci.gov.in पर रखा गया है।

 

Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *