Nationalwheels

पुलवामा के शहीदों की मदद को आगे आया इलाहाबाद विश्वविद्यालय

पुलवामा के शहीदों की मदद को आगे आया इलाहाबाद विश्वविद्यालय
न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स
पिछले दिनों जम्मू कश्मीर के पुलवामा में जो आतंकवादी घटना हुई उससे पूरा देश शोक की स्थिति में है। देश के अलग-अलग हिस्सों में शहीद वीर जवानों को लेकर गम और दुःख का माहौल है। कई संस्थाएं और हस्तियां इन शहीद परिवारों को सहारा देने की लिए आगे आई हैं। इलाहाबाद विश्वविद्यालय भी प्रयागराज के शहीद महेश कुमार के परिवार की मदद को आगे आया है।
शहीद महेश कुमार प्रयागराज के ही रहने वाले थे। उनका गांव टुडीहर, मेजा तहसील में है। वे सीआरपीफ की 118 बटालियन में राइफल मैन के तौर पर तैनात थे। 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आतंकवादी हमले में वे देश के लिए शहीद हो गए। अब इलाहाबाद विश्वविद्यालय प्रशासन शहीद महेश कुमार के परिवार की मदद के लिए आगे आया है।
विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो रतनलाल हांगलूं के निर्देश पर उनके विशेष कार्य अधिकारी डॉ चितरंजन कुमार ने शहीद परिवार से कई बार बात की। उन्होंने महेश कुमार यादव के भाई अमरेश यादव तथा पिता राजकुमार यादव से बात की । राजकुमार यादव ने उन्हें बताया कि उनके परिवार को उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से 25 लाख रुपए की सहायता राशि का चेक तो मिला है पर अभी तक किसी ने उनके परिवार के किसी सदस्य की नौकरी के लिए पहल नहीं की है। उनके परिवार के किसी सदस्य को कब नौकरी मिलेगी उन्हें इसका पता नहीं है।
शहीद महेश यादव अपने पीछे अपनी पत्नी संजू देवी और अपने दो बच्चों को छोड़ गए हैं। उनके बच्चों की उम्र 6 साल और 5 साल है। शहीद महेश कुमार के भाई का कहना है की नौकरी का स्थाई आधार मिलने से परिवार के पालन पोषण के लिए सहारा मिल जाएगा। शहीद महेश कुमार के पिता राजकुमार यादव मुंबई में ऑटो ड्राइवर हैं इसी से उनका परिवार चलता है। भाई अमरेश यादव के पास भी कोई रोजगार नहीं है। इलाहाबाद विश्वविद्यालय प्रशासन जल्द ही शहीद परिवार के किसी सदस्य को योग्यता अनुसार स्थाई नौकरी देगा।
पुलवामा हमले में उत्तर प्रदेश के बारह जवान शहीद हुए थे । जल्द ही इलाहाबाद विश्वविद्यालय इन शहीदों के परिवार से बात करेगा। अगर इन शहीद परिवारों का कोई भी सदस्य 12वीं पास है तो उसकी ग्रेजुएशन से पीएचडी तक की सारी पढ़ाई का पूरा भार इलाहाबाद विश्वविद्यालय द्वारा उठाया जाएगा।
नेशनल व्हील से बात करते हुए इलाहाबाद विश्वविद्यालय के पब्लिक रिलेशन ऑफिसर डॉक्टर चितरंजन कुमार सिंह ने कहा कि ” शहीद महेश कुमार के परिवार के किसी सदस्य को इलाहाबाद विश्वविद्यालय में स्थाई नौकरी मिल सके इसके लिए कुलपति महोदय अपनी विशेष शक्तियों का प्रयोग करेंगे। हम जल्द ही विश्वविद्यालय की एग्जीक्यूटिव काउंसिल में इस विषय को रखेंगे। पुलवामा में शहीद हुए परिवारों में से अगर कोई व्यक्ति इलाहाबाद विश्वविद्यालय में पढ़ना चाहे तो विश्वविद्यालय ग्रेजुएशन से पीएचडी तक उसका पूरा भार उठाएगा।”

 

Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *