Nationalwheels

पीएम मोदी के श्रम योगी मानधन योजना पर अखिलेश यादव ने कसा ये तंज

पीएम मोदी के श्रम योगी मानधन योजना पर अखिलेश यादव ने कसा ये तंज
न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से मंगलवार की सुबह गुजरात के अहमदाबाद में लांच की गई प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना को लेकर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने केंद्र सरकार पर तंज कसा है. हालांकि, अखिलेश यादव के तंज में यह उलाहना भी है कि लोग योजना के अंतिम समय में जुड़ना चाहेंगे और न्यूनतम रकम जमा कर पूरी रकम लेने की कोशिश करेंगे.
सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने श्रमिकों के लिए लागू की गई केंद्र की महत्वाकांक्षी योजना पर दोहरा वार किया है. उनके ट्वीट में पहला वार केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर है. अखिलेश ने लिखा कि लीजिए एक और भ्रामक शुरू कि श्रम योगी मानधन योजना में असंगठित क्षेत्र के लोगों को 18 से 40 के बीच अलग-अलग उम्र व अलग-अलग राशि रुपये 55 से 200 जमा करने पर भी 60 साल होने पर सबको रुपये 3000 मिलेंगे. अखिलेश यादव की इसके आगे की पंक्ति से ऐसा आभास हो रहा है कि वह जमाकर्ता श्रमिकों की ईमानदारी पर संदेह जता रहे हैं. इसी ट्वीट में उन्होंने लिखा है कि अगर ये भाजपाई झूठ सच है तो लोग 40 साल में ही जुड़ेंगे और रुपये 55 ही जमा करेंगे.

अखिलेश के इस ट्वीट की अंतिम पंक्ति का आशय यह निकाला जा रहा है कि जरूरतमंद लोग अधिकतम आयु वर्ग में योजना से जुड़ना चाहेंगे और न्यूनतम राशि जमा कर पूरा धन लेना चाहेंगे.

यह है योजना

महज 55 रुपये से 200 रुपये महीने भरकर 18 से 40 वर्ष का कोई भी श्रमिक 60 वर्ष की उम्र का होने पर न्यूनतम 3,000 रुपये की पेंशन का हकदार होगा. योजना के तहत जितनी रकम लाभार्थी जमा करेंगे, उतनी ही रकम केंद्र सरकार भी उनके पंजीकृत खाते में जमा करेगी. इसका लाभ लेने के लिए सड़क, दुकान, फैक्ट्री, ठेला, सफाई, अखबार, सब्जी व अन्य सामानों की फेरी लगाने वाले और चाय बेचने वाले भी कॉमन सर्विस सेंटर पर जाकर अपना पंजीकरण करा सकते हैं. सरकार के मुताबिक, 31 मार्च तक देश के एक करोड़ श्रमिकों को इससे जोड़ा जाएगा। वर्तमान में देश में कॉमन सर्विस सेंटरों की संख्या करीब तीन लाख है जो 2014 में महज 80,000 थी.

ये कहा था प्रधानमंत्री ने

गरीबी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को सीधे निशाने पर लिया है. गरीबी को मानसिक अवस्था बताने वाले उनके बयान पर मोदी ने कहा कि 55 साल तक राज करने वालों ने गरीबों और श्रमिकों के नाम पर सिर्फ राजनीति की. आधार, मोबाइल और बैंक खातों के चलते बिचौलियों की दलाली बंद हो गई है.
बिचौलियों और दलालों के हमदर्द अब परेशान हो रहे हैं. इसीलिए वे मोदी को हटाना चाहते हैं.असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के लिए ‘प्रधानमंत्री श्रमयोगी मानधन योजना’ की शुरुआत करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि गरीबी को मानसिक अवस्था बताने वालों की गलत सोच का ही परिणाम है कि आज तक श्रमिकों और गरीबों के लिए पेंशन जैसी योजना नहीं बन सकी. उन्होंने कहा कि संसद में कुछ समय पहले 12 करोड़ किसानों के सम्मान में एक योजना लाई गई थी. उसके सवा महीने में ही आज देश के 42 करोड़ श्रमिकों के लिए आजादी के बाद पहली बार श्रमिक पेंशन योजना को मूर्त रूप दे दिया गया है.
Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *