Nationalwheels

हमसफर के बाद #VandeBharat ट्रेन में भी लगेंगे स्लीपर श्रेणी के कोच, कम किराए में कराएगी सफर

हमसफर के बाद #VandeBharat ट्रेन में भी लगेंगे स्लीपर श्रेणी के कोच, कम किराए में कराएगी सफर
न्यूज डेस्क, नेशनलव्हील्स
मोदी सरकार देश की पहली सेमी हाईस्पीड ट्रेन को सिर्फ वीआईपी यात्रियों के सफर तक ही सीमित नहीं रखेगी. सरकार वीआईपी ट्रेन का आनंद आम यात्रियों को भी देना चाह रही है. इसके लिए रेल मंत्रालय ने कोशिशें शुरू कर दी हैं. रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव ने कहा है कि स्लीपर श्रेणी के संस्करणों वाली ऐसी 40 ट्रेनें 2022 तक तैयार हो जाएंगी. नए विशिष्‍ट निर्देशों के अनुसार काम किया जा रहा है. इस काम में पूरी तरह पारदर्शिता होगी. यह काम मेक इन इंडिया प्रोजेक्‍ट का हिस्‍सा होगा.
गौरतलब है कि पिछले दिनों रेलवे ने पूरी तरह वातानुकूलित कोचों वाली हमसफर एक्सप्रेस में भी स्लीपर श्रेणी के कोचों को लगाने की अनुमति दे दी है. इलाहाबाद जंक्शन से आनंद विहार/नई दिल्ली के बीच चलने वाली हमसफर एक्सप्रेस से इसकी शुरुआत भी हो चुकी है. जल्द ही कुछ अन्य हमसफर एक्सप्रेस में भी स्लीपर श्रेणी के कोच दिखने लगेंगे. यही नहीं, शुरुआती दौर में दूरंतो एक्सप्रेस को भी पूरी तरह वातानुकूलित ट्रेन के रूप में चलाया गया था लेकिन इलाहाबाद जंक्शन से नई दिल्ली के बीच चलाई गई दूरंतो एक्सप्रेस में स्लीपर श्रेणी के कोच जोड़े गए. इसके बाद उन सभी दूरंतो एक्सप्रेस में स्लीपर कोच जोड़े गए जिनमें ऑक्यूपेंसी कम थी. बाद में नॉन स्टॉप दूरंतो एक्सप्रेस के ठहराव भी दिए गए.
हालांकि, स्लीपर श्रेणी वाली वंदे भारत एक्सप्रेस की सुविधाओं का ऐलान अभी नहीं किया गया है लेकिन यह तय है कि इन स्लीपर श्रेणी की वंदेभारत एक्सप्रेस की गति में कोई फर्क नहीं आएगा. हां, यह जरूर संभव है कि देश में रेलवे के ज्यादातर रूट वर्तमान में अधिकतम 100 से 110 किमी प्रति घंटे की गति वाले ही हैं. केवल राजधानी एक्सप्रेस वाले रूट ही 130 किमी की गति पर निर्धारित हैं. ऐसे में कम समय में यात्रा अवधि का पूरा होना ट्रेन की रूट की फिटनेस पर निर्भर करेगा.
उधर, वंदे भारत का अपग्रेडेट वर्जन इसी नवरात्र में नई दिल्ली से श्रीवैष्णो धाम कटड़ा के बीच शुरू होने जा रही है. रेल मंत्री पीयुष गोयल ने बुधवार को ट्वीटर पर वीडियो अपलोड कर इसकी जानकारी सार्वजनिक की है. हालांकि, रेल मंत्री तारीख का ऐलान नहीं किया है लेकिन माना जा रहा है कि नवरात्र के पहले दो-तीन दिनों में ही इसे शुरू कर दिया जाएगा. रेलवे ने नई दिल्ली से कटड़ा तक वंदे भारत एक्सप्रेस का ट्रायल भी पूरा कर लिया है. रेल मंत्री ने करनाल स्टेशन पर ट्रायल के दौरान रिकार्ड किए गए वीडियो को अपलोड किया है.

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव ने मंगलवार को नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर स्वच्छता ही सेवा है, कार्यक्रम के दौरान कहा था कि देश की दूसरी वंदेभारत नई दिल्ली से कटड़ा के बीच जल्द शुरू कर दी जाएगी. नई दिल्ली से वाराणसी के बीच चल रही पहली वंदे भारत एक्सप्रेस इस सीरीज की पहली ट्रेन है. दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस में यात्री सुविधाओं को काफी अपग्रेड किया गया है. इसके इंटीरियर डिजाइन पर भी काफी ध्यान दिया गया है.
चेयरमैन विनोद कुमार यादव ने कहा है कि दिल्‍ली-कटड़ा  वंदे भारत ट्रेन का ट्रायल पूरा कर लिया गया है. यह ट्रेन नई दिल्ली से कटड़ा और कटड़ा से नई दिल्ली से बीच सप्ताह में 5 दिन चलेगी. उन्‍होंने कहा कि देश के व्‍यस्‍त रूटों को अपग्रेड किया जा रहा है. दिल्‍ली-मुंबई और दिल्‍ली-हावड़ा रूट पर दिसंबर 2021 तक 160 किमी प्रति घंटे की गति से ट्रेनों को चलाया जाएगा.

8 घंटे का होगा यात्रा समय, अभी 12 घंटे लगते हैं

इस तेज रफ्तार ट्रेन के कारण दिल्‍ली और कटड़ा के बीच यात्रा का समय होगा. वर्तमान में ट्रेन से नई दिल्ली से वैष्‍णो देवी मंदिर की यात्रा के लिए 12 घंटे का समय लगता है, लेकिन इस ट्रेन के कारण सिर्फ 8 घंटे का समय लगेगा. उन्होंने कहा कि दिल्ली-कटड़ा के बीच चलने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस में कुछ संशोधन किए गए हैं. इसमें अधिक आरामदायक सीटों होने के साथ ही पैंट्री में अधिक जगह होगी. कम ऊर्जा खपत और कम वजन होने के चलते यह डिब्बे स्लीपर कोच के लिए भी फिट होंगे. रेलवे बोर्ड ने दिल्ली-कटड़ा मार्ग को वैष्णो देवी मंदिर की तीर्थयात्रा के कारण सबसे व्‍यस्‍त रूट को भुनाने के लिए चुना था.

औसत रफ्तार होगी 82 किलोमीटर प्रति घंटा

वंदे भारत की अधिकतम रफ्तार 130 किलोमीटर, जबकि औसत रफ्तार 82 किमी प्रति घंटा होगी. दिल्ली से लुधियाना के बीच ये ट्रेन 120-130 की रफ्तार से चलेगी. लुधियाना से कटड़ा के बीच इसकी रफ्तार 75-80 किलोमीटर ही रहेगी. इस तरह दिल्ली-कटड़ा का पूरा सफर 82 किलोमीटर प्रति घंटा की औसत रफ्तार से पूरा होगा. संरक्षा आयुक्त ने लुधियाना और कटड़ा के बीच ट्रैक को 130 किमी की स्पीड के लिए अनुपयुक्त बताया है और सुधार सुझाव दिए हैं. यही वजह है कि लुधियाना-कटड़ा के बीच ट्रेन को सिर्फ 75 किमी की रफ्तार पर चलाने का फैसला हुआ है.

ट्रेन में होंगी 1128 सीटें

दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस में 16 कोच लगाए जाएंगे. इसमें बैठने के लिए कुल 1128 सीटें हैं. इसमें सामान्य चेयर कार के 14 डब्बे होंगे, जिनमें 936 सीटें होंगी. जबकि दो एग्जीक्यूटिव चेयर कार में 104 सीट होंगी. नई दिल्ली से कटरा तक का चेयरकार का किराया करीब 1600 रुपये होगा. जबकि एग्जीक्यूटिव चेयर कार का किराया 3000 रुपये के आसपास रखा गया है.

ये होंगे स्टापेज

दिल्ली- कटड़ा वंदे भारत नई दिल्ली से सुबह 6 बजे चलेगी और दोपहर 2 बजे श्रीमाता वैष्णो देवी कटड़ा स्टेशन पहुंचेगी. वापसी में यह ट्रेन दोपहर बाद 3 बजे कटड़ा से चलेगी और रात 11 बजे नई दिल्ली पहुंचेगी. बीच में अंबाला कैंट, लुधियाना और जम्मू तवी में इसके स्टापेज होंगे.
Nationalwheels India News YouTube channel is now active. Please subscribe here

(आप हमें फेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और लिंकडिन पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *