Nationalwheels

काव्य

हिंदी आज विवश सी है

डॉ. रजनी रंजन हम दिवस मना रहे हैं हिंदी का शब्द शब्द को जीवन्त बनाने के लिए । फिर  इंजीनियर्स…

तमाचा मैंने मारा है , तमाचा मुझे खाना भी पड़ेगा

सुरेन्द्र शर्मा एक कमरा था जिसमें मैं रहता था माँ-बाप के संग घर बड़ा था इसलिए इस कमी को पूरा…

अनंत यात्रा पर निकल गए नेपाल के राष्ट्रकवि

स्मृति शेष: कवि माधव प्रसाद घिमिरे का 101 साल की उम्र में निधन नेपाल के राष्ट्र कवि माधव प्रसाद  घिमिरे…

‘एक शाम राहत के नाम’, मंजुल पब्लिकेशन के इंस्टाग्राम पर होगा कार्यक्रम

आज शाम इंस्टाग्राम पर शायर तथा सामाजिक एवं राजनीतिक कार्यकर्ता कुमार विश्वास की ओर से एक कार्यक्रम राहत इंदौरी की…

रहोगे तुम फिर भी अपरिभाषित चाहे जितना लिखूं

सुशील कुमार शर्मा कृष्ण तुम पर क्या लिखूं , कितना लिखूं रहोगे तुम फिर भी अपरिभाषित चाहे जितना लिखूं ।…

पाँच अगस्त बस पांच नही,यह पंचामृत कहलायेगा

पाँच अगस्त बस पांच नही, यह पंचामृत कहलायेगा! एक रामायण फिरसे अब, राम मंदिर का लिखा जाएगा!! जितना समझ रहे…

सावन की हरियाली , पक्षी का कलरव

डॉ. रजनी रंजन जमशेदपुर ( झारखंड ) हे कविवर ! कविताई तुमने छत पर से ही की होगी देखी हरियाली…

फोन पर एक सौ एक दिन काव्य गोष्ठी

लॉकडाउन में 101 दिन तक प्रतिदिन कविता लेखन और पाठ कर बनाया कीर्तिमान। प्रयागराज प्रयागराज में घूरपुर क्षेत्र के दो…

राम लखन गुप्त व सुधा कांत मिश्र की पुस्तक को मिला साहित्य सम्मान

चाकघाट ( रीवा , मध्यप्रदेश ) । साहित्य , शिक्षा एवं अध्यात्म की नगरी तीर्थराज प्रयाग की साहित्यिक संस्था तारिका…

अब, सुन बे, गुलाब, तू हरामी खानदानी

सुबह-सुबह दरवाजा खोलकर जैसे ही बाहर आया , मेरे द्वारा गमले में लगाए गए गुलाब के पौधों में से एक…