Nationalwheels

बसपा प्रमुख मायावती का ऐलान- कांग्रेस से कोई गठबंधन हीं, किसी भी राज्य में न मदद लेंगी न देंगी

बसपा प्रमुख मायावती का ऐलान- कांग्रेस से कोई गठबंधन हीं, किसी भी राज्य में न मदद लेंगी न देंगी
न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स
बसपा प्रमुख मायावती ने गठबंधन के साथी सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से इतर रुख दिखाकर स्पष्ट कर दिया है कि कांग्रेस के साथ कोई गठबंधन नहीं है. न ही वह किसी भी प्रदेश में कांग्रेस की मदद लेंगी और न ही करेंगी. बसपा मुखिया मायावती ने मंगलवार को लखनऊ में पार्टी के लोकसभा प्रभारी, नेताओं, पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं के साथ बैठक में कांग्रेस के प्रति काफी सख्त रुख अपनाया.
बसपा मुखिया मायावती ने कहा कि हम अपना रुख दोहराते हैं. आगामी लोकसभा चुनाव में हम किसी भी राज्य में कांग्रेस के साथ न तो गठबंधन करेंगे और न ही उनकी कोई भी मदद लेंगे. हालांकि, यह कहकर उन्होंने कुछ नरमी बरतने का संकेत दिया कि अगर वह (कांग्रेस) हमसे मदद मांगते हैं तो फिर हम विचार कर सकते हैं. हर राज्य के नेताओं से मायावती ने पहले तो अलग-अलग बैठक की. फिर, उसके बाद सभी को एक साथ बैठाकर पार्टी की रणनीति की जानकरी दी.

उन्होंने फिर स्पष्ट किया गया कि बसपा किसी भी राज्य में कांग्रेस पार्टी के साथ किसी भी प्रकार का कोई भी चुनावी समझौता अथवा तालमेल आदि करके यह चुनाव नहीं लड़ेगी. उन्होंने कहा कि बसपा के साथ सपा का गठबंधन आपसी सम्मान व नेक नीयती के साथ काम कर रहा है. उत्तर प्रदेश में यह परफेक्ट एलायन्स माना जा रहा है जो भाजपा को परास्त करने की क्षमता रखता है.
उन्होंने कहा कि हमारा गठबंधन सामाजिक परिवर्तन की जरूरतों को भी पूरा करता है तथा भाजपा को परास्त करने की क्षमता रखता है. उन्होंने पार्टी के लोगों को जमीनी स्तर पर काम करके पार्टी को कैडर के आधार पर तैयार करने पर बल देते हुये कहा कि बसपा एक पार्टी के साथ बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर के अधूरे कारवां को मंजिल तक पहुंचाने तथा उनके आत्म-सम्मान व स्वाभिमान का मूवमेन्ट भी है.
मायावती ने कहा कि बसपा से इस बार चुनावी गठबंधन करने के लिए कई पार्टियां काफी आतुर हैं, लेकिन थोड़े से चुनावी लाभ के लिये हमें ऐसा कोई काम नहीं करना है जो बसपा मूवमेन्ट के हित में बेहतर नहीं है. उन्होंने कहा कि हालात के बदलने में देर नहीं लगते हैं और इसीलिये पार्टी के लोगों को पूरी हिम्मत से लगातार काम करते रहने की जरूरत है.
उधर, कांग्रेस की ओर से उत्तर प्रदेश के 11 लोकसभा सीटों पर प्रत्याशियों के ऐलान के पहले तक सपा मुखिया अखिलेश यादव ने कई मौकों पर यह कहा था कि कांग्रेस भी उनके गठबंधन का हिस्सा है. हालांकि, कांग्रेस के स्थानीय नेताओं ने इसका खंडन करने में देर नहीं लगाई. बसपा प्रमुख का कांग्रेस को लेकर दिया गया बयान अखिलेश से इतर है.

 

Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *