Nationalwheels

काव्य

नवरात्र के पहले यहां पढ़िये महाकवि सूर्यकांत त्रिपाठी रचित कविता `राम की शक्ति पूजा`

न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स राम की शक्तिपूजा, सूर्यकांत त्रिपाठी ” निराला द्वारा रचित काव्य है। निराला जी ने इसका सृजन 23 अक्टूबर 1936 को…

बस एक लम्हे का झगड़ा था / गुलज़ार

बस एक लम्हे का झगड़ा था दर-ओ-दीवार पे ऐसे छनाके से गिरी आवाज़ जैसे काँच गिरता है हर एक शय…

बीते रिश्ते तलाश करती है / गुलज़ार

बीते रिश्ते तलाश करती है ख़ुशबू ग़ुंचे तलाश करती है जब गुज़रती है उस गली से सबा ख़त के पुर्ज़े…

अकेलेपन का बल पहचान: हरिवंश राय बच्चन

अकेलेपन का बल पहचान ! शब्द कहां जो तुझको टोके, हाथ कहां जो तुझको रोके, राह वही है, दिशा वही,…

हिन्दी से दासता कराओ मत

यश मालवीय भाषा के भविष्य को लेकर हमें डराओ मत बहुत हो चुका हिन्दी से दासता कराओ मत अनगिन छाले…

क्यों पैदा किया था?

ज़िन्दगी और ज़माने की कशमकश से घबराकर मेरे बेटे मुझसे पूछते हैं कि हमें पैदा क्यों किया था? और मेरे…

हम को मन की शक्ति देना – गुलजार साहब

हम को मन की शक्ति देना, मन विजय करें दूसरो की जय से पहले, ख़ुद को जय करें। भेद भाव…

राजेंद्र पालीवाल ने भी कविता के जरिए सुषमा स्वराज को श्रद्धांजलि दी

दुनियाभर में अमिट छाप छोड़ने वाली पूर्व विदेश मंत्री व भाजपा की दिग्गज नेता रहीं सुषमा स्वराज को श्रद्धांजलि देने…

आइये महसूस करिए जिंदगी के ताप को, मैं चमारों की गली तक ले चलूंगा आपको

आइये महसूस करिए जिंदगी के ताप को मैं चमारों की गली तक ले चलूंगा आपको। जिस गली में भुखमरी की…

अदम गोंडवी – कविता कोश

गज़ल को ले चलो अब गांव के दिलकश नजारों में, मुसलसल फ़न का दम घुटता है इन अदबी इदारों में…