Nationalwheels

रोड शो, गंगा आरती के बाद काशी से संवाद में मोदी ने गिनाए पांच साल के ये काम

रोड शो, गंगा आरती के बाद काशी से संवाद में मोदी ने गिनाए पांच साल के ये काम
न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स
गंगा जी पर देश का पहला जलमार्ग बनना, वाराणसी में क्रूज जहाजों का चलना ये हमारे पर्यटन और व्यापार के अच्छे संकेत हैं। मां गंगा के ईमानदार सेवक हमारे मल्लाह साथियों को इसका लाभ मिलना निश्चित है: पीएम मोदी
सारनाथ में पिछले पांच साल में हुआ विकासकार्य भी अभूतपूर्व है। मैं अपने कार्यकाल के दौरान मैंने काशी के किसानों, बुनकरों और युवाओं के लिए एक ऐसे मॉडल को आत्मसात करने की कोशिश की है जो सर्वसमावेशी, सर्वस्पर्शी, सर्वहितैषी, सर्वसंतोषी और सर्वांगीण हो: पीएम मोदी
मैंने पहले भी कहा है कि बाबा की इच्छा के बगैर यहां एक पत्ता भी नहीं हिलता। मैं तो निमित्त मात्र हूं: पीएम मोदी
बाबा विश्वनाथ धाम का काम प्रगति पर है। मंदिर से मां गंगा का दर्शन और गंगा तट से बाबा का दर्शन ईश्वरीय इच्छा रही है। हर काशीवासी मुझे कहता रहता है कि देवी अहिल्याबाई होल्कर के बाद पहली बार किसी ने इस परिसर के बारे में सोचा है: पीएम मोदी
गंगा जी में मिलने वाले अनेक नालों को बंद किया जा चुका है। प्रवासी सम्मेलन के दौरान यहां आए सैकड़ों भारतवंशियों ने गंगाजल से जैसे आचमन किया, उससे साफ है कि गंगा की सफाई को लेकर अब सारे सवाल धुल रहे हैं: पीएम मोदी
हमारी विरासत, हमारी आस्था के प्रतीक बाबा विश्वनाथ और गंगा मां की सेवा का अवसर मिलना वाकई सौभाग्य है। मां गंगा को निर्मल और अविरल बनाने की दिशा में भी हम काफी आगे बढ़ गए हैं: पीएम मोदी
कनेक्टिविटी को लेकर तो हमारे विरोधी भी हमारा लोहा मानते हैं। रोडवेज से लेकर एयरवेज तक पूरे देश में अभूतपूर्व काम हो रहा है जिसकी झलक काशी में भी दिखती है: पीएम
अब काशी स्वास्थ्य सुविधाओं का भी बड़ा केंद्र बन रही है। देश के सबसे आधुनिक कैंसर अस्पतालों में से एक अस्पताल अब हमारे काशी में है। अन्य बीमारियों के इलाज के लिए भी अस्पताल बने हैं: पीएम मोदी
बाबतपुर एयरपोर्ट से शहर तक की जिस सड़क की मेैंने चर्चा की थी, आज वही सड़क आज बनारस की नई पहचान बन गई है। यहां रेलवे स्टेशनों और सड़कों को सुधारा गया है। लटके तार गायब हो रहे हैं और गंगा घाट में भी अलग ही रौनक है: पीएम मोदी
सही कहूं तो 17 मई 2014 को गंगा तट पर कुछ संकल्प मैं ले रहा था तो मन में ये सवाल जरूर था कि काशी की उम्मीद पर खरा उतर पाउंगा क्या, लेकिन आज मैं कह सकता हूं कि हम सभी के सामूहिक प्रयास और बाबा के आशीर्वाद से काशी के बदलाव को काशीवासियों समेत पूरा देश अनुभव कर रहा है: पीएम मोदी
जब मैं बहुत पहले काशी आया था तो उस समय एयरपोर्ट से शहर तक आने वाले रास्ते को देखकर बहुत पीड़ा हुई थी। शहर में पहुंचा तो बार-बार बिजली के लटकते तारों से सामना हुआ। मन में विचार उठा यहां गंदगी के ढरे क्यों हैं: पीएम मोदी
जो सपना मन में है वो पूरा हो गया ऐसा मैं कभी दवा नहीं करता हूँ लेकिन उस सपने को पूरा करने की दिशा में हमारा रास्ता और रफ़्तार सही है ये मैं ज़रूर कह सकता हूँ. काशी के विकास को लेकर हम जिस दिशा में बढ़ रहे हैं उसके तीन पहलू हैं। एक आध्यात्मिक, दूसरा व्यवहारिक और तीसरा मानवीय। ये अलग-अलग भी हैं और एक दूसरे से जुड़े भी हैं: पीएम मोदी
मैं मानता हूं कि इस समय भारत भी तपस्या के दौर में है। वो खुद को साध रहा है और इस साधना में हम सब एक सेवक हैं, साधक हैं. समर्थ, सम्पन्न और सुखी भारत के लिए विकास के साथ-साथ सुरक्षा अहम है। साथियों, मेरा ये मत रहा है कि परिवर्तन तभी सार्थक और स्थायी होता है, जब जन-मन बदलता है। इस जन-मन को साधने के लिए तपस्या करनी पड़ती है: पीएम मोदी
आज आप देखिए… पहले सरकार तक पहुंचना सिर्फ खास लोगों के लिए संभव होता था, आज सामान्य व्यक्ति भी सरकार से सीधे संवाद कर रहा है। आज सामान्य मानवी को विश्वास हुआ है कि मंत्री, सरकार और प्रधानमंत्री तक उसकी पहुंच है: पीएम
इसी तरह पद्म पुरस्कार की कहानी है। ये पुरस्कार पहले भी दिए जाते थे, लेेकिन पता भी नहीं चलता था। बहुत बड़ा बदलाव हमने किया। गांव-गांव से नाम मंगाए जिसके परिणामस्वरूप 50 हजार नाम आए. किन-किन लोगों को पद्म पुरस्कार मिले हैं, ये पूरी दुनिया ने देखा है। वाराणसी की मिट्टी के लोकगायक हीरालाल यादव जी जैसे समर्पित साधकों को पुरस्कार प्राप्त करते जिसने भी देखा, उनकी आंखों में व्यवस्था परिवर्तन का अहसास देखा जा सकता था: पीएम मोदी
इसी तरह महामना और अटल जी जैसे भक्तों को भारत रत्न देकर सम्मानित करने का सौभाग्य भी हम लोगों को मिला. लोगों को आश्चर्य हो रहा था कि ऐसे लोग पद्म पुरस्कार लेने आए थे, जिनके पैरों में फटी हुई चप्पल थी: पीएम मोदी
नए भारत में हमने, प्रक्रिया में उलझे परिणामों की स्थिति को बदला है। हमने सामान्य मानवी को ऐसी व्यवस्था देने की कोशिश की है जहां उसको जूझना ना पड़े, उलझना ना पड़े। इसमें सरकारी प्रक्रियाएं भी हैं, भ्रष्टाचार से लड़ाई भी है और कमाई के साधन भी हैं: पीएम मोदी
Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *